Friday, Oct 07, 2022
-->
aiims puts report in cbi court on sushant rajput death medical report rksnt

सुशांत मौत मामले में मेडिकल टीम की रिपोर्ट पर AIIMS ने गेंद CBI के पाले में डाली

  • Updated on 10/5/2020

 

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) ने सोमवार को कहा कि मेडिकल बोर्ड ने अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत पर अपनी रिपोर्ट केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) को सौंप दी है और उसके बारे में कोई भी सूचना इस केंद्रीय जांच एजेंसी से ली जाए।  एम्स के अपराध विज्ञान विभाग के प्रमुख डॉ. सुधीर गुप्ता ने पिछले सप्ताह कहा था कि मेडिकल बोर्ड ने राजपूत की मौत के विषय में हत्या से इनकार किया है और इसे ‘फांसी लगाकर आत्महत्या’ करार दिया है। 

हाथरस रेप मामला : भाजपा के पूर्व विधायक के घर पर जुटी सैकड़ों की भीड़

 सीबीआई को दी अपनी निर्णायक चिकित्सा-कानूनी राय में छह सदस्यीय मेडिकल दल ने ‘जहर देने और गला घोंटने’ के दावे को खारिज कर दिया है और गुप्ता ने कहा कि इस दल को विसरा में जहर या ड्रग का कोई अंश नहीं मिला। हालांकि सोमवार को एम्स ने अपने बयान में कहा, ‘‘ नयी दिल्ली के एम्स के फोरेंसिक मेडिसिन एंड टॉक्सीकॉलोजी विभाग के प्रमुख डॉ. सुधीर गुप्ता ने एक मेडिकल बोर्ड बनाया था क्योंकि सीबीआई ने उनसे सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में विशेषज्ञों की राय प्रदान करने का अनुरोध किया था।’’ 

एम्स ने कहा, ‘‘ मेडिकल बोर्ड ने अपनी रिपोर्ट सीधे केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो को सौंप दी जैसा कि जरूरी था। कानूनी विषय होने के कारण मेडिकल बोर्ड द्वारा सौंपी गयी रिपोर्ट की कोई भी जानकारी सीबीआई से लेनी होगी।’’  यह बयान मीडिया की उन खबरों के बाद आया है जिनमें हत्या से इनकार संबंधी मेडिकल बोर्ड की जांच रिपोर्ट और डॉ. गुप्ता के बयान पर सवाल खड़ा किया गया। 

AAP नेता संजय सिंह पर हाथरस में फेंकी गई स्याही, AAP कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज

राजपूत के परिवार के वकील विकास सिंह ने रविवार को कहा कि वह सीबीआई को सौंपी गयी एम्स की चिकित्सा कानूनी राय से बहुत ज्यादा परेशान हैं और वह जांच एजेंसी के प्रमुख से इस मामले में नयी फोरेंसिक टीम बनाने का अनुरोध करेंगे।उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘ कैसे एम्स की टीम बिना शव के निर्णायक रिपोर्ट दे सकती है और खासकर (मुम्बई के) कूपर अस्पताल द्वारा किये गये घटिया पोस्टमार्टम पर, जिसमें मृत्यु के समय का जिक्र नहीं है।’’

शनिवार को डॉ. गुप्ता ने कहा था, ‘‘ यह फांसी लगाकर आत्महत्या का मामला है। हमने केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो को अपनी निर्णायक रिपोर्ट सौंप दी है।’’ उन्होंने कहा कि फांसी के सिवा शरीर पर कोई जख्म नहीं है और संघर्ष का भी निशान नहीं है। उन्होंने कहा कि गले पर दबने का निशान फांसी से मेल खाता है। डॉ. गुप्ता ने पीटीआई-भाषा से कहा था कि डॉक्टरों की टीम को विसरा में जहर या ड्रग का कोई अंश नहीं मिला। 

पीपीपी मॉडल के जरिए चिड़ियाघरों के निजीकरण की तैयारी में जुटी मोदी सरकार!

हालांकि उन्होंने कुछ और बताने से यह कहते हुए मना कर दिया कि यह अदालत के समक्ष विचाराधीन है। राजपूत (34) 14 जून को मुम्बई के उपनगरीय क्षेत्र बांद्रा में अपने अपार्टमेंट में मृत पाये गये थे। सीबीआई ने बिहार पुलिस से जांच अपने हाथों में ली थी। पटना में राजपूत के पिता के के सिंह ने राजपूत की गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती और उसके परिवार के खिलाफ आत्महत्या के लिए कथित रूप से उकसाने का मामला दर्ज कराया था। 

मप्र उपचुनाव से पहले नये कृषि कानूनों के खिलाफ किसान संगठनों ने खोला मोर्चा

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.