Friday, Jan 18, 2019

मी-टू प्रकरण: पीड़िता और उसके मददगार की भी हो जांच: भट्ट

  • Updated on 1/9/2019

देहरादून/ब्यूरो। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट ने मी-टू प्रकरण में पीड़िता और उसके मददगारों की भूमिका पर सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने पुलिस से यह भी जांच करने की मांग की है कि किस साजिश के तहत पीड़िता जिससे मिलती है उसी का स्टिंग कर लेती है।

बुधवार को भाजपा कार्यालय में पत्रकारों के बातचीत करते हुए अजय भट्ट ने कहा कि पीड़िता उनकी बहन बेटी के समान है। परंतु कुछ सवाल जरूर उठते हैं। मसलन वह लड़की कौन है और कहां की रहने वाली है। वह खुद को भाजपा या संघ की कार्यकत्री कैसे बता रही है। भाजपा कार्यालय में उसका कोई रिकार्ड नहीं है।

भट्ट का कहना है कि देहरादून आने का उसका मकसद क्या रहा, इसकी भी जांच होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि घटना के आरोपी नेता संजय कुमार को पार्टी के सभी पदों से हटा दिया गया है। मुकदमा दर्ज हो चुका है और पुलिस इसकी विवेचना कर रही है। यह मामला अब कोर्ट जाएगा। इसमें कोई टिप्पणी नहीं होनी चाहिए। परंतु ऐसी क्या बात है कि जिससे वह मिलने जाती है या मदद मांगने जाती है उसीका वह स्टिंग कर लेती है।  

ऐतिहासिक फैसला है आरक्षण

सवर्णों को दस प्रतिशत आरक्षण देने को अजय भट्ट ने प्रधानमंत्री का ऐतिहासिक फैसला बताया। उन्होंने कहा कि यदि भाजपा को इसका चुनावी लाभ मिलता है इसमें हर्ज ही क्या है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.