Sunday, Apr 18, 2021
-->
again-the-disunity-of-disgruntled-leaders-of-g23-questions-on-working-of-gandhi-family-albsnt

कांग्रेस में कलह! फिर से लगा G23 के असंतुष्ट नेताओं का जमघट, गांधी परिवार के कार्यशैली पर सवाल

  • Updated on 2/27/2021

नई दिल्ली/कुमार आलोक भास्कर। राजनीति में अक्सर देखा गया है कि जब पार्टी के शीर्ष नेता अपने ही वरिष्ठ नेताओं के सलाह की अनदेखी करने लगते है तो कल तक अंदरखाने में दी जा रही सलाह पब्लिक मंच से दी जाने लगती है। इससे कांग्रेस (Congress) भी अपवाद नहीं है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं की जमघट आज जम्मू में दिखने को मिला। जब आनंद शर्मा से लेकर कपिल सिब्बल आदि यानी कांग्रेस के G-23 के नेताओं ने दिल्ली से जम्मू के लिये उड़ान भरी तो हलचल मच गई। वो भी इस मंच पर कट्टर कांग्रेस नेताओं के भगवा साफा पहनने पर भी अटकलें तेज रहीं।

Farm Bill के खिलाफ कांग्रेस का 'हल्ला बोल', कृषि मंत्री के घर के बाहर किया प्रदर्शन

गुलाम नबी के नेतृत्व में जुटे कांग्रेसी

बता दें कि हाल ही में राज्यसभा से रिटायर होने वाले दिग्गज नेता गुलाम नबी आजाद ने शांति सम्मेलन का आयोजन किया था। जिससे गांधी परिवार के तमाम विरोधी नेताओं ने एकजुटता जाहिर करके सोनिया,राहुल गांधी को इशारों ही इशारों में संदेश भी दे दिया। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने खुलकर सोनिया-गांधी पर प्रहार करते हुए कहा कि पार्टी कमजोर हुई-यह कहने और स्वीकार करने में अब हमें कोई गुरेज नहीं है। उन्होंने आश्चर्य व्यक्त किया कि गुलाम नबी आजाद जैसे वरिष्ठ नेता के प्रतिभा का लाभ पार्टी नहीं ले पा रही है। उन्होंने तो आजाद की तुलना विमान में तकनीक सहायक से कर डाली जिसके बिना विमान को चलाना मुश्किल होता है। 

रामदास आठवले ने मयावती को दिया RPI आने का न्यौता, किया इस पद का ऑफर

जब पीएम मोदी हुए...आजाद के लिये भावुक

वहीं इस अवसर पर कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने कहा कि वे लोग हमेशा से कांग्रेस के सच्चे सिपाही रहे है। वे लोग हमेशा से पार्टी को मजबूत देखना चाहते है। वहीं राजब्बर ने G-23 का मतलब बताते हुए कहा कि गांधी-23 है। जो हमेशा से आगे ले जाने के लिये प्रतिबद्ध है। जबकि गुलाम नबी आजाद ने इस अवसर पर कहा कि वे राजनीति से रिटायर नहीं हो रहे है। उन्होंने संकेत दिया कि पार्टी कोई भी जिम्मेदारी देगी तो उसे निश्चित रुप से निर्वहन करेंगे। उन्होंने इस बात को खारिज कर दिया कि वे लोग कांग्रेस में गांधी परिवार के विरोधी है। मालूम हो कि अभी हाल ही में गुलाम नबी आजाद के रिटायरमेंट के समय पीएम नरेंद्र मोदी ने जिस तरह से भावुक विदाई दी,वो चर्चा में रही है।

ये भी पढ़ें:

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.