Friday, Jan 18, 2019

चौटाला बोले- BJP ने किसानों की आय दोगुनी नहीं की, दर्द दोगुना जरुर किया

  • Updated on 1/11/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। नवगठित जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) के संस्थापक अजय सिंह चौटाला ने शुक्रवार को केंद्र एवं हरियाणा की भाजपा सरकारों पर निशाना साधते हुए कहा कि किसानों की आय दोगुनी करने का झांसा देने वालों के राज में किसानों का दर्द दोगुना जरूर हो गया।

ममता बनर्जी ने CBI को लेकर बोला भाजपा पर हमला

चौटाला ने यह भी कहा कि हरियाणा में न तो दो लाख युवाओं को रोजगार मिला, न किसी के खाते में 15-15 लाख रुपए आए, न विदेशों से काला धन आया और न ही स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू हुई। मनोहरपुर में ग्रामीणों को संबोधित करते हुए उन्होंने आगे कहा, ‘‘हां, एक बात जरूर हुई। किसानों की आय दोगुनी करने का झांसा देने वालों के राज में किसानों का दर्द दोगुना जरूर हो गया।’’ 

दिल्ली कांग्रेस को मजबूत करने में जुटीं शीला दीक्षित, AAP निशाने पर

चौटाला ने कहा, ‘‘लच्छेदार, लोकलुभावने और झूठ से लबालब भाषण देने में भाजपा नेताओं का पूरी दुनिया में कोई सानी नहीं है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘भाजपा के नेता झूठ भी इस कलाकारी के साथ बोलते हैं कि जनता एकबारगी तो भ्रमित हो जाती है। पिछले चुनावों में उनकी बातों में आ गई।’’  

अखिलेश बोले- इस बार भी सटीक बैठेगा SP-BSP का गणित, मुंह की खाएगी BJP

चौटाला ने भाजपा नेताओं को ‘‘झूठ की मशीन’’ की संज्ञा दे डाली और कहा कि ‘‘काठ की हांडी बार-बार नहीं चढ़ती।’’ जींद में विधानसभा उप-चुनाव के सिलसिले में अपनी पार्टी के उम्मीदवार के पक्ष में प्रचार के लिए पहुंचे चौटाला कांग्रेस पर भी जम कर बरसे। 

शाह ने फूंका मिशन-2019 का बिगुल, बोले- मोदी जैसा नेता किसी के पास नहीं

उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस के राज में पिछले दस वर्षों तक किसानों को जम कर लूटा गया, कांग्रेसियों की नजर किसानों की उपजाऊ जमीन पर थी और जहां उन्हें जमीन दिखी, उसी जमीन के अधिग्रहण के नोटिस तत्कालीन भूपेंद्र हुड्डा सरकार ने किसानों को भिजवा दिए और उनकी जमीन बड़े बिल्डरों के हवाले करवा दी। 

मोदी, स्मृति के लिए अजित सिंह ने किया आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.