Wednesday, Feb 19, 2020
akhilesh yadav samajwadi party amit shah  bjp debate rahul gandhi

अखिलेश यादव ने अमित शाह की चुनौती को स्वीकारा, कहा- जगह और मंच चुन लें शाह

  • Updated on 1/23/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah)और भाजपा नेताओं के बयानों को लेकर निशाना साधते हुए कहा कि भाजपा (BJP) के नेता जिस तरह की भाषा का प्रयोग करते हैं वह राजनीतिक लोगों की भाषा नहीं है। अखिलेश ने कहा कि भाजपा के नेता ठोक देंगे, जुबान खींच लेंगे, बदला लेंगे इस तरह की भाषा का प्रयोग करते हैं।

निर्भया केस: केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से की अपील, 7 दिन में दोषियों को दी जाए फांसी

अखिलेश का बयान
नागरिकता संशोधन कानून (CAA) पर अमित शाह द्वारा बहस की चुनौती देने के सवाल पर अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने पलटवार करते हुए कहा कि हमें चुनौती मंजूर है, वह विकास पर भी डिबेट (Debate) करें। जगह और मंच वह चुन लें। उन्होंने कहा कि वह अर्थव्यवस्था, नौकरी (Jobs), नोटबंदी के सवाल पर बहस नहीं करना चाहते हैं, इसलिए हम चाहते हैं कि विकास पर बहस करें। अखिलेश ने कहा कि भाजपा विकास पर बहस से भागती है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने 3 साल में कोई काम नहीं किया है। वह तो अब गाय की सेवा भी नहीं कर पा रहे हैं।  

Republic Day 2020: फुल ड्रेस रिहर्सल आज, जानें कौन से मेट्रो स्टेशन रहेंगे बंद

राहुल गांधी करेंगे रैली
कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) 30 जनवरी को अपने संसदीय क्षेत्र वायनाड (Wayanad) में संशोधित नागरिकता कानून के विरोध में रैली को संबोधित करेंगे।2019 के लोकसभा चुनाव में राहुल गांधी ने इस सीट पर जीत दर्ज करवाई है।

ISRO: व्योममित्र गगनयान से जाएगी अंतरिक्ष में, इसरो ने जारी की पहली झलक, देखें वीडियो

अमित शाह की चुनौती
केंद्रीय मंत्री अमित शाह ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए  कहा कि सीएए की कोई भी धारा किसी भी नागरिक की नागरिकता (citizenship) लेती हो तो बता दें। उन्होंने कहा कि आज देश में इसके खिलाफ दंगा और धरना- प्रदर्शन कराया जा रहा है जो गलत है। गृह मंत्री ने कहा कि भाजपा का सीएए के प्रति जनजागरण का अभियान इस कानून के खिलाफ दुष्प्रचार करके देश को तोडऩे की साजिश रचने वालों के खिलाफ मुहिम है।

उन्होंने इस मौके पर‘जो बोले सो निहाल’का नारा भी लगवाया। गृह मंत्री ने सीएए का विरोध करने वाली कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों से पूछा ‘जब पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में करोड़ों लोग धर्म के आधार पर मारे गये तब आप कहां थे। कश्मीर से पांच लाख पंडितों को विस्थापित किया गया, मगर इन दलों के मुंह से एक शब्द नहीं निकला। आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) ने वर्षों से प्रताडि़त लोगों को अपने जीवन का नया अध्याय शुरू करने का मौका दिया है।’

comments

.
.
.
.
.