Tuesday, Oct 26, 2021
-->
AIMIM Asaduddin Owaisi jibe BJP will replace Gandhi declare Savarkar as Father of Nation rkdsnt

ओवैसी का भाजपा पर तंज, बोले - गांधी को हटाकर सावरकर को राष्ट्रपिता घोषित कर देंगे वे

  • Updated on 10/13/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। विपक्ष के कुछ नेताओं ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा महात्मा गांधी और वीर सावरकर के संदर्भ में की गई एक टिप्पणी को लेकर बुधवार को उन पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि वह ‘इतिहास को फिर से लिखने की कोशिश कर रहे हैं।’ सिंह ने मंगलवार को कहा था कि महात्मा गांधी के कहने पर वीर सावरकर ने अंग्रेजी शासन को दया याचिकाएं दी थीं। 

वीर सावरकर हमेशा हमारे आदर्श रहेंगे, लेकिन BJP बताए भारत रत्न कब देगी : संजय राउत

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश और एआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन औवैसी ने महात्मा गांधी द्वारा से 25 जून, 1920 को सावरकर के भाई को एक मामले में लिखे गए पत्र की प्रति ट्विटर पर साझा की और आरोप लगाया कि भाजपा के वरिष्ठ नेता राजनाथ सिंह गांधी द्वारा लिखी गई बात को तोड़-मरोड़कर पेश कर रहे हैं। 

नरेंद्र गिरि मामले में बढ़ सकती हैं आनंद गिरि की मुश्किलें, : CBI ने पॉलीग्राफ टेस्ट की मांगी इजाजत

रमेश ने कहा, ‘‘राजनाथ सिंह जी मोदी सरकार की कुछ गंभीर और शालीन लोगों में से एक हैं। परंतु लगता है कि वह भी इतिहास के पुनर्लेखन की आरएसएस की आदत से मुक्त नहीं हो सके हैं। उन्होंने महात्मा गांधी ने 25 जनवरी, 1920 को जो लिखा था, उसे अलग रूप से पेश किया है।’’ 

आजादी के बाद से सावरकर को बदनाम करने की मुहिम से परेशान RSS चीफ मोहन भागवत

 

आर्यन खान ड्रग्स केस में नवाब मलिक के बाद शरद पवार NCB के खिलाफ खोला मोर्चा

ओवैसी ने कहा कि सावरकर की ओर से पहली दया याचिका 1911 में जेल जाने के छह महीनों बाद दी गई थी और उस समय महात्मा गांधी दक्षिण अफ्रीका में थे। इसके बाद सावरकर ने 1913-14 में दया याचिका दी। उन्होंने कहा कि वे गलत इतिहास पेश कर रहे हैं। अगर ऐसा ही जारी रहा तो वे महात्मा गांधी को हटाकर सावरकर को देश का राष्ट्रपिता घोषित कर देंगे। सावरकर महात्मा गांधी की हत्या में आरोपी थे और यह जस्टिस जीवन लाल कपूर की जांच में पाया गया।

वहीं, सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने तंज भरा ट्वीट किया है। वह लिखते हैं, 'हां राजनाथ जी। जैसै गांधीजी ने गोडसे से उन्हें शूट करने को कहा था!'

 लखीमपुर मामले में आरोपी आशीष का दोस्त अंकित दास गिरफ्तार, SIT की पूछताछ जारी 

भाजपा सांसद राकेश सिन्हा ने सावरकर का बचाव करते हुए ट्वीट कर कहा, ‘‘कांग्रेस सावरकर जी का विरोध करती है जो ब्रिटिश प्रशासन के साथ कभी नहीं जुड़े और मातृभूमि के लिए सर्वोच्च बलिदान का उदाहरण प्रस्तुत किया। बहरहाल, कुछ लोग माउंटबेटन के घर पर नियमित रूप से रात्रिभोज करते थे।’’ भाजपा के आईटी प्रकोष्ठ के प्रमुख अमित मालवीय ने सावरकर के बारे में गांधी की एक टिप्पणी को उद्धृत करते हुए कहा, ‘‘वह बहुत समझदार हैं। वह बहादुर हैं, वह देशभक्त हैं। मौजूदा सरकार में निहित बुराई को उन्होंने मुझसे पहले देख लिया था। वह भारत से बहुत प्रेम करने के कारण अंडमान में हैं। वह सरकार में वह बड़े पद पर आसीन रहे होते।’’ 

हत्या मामला : कोर्ट ने तय की गुरमीत राम रहीम की सजा पर फैसले की अगली तारीख

भारत के खिलाफ मानवाधिकार उल्लंघन के झूठे आरोप लगाना आम हुआ : NHRC चीफ जस्टिस मिश्रा

राजनाथ सिंह ने मंगलवार को कहा था कि राष्ट्र नायकों के व्यक्तित्व एवं कृतित्व के बारे में वाद-प्रतिवाद हो सकते हैं लेकिन विचारधारा के चश्मे से देखकर वीर सावरकर के योगदान की उपेक्षा करना और उन्हें अपमानित करना क्षमा योग्य और न्यायसंगत नहीं है। राजनाथ सिंह ने उदय माहूरकर और चिरायु पंडित की पुस्तक ‘‘वीर सावरकर हु कुड हैव प्रीवेंटेड पार्टिशन’’ के विमोचन कार्यक्रम में यह बात कही । उन्होंने यह भी कहा था कि महात्मा गांधी के कहने पर सावरकर ने अंग्रेजों के समक्ष दया याचिका दी थी ।

comments

.
.
.
.
.