Sunday, Nov 27, 2022
-->
akhilesh yadav say retired officer being imposed without consent of cm yogi like bengal rkdsnt

अखिलेश बोले- बंगाल की तर्ज पर CM योगी की मर्जी के बगैर थोपा जा रहा है रिटायर ऑफिसर

  • Updated on 6/1/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मंगलवार को भाजपा की नीति पर तंज करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मर्जी के बगैर दिल्ली से भेजे गये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक विश्वासपात्र सेवानिवृत्त अधिकारी को उन पर थोपा जा रहा है।

हाई कोर्ट के फैसले के बाद सेंट्रल विस्टा को लेकर हरदीप पुरी ने विपक्ष को लिया आड़े हाथ

अखिलेश ने मंगलवार को एक  ट्वीट में प्रधानमंत्री के करीबी आईएएस अधिकारी रहे और गत जनवरी में भाजपा में शामिल हुए उत्तर प्रदेश के मौजूदा विधान परिषद सदस्य ए के. शर्मा की तरफ इशारा करते हुए कहा Þअजब है भाजपा की नीति। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री पर उनकी मर्काी के विरुद्ध दिल्ली से भेजा एक अधिकारी थोपना और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री की मर्काी के विरुद्ध एक अधिकारी को वहां से दिल्ली बुलाना।Þ  

BHU वैज्ञानिकों का दावा- कोरोना को मात दे चुके लोगों के लिए वैक्सीन की एक खुराक ही काफी

 उन्होंने भाजपा में अंदरूनी खींचतान का आरोप लगाते हुए इसी ट््वीट में कहा 'उत्तर प्रदेश में डबल इंजन से राज्य को खींचने के झूठे वादे करने वालों के बीच खींचातानी जारी है।'   गौरतलब है कि वर्ष 1988 बैच के गुजरात काडर के आईएएस अधिकारी ए. के. शर्मा को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का करीबी माना जाता है।

अभिनेत्री जूही चावला ने 5जी तकनीक के खिलाफ दायर की दिल्ली हाई कोर्ट में याचिका

शर्मा इस साल जनवरी में स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति लेकर भाजपा में शामिल हो गए थे। उत्तर प्रदेश के मऊ जिले के मूल निवासी 58 वर्षीय शर्मा इस वक्त प्रधानमंत्री के संसदीय निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी तथा उसके आसपास के इलाकों में कोविड-19 राहत एवं प्रबंधन कार्य की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं। वह अप्रैल के दूसरे हफ्ते से वाराणसी में ही हैं।  

 

 

comments

.
.
.
.
.