Wednesday, Apr 08, 2020
akhilesh yadav sp also targets bjp budget 2019 after bsp mayawati

मायावती के साथ-साथ अखिलेश को भी नहीं रास आया मोदी सरकार का बजट

  • Updated on 7/5/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शुक्रवार को कहा कि केन्द्रीय बजट निराशाजनक, दिशाहीन और उद्देश्यहीन है। यादव ने कहा कि गरीबों, किसानों, नौजवानों, नौकरी पेशा लोगों और महिलाओं के लिए बजट में कुछ भी नहीं है। मध्यमवर्ग इस बजट से बुरी तरह चोटिल होगा क्योंकि इसमें एक हाथ से देकर दूसरे हाथ से छीन लेने की प्रक्रिया अपनाई गई है। वस्तुत: यह भ्रमित करने वाला बजट है जिससे जनता को गुमराह करने की साजिश की गई है। 

सीतारमण ने बजट में रेलवे को क्या दिया, एक नजर खास बिंदुओं पर

उन्होंने कहा कि केन्द्रीय बजट से पेट्रोल-डीजल के दामों में अतिरिक्त सेस लगने से 2.50 रूपए प्रतिलीटर की वृद्धि से परिवहन मंहगा होगा तो जीवनोपयोगी चीजों के दाम भी बढ़ेंगे। घरेलू बजट असंतुलित होगा। किसान डीजल का सबसे ज्यादा उपयोग करता है, उसको आॢथक नुकसान होगा। अखिलेश ने कहा कि केन्द्रीय बजट ने जन अपेक्षाओं की अनेदखी की है। गरीबों को गरीबी से उबारने की इसमें कोई कोशिश नहीं है। 

बजट में होम लोन के ब्याज पर टैक्ट कटौती, मिलेगा प्रोपर्टी बाजार को बूस्ट

किसानों की कर्जमाफी, उनकी आय में बढ़ोत्तरी के उपायों के अलावा खाद, बीज, कीटनाशक की उपलब्धता पर भाजपा सरकार ने चुप्पी साध रखी है। किसानों की आत्महत्या रूक नहीं पा रही है। नौजवानों को रोजगार देने के नाम पर स्टार्टअप, मुद्रालोन जैसी पुरानी घिसीपिटी योजनाओं की ही चर्चा है। कोई ठोस योजना नहीं है। नारी सशक्तीकरण की दिशा में भी कोई ठोस प्रयास नहीं है। उनकी सुरक्षा, वेतनविसंगतियों और कार्यस्थल में लैंगिक असमानता रोकने का कोई जिक्र नहीं है।

बजट 2019-20 : पेट्रोल, डीजल के जरिए मोदी सरकार ने जनता पर डाला भार

 

उन्होंने कहा कि भाजपा की सरकार ने जनता के इस्तेमाल की कई चीजों को भी महंगा कर दिया है। टैक्स स्लैब में कोई बदलाव नहीं किया गया है। विदेशी किताबें महंगी कर उसने शोध और शिक्षा क्षेत्र के विकास में बाधा डाली है। रेलवे, हवाई अड्डे में निजी भागीदारी और मीडिया में विदेशी पूंजी निवेश को बढ़ावा देकर भाजपा सरकार बड़े पूंजी घरानों और बहुराष्ट्रीय कम्पनियों के हाथों में राष्ट्रीय सम्पदा सौंपने काम करेगी।     

इंजीनियर यादव सिंह की लाखों रुपये की परिसंपत्तियां ED ने की कुर्क

सपा अध्यक्ष ने कहा कि सच तो यह है कि जब भाजपा सरकार के पांच वर्षों में कुछ नहीं हुआ तो कैसे अब आशा की जा सकती है कि वह अपने वादे निभाने और जनआकांक्षाओं को पूरा करने की दिशा में ठोस कदम उठाएगी। केन्द्र सरकार ने अभी तो जनविश्वास पर कुठाराघात करने का काम किया है। अखिलेश यादव ने कहा कि फिलहाल तो भाजपा के बजट से बाजार में उदासी है। सिर्फ प्रधानमंत्री, वित्तमंत्री और सत्ताधारी नेता ही बजट का गुणगान कर रहे हैं। उन्हें सावन में हरा-हरा ही दिखता है लेकिन सच्चाई को बादलों के घटाटोप में छुपाया नहीं जा सकता। 

मायावती बोलीं- बजट धन्नासेठों की मदद करने वाला 
बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती ने पेश किये गये बजट को बड़े-बड़े पूंजीपतियों व धन्नासेठों की ही हर प्रकार से मदद करने वाला बताया।      बजट के बाद बसपा नेता मायावती ने ट््वीट कर कहा, ‘‘यह बजट प्राइवेट सेक्टर को बढ़ावा देकर कुछ बड़े-बड़े पूंजीपतियों व धन्नासेठों की ही हर प्रकार से मदद करने वाला है, जिससे दलितों व पिछड़ों के आरक्षण की ही नहीं बल्कि महंगाई, गरीबी, बेरोजगारी, किसान व ग्रामीण समस्या और भी जटिल होगी।’’

AAP की याचिका पर #BJP सांसद बिधूड़ी से हाई कोर्ट ने मांगा जवाब

उन्होंने कहा, ‘‘देश में पूंजी का विकास भी इससे संभव नहीं है। केन्द्र की भाजपा सरकार द्वारा बजट को हर मामले में व हर स्तर पर लुभावना बनाने की पूरी कोशिश की गई है। लेकिन देखना है कि इनका यह बजट जमीनी हकीकत में देश की आमजनता के लिए कितना लाभदायक सिद्ध होता है जबकि पूरा देश गरीबी, बेरोजगारी, बदतर शिक्षा व स्वास्थ्य सेवा से पीड़ित व परेशान है।’’ 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.