Saturday, Oct 31, 2020

Live Updates: Unlock 5- Day 31

Last Updated: Sat Oct 31 2020 03:22 PM

corona virus

Total Cases

8,139,081

Recovered

7,432,397

Deaths

121,699

  • INDIA8,139,081
  • MAHARASTRA1,672,858
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA820,398
  • TAMIL NADU722,011
  • UTTAR PRADESH480,082
  • KERALA425,123
  • NEW DELHI381,644
  • WEST BENGAL369,671
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • ODISHA290,116
  • TELANGANA238,632
  • BIHAR215,964
  • ASSAM206,015
  • RAJASTHAN195,213
  • CHHATTISGARH185,306
  • CHANDIGARH183,588
  • GUJARAT172,009
  • MADHYA PRADESH170,690
  • HARYANA165,467
  • PUNJAB133,158
  • JHARKHAND101,287
  • JAMMU & KASHMIR94,330
  • UTTARAKHAND61,915
  • GOA43,416
  • PUDUCHERRY34,908
  • TRIPURA30,660
  • HIMACHAL PRADESH21,577
  • MANIPUR18,272
  • MEGHALAYA8,677
  • NAGALAND8,296
  • LADAKH5,840
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,305
  • SIKKIM3,863
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,246
  • MIZORAM2,694
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
agriculture-bill-modi-government-farmer-protest-rakesh-prsgnt

कृषि बिल के खिलाफ सड़क पर उतरेंगे किसान, 25 सितंबर से शुरू होगा देशव्यापी प्रदर्शन

  • Updated on 9/21/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कृषि सुधार से जुड़े तीन विधयकों के राज्यसभा (RajyaSabha) में पास होने के साथ ही इस बिल को लेकर देशभर के किसानों समेत कई किसान संगठन सरकार के विरोध में आ गए हैं। उत्तर प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों पर सोमवार को भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) ने प्रदर्शन किया। 

इस बारे में भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि सरकार बहुमत के नशे में चूर है। ये पहली दुर्भाग्यपूर्ण घटना है कि किसानों से जुड़े इन कृषि विधेयकों को पारित करते समय कोई चर्चा नहीं की गई और न ही इस पर किसी को सवाल करने का अधिकार दिया गया। यह भारत के लोकतन्त्र के अध्याय में काला दिन है।

राकेश टिकैत ने चेतावनी दी कि भारतीय किसान यूनियन इस अपने हक की लड़ाई लड़ेगा और अब पीछे हटने वाला नहीं है। किसान इन बिलों के विरोध में 25 तारीख को पूरे देश से सड़कों पर उतरेगा और  जब तक कोई समझौता नहीं होगा तब तक पूरे देश का किसान सड़कों पर रहेगा।

RSS से जुड़े सगंठन ने किया कृषि विधेयक का विरोध, कहा- नौकरशाह बैठें हैं, नहीं पता जमीनी हकीकत

क्यों हो रहा है विरोध 
दरअसल, किसान चाहते हैं कि सरकार एमएसपी (MSP- Minimum Support Price) तय करते वक्त उत्पादक की लागत, मांग-आपूर्ति, इनपुट आउटपुट मूल्य में समानता, दाम में बदलाव जैसी शर्तों और नियमों को बना रहने दे। लेकिन सरकार इसे बदल रही है भले ही वो इस बात को न माने लेकिन किसान सरकार के इस बिल से बेहद नाराज हैं और अनुमान है कि ये मामला और आगे जाएगा।

कृषि विधेयक का विरोध कर फंसी कांग्रेस, बिल के समर्थन में राहुल गांधी का पुराना वीडियो हुआ वायरल

क्या है ये बिल
इस विधयक के पास होने से किसान उपज व्यांपार एवं वाणिज्ये (संवर्धन एवं सुविधा) विधेयक, 2020 में किसान और व्या पारी विभिन्नज राज्यय कृषि उपज विपणन विधानों के तहत अधिसूचित बाजारों के भौतिक परिसरों या सम-बाजारों से बाहर पारदर्शी और बाधारहित प्रतिस्प र्धी वैकल्पिक व्याापार चैनलों के माध्यहम से किसानों की उपज की खरीद और बिक्री लाभदायक मूल्योंं पर करने से संबंधित चयन की सुविधा का लाभ उठा सकेंगे।

किसान (सशक्तिकरण एवं संरक्षण) का मूल्य आश्वांसन अनुबंध एवं कृषि सेवाएं विधेयक, 2020 में कृषि समझौतों पर राष्ट्री य ढांचे के लिए प्रावधान है, जो किसानों को कृषि व्यापार फर्मों, प्रोसेसरों, थोक विक्रेताओं, निर्यातकों या बड़े खुदरा विक्रेताओं के साथ कृषि सेवाओं और एक उचित तथा पारदर्शी तरीके से आपसी सहमति वाला लाभदायक मूल्यल ढांचा उपलब्ध कराता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.