Sunday, Apr 18, 2021
-->
agriculture minister writes letter guarantees to protect farmers interests albsnt

कृषि मंत्री ने लिखा खुला पत्र, विपक्ष पर प्रहार तो किसानों को हितों की रक्षा की दी गारंटी

  • Updated on 12/17/2020

नई दिल्ली/कुमार आलोक भास्कर। कृषि कानून को लेकर किसान और केंद्र सरकार आमने-सामने खड़ी है। पिछले 22 दिन से भले ही पांच दौर की बातचीत सरकार के साथ किसान संगठन से जुड़े नेताओं की हुई हो लेकिन कोई रास्ता निकलता नहीं दिख रहा है। इस बीच केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर (Narendra Tomar) ने एक बड़ी पहल की है। उन्होंने किसानों के नाम खुला पत्र जारी किया है,जिसमें सभी तरह के आशंका को दूर करने का दावा किया गया है।

किसान आंदोलन पर बोले CJI- किसी शहर को बंधक नहीं बना सकते

किसानों को दिया आश्वासन

बता दें कि नरेंद्र तोमर ने इस पत्र में किसानों को आश्वासन दिया है कि न तो एमएसपी खत्म होगी और न ही मंडियां बंद होगी। वहीं उन्होंने कॉरपोरेट घरानों के किसानों के जमीन छिनने को भी कोरी कल्पना करार देते हुए खारिज कर दिया है। उन्होंने साफ-साफ लिखा कि हर हाल में किसानों के हितों की रक्षा की जाएगी। कभी-भी किसानों के एक इंच भी जमीन नहीं लिये जा सकते। केंद्र में बैठी मोदी सरकार किसानों के हित की रक्षा के लिये प्रतिबद्ध है। उन्होंने अपने पत्र में विपक्षी दलों को निशानों पर लिया है।

सिंघू बॉर्डर पर बैठे किसानों का SC में केजरीवाल सरकार ने किया मजबूती से समर्थन

विपक्ष के बहकावें में न आने की सलाह

कृषि मंत्री ने इस बात पर अफसोस जाहिर किया कि किसान संगठन विपक्ष के बहकावे में आ गए है। यह वहीं विपक्षी दल है जो कभी इस देश के छात्रों का सहारा लेते तो कभी महिलाओं की आड़ में आंदोलन को चलाते रहते है। लेकिन जब उन्हें निराशा हाथ लगती है तो अब किसानों को बहकाने के लिये उन्हें अपने षडयंत्र का हिस्सा बना लिये है। जिसकी जितनी निंदा की जाए वो उतनी कम है। उन्होंने इस बात पर आश्चर्य जताया कि जो कांग्रेस स्वामीनाथन रिपोर्ट को दबाकर रखी हुई थी,अब वो किसानों का सबसे बड़ा हितेषी बनता दिखाना चाहता है।

टीकरी बॉर्डर से सटे गांवों के किसान आए कृषि कानूनों के समर्थन में, कही ये बात

मोदी सरकार करेगी हितों की रक्षा

उन्होंने कहा कि कांग्रेस हो या आप पार्टी या फिर अकाली दल सभी ने किसानों से पहले वायदा किया कि उन्हें मंडियों के अलावा उपज को बेचने का अधिकार दिला कर रहेंगे। लेकिन अब देश जानना चाहता है कि आखिर क्यों अब ये लोग यू टर्न लिया है। कृषि मंत्री ने किसानों को कहा कि वे लिखित में आश्वासन देना चाहते है कि हर हाल में उनके हितों की रक्षा की जाएगी। 

ये भी पढ़ें-

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.