Sunday, Feb 05, 2023
-->
aisa-said-jnu-has-banned-the-registration-of-activists

आइसा ने कहा, जेएनयू ने एक्टिविस्टों के रजिस्ट्रेशन पर रोक लगाई

  • Updated on 9/6/2022

नई दिल्ली। टीम डिजिटल। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में छात्र संगठन आइसा द्वारा वर्तमान कुलपति शांतिश्री धुलीपुड़ी पंडित पर कौशिक राज और सिमोन जोया खान सहित कई एक्टिविस्टों के रजिस्ट्रेशन पर रोक लगाने का आरोप लगाया गया है। आइसा का कहना है कि जेएनयू के पूर्व वीसी जगदीश कुमार की तरह ही वर्तमान वीसी भी विद्यार्थियों के प्रताडऩा और शोषण की नीति को बरकरार रखे हुए हैं। 
पति ने दहेज के लिए पत्नी को जलाया, डीसीडब्ल्यू ने कहा जल्द हो कार्रवाई

मानसून सत्र 2022 के रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया जेएनयू प्रशासन ने रोकी : आइसा
आइसा का कहना है कि साल 2018 में छात्र आंदोलन में भागीदारी करने वाले बड़ी संख्या में छात्र एक्टिविस्टों पर 10 से 15 हजार तक का भारी जुर्माना लगाया गया है। साथ ही उनके मानसून सत्र 2022 के रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया पर रोक भी लगाई गई है। यह प्रक्रिया उन्हीं कुलपति जगदीश कुमार के शासनकाल में शुरू हुई जो अभी यूजीसी के चेयरपर्सन पद पर है। दर्जनों छात्रों को बेबुनियाद व झूठे केसों का पुलिंदा सौंपा जा रहा है। जैसे पूरे देश में अभी विपक्ष को बुलडोजर, ईडी, सीबीआई या एनसीबी का सहारा लेकर चुप करवाया जा रहा है। आइसा का कहना है कि आखिरकार प्रॉक्टर ऑफिस को 4-5 साल क्यों लगे कौशिक राज पर विरोध प्रदर्शन के लिए जुर्माना लगाने के लिए जिसमें वो मौजूद भी नहीं था। आइसा ने मांग करते हुए कहा कि जेएनयू प्रशासन स्टूडेंट्स एक्टिविस्टों की पूछताछा और जुर्माना लगाने की नीति से प्रताडि़त करना बंद करे। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.