Friday, Jan 21, 2022
-->
akhil-bharatiya-akhara-parishad-released-third-list-of-fake-baba-pramod-krishnam-chakrapani

अखाड़ा परिषद ने जारी की फर्जी बाबाओं की तीसरी सूची, निशाने पर आए नामी बाबा

  • Updated on 3/16/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने आज फर्जी बाबाओं की तीसरी लिस्ट जारी कर दी। इस सूची में दिल्ली के चक्रपाणि और संभल के प्रमोद कृष्णम को शामिल किया गया है। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद की इलाहाबाद में हुई बैठक के बाद परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि ने देश की जनता से फर्जी बाबाओं से सतर्क रहने की अपील की।

NDA से TDP के अलग होने से ममता खुश, बोलीं- देश के लिए ऐसे कदम जरुरी

उन्होंने कहा, 'हम जनता से गुजारिश करते हैं कि वे ऐसे बाबाओं से बचें, जो किसी संप्रदाय और परंपरा से नहीं आते हैं। महंत गिरि ने कहा कि साधु संत हमेशा सन्यासी परंपरा, वैष्णव संप्रदाय, शिव संप्रदाय, उदासीन परंपरा, नाथ परंपरा आदि से आते हैं। वहीं, फर्जी बाबाओं की कोई परंपरा या संप्रदाय नहीं होता है।

छात्राओं के यौन उत्पीड़न के आरोपों के बाद JNU प्रोफेसर के खिलाफ केस दर्ज, धरना जारी

आखड़े की इस अहम बैठक में अखिल भारतीय श्री पंच निर्मोही अनी अखाड़े के श्री महंत राजेंद्र दास ने प्रस्ताव रखा कि अखाड़ा परिषद पहले भी कई फर्जी बाबाओं का बहिष्कार कर चुकी है। अभी जानकारी हासिल हुई है कि चक्रपाणि और प्रमोद कृष्णम किसी अखाड़े से ताल्लुक नहीं रखते हैं और न ही किसी साधुओं की परंपरा से आते हैं, इसलिए अखाड़ा परिषद ने इन दोनों का बहिष्कार करता है। 

2022 राष्ट्रमंडल खेलों में नहीं होगी निशानेबाजी प्रतियोगिता, जसपाल राणा का गुस्सा फूटा

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने ऐलान किया कि जो भी साधु समाज इनके कार्यक्रमों में जाता है या इन्हें अपने यहां बुलाता है, उसका भी अखाड़ा परिषद बहिष्कार के तौर पर देखेगा। बता दें कि इससे पहले अखाड़ा परिषद ने 10 सितंबर 2017 को फर्जी बाबाओं की पहली लिस्ट जारी थी। इसमें कुल 14 फर्जी बाबा शामिल थे। 

यूपी उपचुनाव में जीत के बाद अखिलेश-मायावती की दोस्ती और गहरी, 2019 की है तैयारी

इनमें आशाराम बापू, सुखविंदर कौर उर्फ राधे मां, सच्चिदानंद गिरि, निर्मल बाबा, इच्छाधारी भीमानंद उर्फ शिवमूर्ति द्विवेदी, गुरमीत राम रहीम, ओमबाबा उर्फ विवेकानंद झा, ओम नम: शिवाय बाबा, नारायण साई, रामपाल, कुश मुनि, स्वामी असीमानंद, मलखान गिरि और बृहस्पति गिरि शामिल थे। 

लोकपाल नहीं अब किसानों के मुद्दे पर सत्याग्रह करेंगे अन्ना हजारे, बदले रुख से कांग्रेस हैरान

अखाड़ा परिषद ने 29 दिसंबर 2017 को दूसरी सूची जारी की थी, जिसमें दिल्ली के विरेन्द्र दीक्षित कालनेमी, बस्ती के सचिदानंद सरस्वती और इलाहाबाद की त्रिकाल भवंता के नाम शामिल थे।

केजरीवाल ने सीलिंग मुद्दे पर दिल्ली विधानसभा में पीएम मोदी पर बोला हमला

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.