Saturday, Jan 22, 2022
-->
akhara parishad convened meeting to liberate shri krishna''''s place of birth musrnt

श्रीकृष्ण जन्म स्थान ‘मुक्त’ कराए जाने को लेकर अखाड़ा परिषद ने बुलाई बैठक

  • Updated on 9/28/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। संतों की सबसे बड़ी संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने मथुरा के श्रीकृष्ण जन्म स्थान विवाद मामले में दायर याचिका में परिषद पक्षकार बने या नहीं, इस पर चर्चा के लिए 15 अक्तूबर को वृंदावन में सभी 13 अखाड़ों की बैठक बुलाई है।

इससे पहले, आधा दर्जन के आसपास कृष्ण भक्तों ने मथुरा की एक अदालत में माला दर्ज कराकर पांच दशक पहले श्रीकृष्ण जन्मस्थान सेवा संस्थान  और शाही ईदगाह प्रबंध समिति के बीच हुए समझौते को अवैध बताते हुए इसे खारिज कर पूरी जमीन मंदिर ट्रस्ट को सौंपने की मांग की है। कोर्ट ने मामले को स्वीकार कर लिया है, इसपर 30 सितंबर को सुनवाई होगी।  

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि ने प्रयागराज में बताया कि अखाड़ा परिषद पहले से ही मथुरा में श्रीकृष्ण जन्मस्थान की जमीन के पास से मस्जिद को हटाए जाने की वकालत करती रही है और आगामी 15 अक्तूबर को वृंदावन में होने वाली अखाड़ा परिषद की बैठक में इस संबंध में निर्णय किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि मथुरा में भगवान कृष्ण की जन्मस्थली के लिए दायर याचिका में अखाड़ा परिषद पक्षकार बने, इस पर भी वृंदावन की बैठक में निर्णय किया जाएगा। अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष ने बताया कि वृंदावन में अखाड़ा परिषद के सभी पदाधिकारी कृष्ण जन्मभूमि का भ्रमण करेंगे और दर्शन पूजन के साथ वास्तविक स्थिति का जायजा लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि अखाड़ा परिषद, श्रीकृष्ण जन्मभूमि और काशी विश्वनाथ मंदिर को पूरी तरह से ‘मुक्त’ कराने की वकालत करती रही है।

उधर मथुरा में अखिल भारतीय तीर्थ पुरोहित महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष महेश पाठक ने श्रीकृष्ण जन्मस्थान के पास स्थित शाही ईदगाह मस्जिद को हटाने के लिये अदालत में याचिका दायर किये जाने की आलोचना करते हुए कहा कि ‘कुछ बाहरी लोग’ मंदिर- मस्जिद जैसे मुद्दे उठाकर मथुरा की शांति और सद्भाव को बिगाड़ने का प्रयास कर रहे हैं।

पाठक ने कहा, ‘20 वीं सदी में दोनों पक्षों के बीच समझौता होने के बाद मथुरा में मंदिर-मस्जिद का कोई विवाद नहीं है।’ उन्होंने कहा कि दोनों समुदायों के बीच सछ्वाव है और अगल-बगल में धार्मिक स्थल का अस्तित्व भावनात्मक एकजुटता का उदाहरण है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.