Friday, Jul 01, 2022
-->
akhilesh yadav on china issue bjp shouldnot repeat mistake that congress made pragnt

चीन मुद्दे पर अखिलेश यादव का तंज, कहा- कांग्रेस वाली गलती न दोहराए BJP

  • Updated on 9/17/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटिल। चीन (China) के मुद्दे पर विपक्ष लगातार केंद्र को निशाने पर ले रहा है और सरकार से जवाब मांग रहा है। अब इस मामले में समाजवादी पार्टी (SP) के अध्यक्ष और आजमगढ़ से सांसद अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने सत्तारूढ़ बीजेपी (BJP) पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि बीजेपी को कांग्रेस (Congress) वाली गलती नहीं दोहरानी चाहिए।

उपराष्ट्रपति ने चीन विवाद पर दी रक्षा मंत्री को सलाह, बोले- सभी प्रमुख नेताओं को बुलाकर करें बैठक

अखिलेश यादव ने दी सलाह
पत्रकारों से बातचीत के दौरान सपा प्रमुख ने कहा कि चीन के मामले में समाजवादी पार्टी का यही मानना है कि जो गलती कांग्रेस ने की थी वो गलती भाजपा को नहीं दोहरानी चाहिए।

राष्ट्रीय बेरोजगारी दिवस को लेकर प्रियंका गांधी ने सरकार से की ये मांग, कहा- नहीं तो...

चीन मुद्दे पर राजनाथ ने क्या कहा?
बता दें कि लद्दाख के पूर्वी क्षेत्र में चीन की सेना के साथ गतिरोध के बीच रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को कहा कि भारत शांतिपूर्ण तरीके से सीमा मुद्दे के हल के लिए प्रतिबद्ध है और हमने राजनयिक एवं कूटनीतिक माध्यम से पड़ोसी देश को बता दिया है कि यथास्थिति में एकतरफा ढंग से बदलाव का कोई भी प्रयास अस्वीकार्य होगा। राजनाथ सिंह ने पूर्वी लद्दाख की स्थिति पर राज्यसभा में दिए अपने बयान में कहा कि हम पूर्वी लद्दाख में चुनौती का सामना कर रहे हैं, हम मुद्दे का शांतिपूर्ण ढंग से हल करना चाहते हैं और हमारे सशस्त्र बल देश की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता की रक्षा के लिए डटकर खड़े हैं। 

चीन तनाव पर ओवैसी का मोदी सरकार पर हमला, बोले- 20 जवानों का बदला चीन से पैसे उधार लेकर लिया

दोनों पक्षों की समझ अलग-अलग
उन्होंने कहा, 'भारत तथा चीन दोनों ने औपचारिक तौर पर यह माना है कि सीमा का प्रश्न एक जटिल मुद्दा है जिसके समाधान के लिए संयम की आवश्यकता है तथा इस मुद्दे का उचित, व्यवहारिक और एक दूसरे को स्वीकार्य समाधान, शांतिपूर्ण तरीके से बातचीत के द्वारा निकाला जाए।' राजनाथ सिंह ने कहा कि अभी तक भारत-चीन के सीमावर्ती क्षेत्रों में साझा रूप से चिन्हित वास्तविक नियंत्रण रेखा नहीं है और वास्तविक नियंत्रण रेखा को लेकर दोनों पक्षों की समझ अलग-अलग है। उन्होंने कहा कि इसलिए शांति बहाल रखने के वास्ते दोनों देशों के बीच कई तरह के समझौते और प्रोटोकॉल हैं। 

comments

.
.
.
.
.