Friday, May 07, 2021
-->
agriculture-minister-tomar-again-urged-farmers-said-talk-out-solve-albsnt

कृषि मंत्री तोमर ने फिर से किसानों से किया आग्रह, कहा- बातचीत करकें निकालें हल

  • Updated on 12/25/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन थमने का नाम नहीं ले रहा है। भले ही केंद्र सरकार के सभी काबिना मंत्री किसान चौपाल में किसानों को फायदा गिनाते-गिनाते थक नहीं रहे है। वहीं पीएम नरेंद्र मोदी ने भी आज मोर्चा संभाला। उनके शासनकाल में किसानों को पहुंचे फायदे के बारे में विस्तार से जानकारी दी। कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर ने एक बार फिर किसान संगठन से जुड़े नेताओं से बातचीत से रास्ता निकालने का सुझाव दिया है।

नए कृषि कानूनों को लेकर BJP पर भड़के केजरीवाल, कहा- इनसे ढेरों नुकसान और एक भी फायदा नहीं

उन्होंने आज कहा है कि उन्हें उम्मीद है कि किसान अभी-भी तीनों कृषि कानून को भली-भांति समझने की कोशिश करेंगे। ताकि समस्या का समाधान निकल सकें। तोमर ने कहा कि दरअसल पंजाब के किसानों के मन में कुछ गलतफहमी है,जिसे समय रहते दूर किया जाना चाहिये। उन्होंने प्रदर्शन छोड़कर वार्ता के लिए आगे आने का निमंत्रण दिया।   

किसान चौपाल: दिल्ली में शाह,राजनाथ ने किया संबोधित,निशाने पर रहा विपक्ष

तोमर ने कहा कि किसान नए कानूनों के महत्व को समझेंगे और समाधान पर पहुंचेंगे। बता दें कि  नए कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग को लेकर विभिन्न राज्यों के हजारों किसान और उनके परिजन करीब एक महीने से दिल्ली की विभिन्न सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे हैं। अभी तक केंद्र और 40 किसान संघों के बीच पांच दौर की औपचारिक वार्ता बेनतीजा रही है।

आंदोलन के बीच किसानों को मोदी सरकार का तोहफा, क्या बनेगी बात?

सरकार ने किसानों को दो बार पत्र लिखकर अगले दौर की बातचीत उनके हिसाब से तय तारीख पर करने के लिए न्योता भेजा है। आंदोलनकारी किसान समूहों का कहना है कि नए कानूनों से न्यूनतम समर्थन मूल्य का सुरक्षा तंत्र समाप्त हो जाएगा, मंडी व्यवस्था समाप्त हो जाएगी और वे बड़े कॉर्पोरेटों की दया पर निर्भर हो जाएंगे।      सरकार कह रही है कि उनकी आशंका गलत है।

ये भी पढ़ें...

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.