Monday, Dec 06, 2021
-->
akhilesh yadav questions on selling and building airport modi bjp government on target rkdsnt

अखिलेश यादव ने एयरपोर्ट बेचने और बनाने पर उठाए सवाल, निशाने पर मोदी सरकार

  • Updated on 11/25/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बृहस्पतिवार को जेवर अंतरराष्ट्रीय हवाई अडडे के उद्घाटन पर सरकार पर निशाना साधते हुये कहा कि यह कैसी सरकार हैं जो एक तरफ तो हवाई अडडे बेच रही है तो दूसरी तरफ नया बना रही हैं। उन्होंने कहा कि यदि लोग अपना मन बना लें, तो 2022 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में भाजपा को ऐतिहासिक हार का सामना करना पड़ेगा क्योंकि जनता को इतना दुख तकलीफ किसी सरकार ने नही दी होगी, जितनी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार ने दी है। 

केजरीवाल सरकार ने गठित किया यमुना सफाई प्रकोष्ठ, 2025 तक का लक्ष्य

पूर्व मुख्यमंत्री ने यहां सपा के सहयोगी दल जनवादी पार्टी सोशलिस्ट की जनक्रांति महारैली में कहा,‘‘भारतीय जनता पार्टी के लोग आज शिलान्यास करने गये हैं। यह कैसे भारतीय जनता पार्टी के लोग हैं जो एक तरफ तो हवाई अडडा बेच रहे हैं दूसरी तरफ हवाई अडडा बना रहे हैं । कौन भरोसा करेगा इनकी बातों पर ।‘‘ बृहस्पतिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गौतमबुद्धनगर के जेवर में अंतरराष्ट्रीय हवाई अडडे का उदघाटन किया है । सपा प्रमुख का इशारा इसी पर था। 

गोवा में भाजपा अध्यक्ष नड्डा के निशाने पर कांग्रेस की बजाए TMC और AAP

यादव ने कहा,‘‘भाजपा ने कहा था कि हवाई चप्पल से चलने वाला हवाई जहाज से चलेगा। ऐसे कितने गरीब हैं जिन्होंने हवाई जहाज से यात्रा की है? देश में जितने भी हवाई अड्डे हैं सब घाटे में हैं । दिल्ली का हवाई अड्डा कई हजार करोड़ रूपये के घाटे में हैं । एयर इंडिया घाटे में है। निजी एयरलाइन भी घाटे में हैं । यह नया हवाई अड्डा इस लिये बन रहा है कि जब यह बनकर तैयार हो जायेगा भारतीय जनता पार्टी उसको भी बेच देगी।’’ यादव ने कहा,‘‘ सरकारी संस्थान बिकने लगेंगे तो आने वाली पीढ़ी के भविष्य का क्या होगा ? उन्हें नौकरी कौन देगा, उनको रोजगार कौन देगा । अगर सरकारी संस्थान बिक जायेंगे तो आरक्षण कौन देगा ?’’ 

अखिलेश से मिलने के बाद AAP के संजय सिंह बोले- यूपी को BJP की तानाशाही से मुक्त कराना है

केंद्र सरकार द्वारा तीन कृषि कानूनों वापस लेने पर सपा नेता ने कहा,‘’सरकार ने तीन कानून वापस लिये हैं, क्योंकि वह जान गयी थी कि इस बार किसान उन्हें गांव में घुसने नहीं देंगे । किसान उनको जवाब वोट से देंगे। अभी केवल तीन कानून वापस हुये हैं कोई ऐसा फैसला नही हुआ है जिससे हमारे किसानो को न्यून्तम समर्थन मूल्य (एमएसीपी) की गारंटी मिले। जब एमएसपी नही मिलेगी हम समाजवादी लोग गरीबों-किसानों के लिये लगातार संघर्ष करते रहेंगे ।‘‘ उन्होंने कहा,‘‘ कि सरकार बताये कि वह किसानों के लिये क्या कर रही है? सरकार किसानों के गन्ने का बकाया नही दे पा रही है।’’ 

पीएम मोदी से मिलीं ममता बनर्जी, सुब्रमण्यम स्वामी से मुलाकात भी चर्चा में

उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने कहा था कि वह किसानों की आय दोगुनी कर देगी लेकिन किसानों का धान बिक नही रहा हैं, उनको बीज नही मिल रहा हैं,डीजल पेट्रोल मंहगा हो गया ऐसे में आखिर किसान कैसे खुशहाल होगा? मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधते हुये यादव ने कहा,‘’बाबा मुख्यमंत्री ने कौन-सा बड़ा काम कर दिया? अपने शिलान्यास किये हुये किसी काम का उदघाटन नही कर पायें। जबसे बाबा मुख्यमंत्री बने हैं उन्होंने उप्र को पीछे कर दिया । इस सरकार का केवल एक ही काम कर देना नाम बदल देना रंग बदल देना। इस बार जनता ने ठान लिया है इस नाम बदलने वालो को बदल देंगे ।‘‘ 

‘हाथरस की बेटी स्मृति दिवस’ मनाने का आह्वान किया 
समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बृहस्पतिवार को कहा कि हाथरस में बलात्कार के बाद जान गंवाने वाली युवती की याद में हर माह की 30 तारीख को स्मृति दिवस मनाया जाएगा और राज्य की भारतीय जनता पार्टी (भाजपा)की सरकार का दलित और महिला विरोधी चेहरा बेनकाब किया जाएगा। गत वर्ष 30 सितंबर को कथित तौर पर पुलिस ने शव का जबरन अंतिम संस्कार करा दिया था। यादव ने ट्वीट किया,‘’उत्तर प्रदेश के वासियों, सपा व सहयोगी दलों से अपील है कि हर महीने की 30 तारीख को‘हाथरस की बेटी स्मृति दिवस’मनायें और प्रदेश की भाजपा सरकार ने पिछले वर्ष 30 नवंबर को बलात्कार पीड़िता के शव को जलाने का जो कुकृत्य किया था उसकी याद दिलाएं, भाजपा का दलित व महिला विरोधी चेहरा बेनकाब हो।‘‘ 

अगर यूपी और अन्य राज्यों में चुनाव नहीं होते तो केंद्र कृषि कानून वापस नहीं लेता : पवार 

गौरतलब है कि हाथरस के एक गांव में पिछले साल 14 सितंबर को 19 साल की युवती के साथ कथित तौर पर सामूहिक दुष्कर्म किया गया था। युवती की हालत बिगडऩे के बाद, उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल ले जाया गया था, जहां घटना के एक पखवाड़े बाद उसकी मौत हो गयी थी। परिवार और स्थानीय ग्रामीणों का आरोप था कि पुलिस ने जबरन आधी रात को अंतिम संस्कार करा दिया था। हालांकि, स्थानीय पुलिस अधिकारियों ने कहा था कि परिवार की इच्छा के अनुसार अंतिम संस्कार कराया गया है। 

comments

.
.
.
.
.