Friday, Oct 07, 2022
-->
akhilesh yadav ready to tie up with uncle shivpal party after rajbhar rkdsnt

राजभर के बाद चाचा शिवपाल की पार्टी से गठबंधन करने को तैयार अखिलेश यादव

  • Updated on 11/3/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बुधवार को कहा कि वह पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव के जन्मदिन पर इसी महीने चाचा शिवपाल सिंह यादव को साथ लाने के लिए काम करेंगे। सपा अध्यक्ष ने स्पष्ट किया कि वह अपने चाचा को पूरा सम्मान देंगे, और उनकी पार्टी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के साथ वह आने वाले विधानसभा चुनावों के लिए गठबंधन करेंगे। 

उपचुनावों के नतीजों पर चिदंबरम बोले- भाजपा और कांग्रेस में मुकाबला आज भी बराबरी का

अपने पैतृक गांव सैफई में दिवाली मनाने पहुंचे अखिलेश यादव ने पत्रकारों से कहा,‘‘नेताजी का जन्मदिन तो बहुत दूर है हम आज ही कहे दे रहे हैं कि हम उनका पूरा सम्मान करते हैं, हमारा गठबंधन होगा। नेताजी के जन्मदिन पर हम चाचा शिवपाल सिंह को साथ लाने का काम करेंगे।‘‘ यादव ने कहा, ‘‘राज्य में आगामी विधानसभा चुनावों में भाजपा को हराने के लिए, हम राज्य के क्षेत्रीय दलों के साथ गठबंधन करेंगे और छोटे राजनीतिक दलों को एक साथ लाने के लिए काम करेंगे। कुछ दल पहले ही हमारे साथ आ चुके हैं, उनमें से एक राजभर जी की पार्टी है (ओम प्रकाश राजभर के नेतृत्व वाली एसबीएसपी:। स्वाभाविक है कि मेरे चाचा की भी एक पार्टी है और उन्हें पूरा सम्मान दिया जाएगा और उनकी पार्टी के साथ भी उनका गठबंधन होगा।’’ 

उपचुनाव परिणाम: TMC ने शांतिपुर विधानसभा सीट पर दर्ज की जीत, भाजपा को दी मात

एक सवाल के जवाब में अखिलेश ने कहा कि उनके चाचा की पार्टी से गठबंधन होगा, विलय नहीं। अखिलेश यादव की सरकार में वरिष्ठ मंत्री रहे शिवपाल सिंह यादव के साथ उनका मतभेद हो गया था। शिवपाल को अखिलेश ने पार्टी में अलग कर दिया था, और 2017 में पार्टी की बागडोर अपने हाथों में ले ली थी।      भतीजे अखिलेश यादव के साथ मतभेद और पारिवारिक कलह के परिणामस्वरूप, इटावा की जसवंतनगर सीट से विधायक शिवपाल ने सपा छोड़ा और 2018 में अपनी पार्टी -प्रगतिशील समाजवादी पार्टी-लोहिया का गठन किया। 

मोदी सरकार की नीतियों के खिलाफ बजट सत्र के दौरान ट्रेड यूनियन्स करेंगी हड़ताल

किसानों की हालत ने भाजपा के हर झूठ का पर्दाफाश किया
समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बागपत में कर्ज में डूबे एक किसान की कथित आत्महत्या को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार पर हमला करते हुए बुधवार को कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राज में किसानों की हालत ने इस सरकार के हर तरह के झूठ का पर्दाफाश कर दिया है। अखिलेश ने ‘नहीं चाहिए भाजपा’ हैशटैग के साथ ट्वीट किया, ‘‘उत्तर प्रदेश के बागपत में कर्ज में डूबे किसान की आत्महत्या की घटना अत्यंत हृदय विदारक। भाजपा के राज में किसानों के ऐसे हालात सरकार के सभी झूठ का पर्दाफाश कर रहे हैं। आखिर कब तक यह सब सहेगा प्रदेश का किसान?’’ 

जमानत आदेश की सूचना में देरी से प्रभावित होती है स्वतंत्रता : जस्टिस चंद्रचूड़

बागपत जिले के बिहारीपुर गांव में मंगलवार को चौधरी अनिल कुमार (45) नामक किसान ने फांसी लगाकर कथित रूप से आत्महत्या कर ली थी, उनके परिजन के मुताबिक कुमार ने 10 लाख रुपए कर्ज लिया था, जिसे नहीं चुका पाने के कारण वह बहुत परेशान थे। हालांकि, कोतवाल अजय कुमार शर्मा ने कहा कि किसान के परिजन ने उन्हें यह नहीं बताया कि कुमार ने कोई कर्ज ले रखा था। अखिलेश ने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘‘उत्तर प्रदेश के समस्त निवासियों, किसानों के शुभचिंतकों और सपा व अन्य सहयोगी दलों से अपील है कि आज ‘लखीमपुर किसान स्मृति दिवस’ मनाएं। आज ‘किसान स्मृति दीप’ जलाएं और अन्नदाताओं का मान बढ़ाएं।’’ 

comments

.
.
.
.
.