Wednesday, Jan 26, 2022
-->
akash jindal pure growth owner will produce delhi court in financial fraud rastogi family absconding

वित्तीय धोखाधड़ी : प्योर ग्रोथ के मालिक आकाश जिंदल की कोर्ट पेशी, फरार है रस्तोगी परिवार

  • Updated on 7/23/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। वित्तीय धोखाधड़ी मामले में प्योर ग्रोथ के मालिक और कथित आर्थिक मामलों के विशेषज्ञ आकाश जिंदल की 25 जुलाई 2019 को तीस हजारी कोर्ट में पेशी होनी है। आकाश जिंदल पर आरोप है कि इनकी कंपनी प्योर ग्रोथ के भरोसे पर सैंकड़ों लोगों ने अपनी कमाई की मोटी रकम वसुधा स्टील लिमिटेड, असीम ग्लोबल प्राइवेट लिमिटेड और एक और कंपनी के एफडी में लगा दी। लेकिन, तीनों कंपनियों के मालिक और कर्ताधर्ता फरार हैं। 

टूर ट्रेवल पैकेज देने वाली Journeys By Jukaso से ग्राहक परेशान, टोल फ्री नंबर भी हुआ बंद

आकाश जिंदल और फरार कपंनियों के कुछ अधिकारियों की 25 जुलाई को चीफ मेट्रोपोलिटन जज आशु गर्ग की कोर्ट में पेशी होगी, जहां शिकायतकर्तोंओं को सामने उनसे सवालात किए जाएंगे। मामला 2013 से चला आ रहा है, जब कंपनियों ने ब्याज की रकम लौटाना बंद कर दिया।

#RTI संशोधन बिल को लेकर विपक्ष ने मोदी सरकार को लिया आड़े हाथ

इसके बाद लोगों की मूल रकम भी फंस गई। इसके बाद कंपनी के मालिक तनुज रस्तोगी, उनके पिता  और तनुज की मां ईरा रस्तोगी फरार हैं। इनके खिलाफ इकोनॉमिक क्राइम विंग में जांच चल रही है। बताया जा रहा है कि तीनों विदेश में हैं और दुबई और लंदन में कारोबार कर रहे हैं।

विपक्ष को नहीं रास आया मानवाधिकार कानून में संशोधन प्रस्ताव, मोदी सरकार को घेरा

शिकायतकर्ता सोनपाल सिंह के मुताबिक आकाश जिंदल के कहने पर ही उन्होंने अपनी गाढ़ी कमाई 50 लाख रुपये के करीब इन कंपनियों में लगाई। प्योर ग्रोथ के एजेंट ही उनके घर जाकर रकम लेते थे और 12 से 15 फीसदी की ब्याज दिलाने का भरोसा देते थे। खास बात यह है कि तीनों ही कंपनियां एक ही मालिक की हैं, जो आकाश जिंदल को मालूम थी। लेकिन, इसकी सूचना उन्होंने अपने क्लाइंट को नहीं दी। 

मालेगांव विस्फोट मामले में बॉम्बे हाई कोर्ट ने NIA से पूछा अहम सवाल

बता दें कि आकाश जिंदल एडवोकेट भी हैं और आर्थिक मामलों के जानकार भी बताए जाते हैं। अकसर उन्हें न्यूज चैनल के टीवी स्टूडियों में बतौर एक्सपर्ट देखा जाता है। इसी इमेज के झासे में लोग उनकी बातों में आ जाते हैं। हैरानी की बात यह है कि अब आकाश जिंदल अपनी किसी तरह की भूमिका से इनकार कर रहे हैं। 

बिहार के अगले विधानसभा चुनाव के लिए भी BJP ने नीतीश के नेतृत्व में जताया भरोसा

लेकिन, शिकायतकर्ताओं की बढ़ती संख्या ने आकाश जिंदल की परेशानियां बढ़ा दी हैं। इतना ही नहीं, अब शिकायतकर्ताओं का आरोप है कि आकाश जिंदल उन्हें मानहानि केस में नोटिस भेज रहे हैं और मोटी रकम बतौर हर्जाना मांग रहे हैं। बता दें आकाश जिंदल काफी लंबे समय से वित्तीय क्षेत्र में लोगों के पैसे विभिन्न कंपनियों में लगाते रहे हैं। 

मोदी सरकार से स्थायी ‘रेसीडेंस परमिट’ चाहती हैं तस्लीमा नसरीन

शिकायतकर्ताओं का आरोप है कि आकाश जिंदल भी वसुधा स्टील लिमिटेड, असीम ग्लोबल प्राइवेट लिमिटेड के मालिकों से मिला हुआ है। यही वजह है कि तमाम जानकारी होने के बावजूद जिंदल ने अपने ग्राहकों को सही सूचना नहीं दी। जिसकी वजह से निवेशक फ्रॉड कंपनियों में फंस गए्। 

कोर्ट ने पूछा- भंडारी और वाड्रा संबंधी याचिकाएं एकसाथ क्यों नहीं सुनी जा सकतीं?

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.