Thursday, Sep 23, 2021
-->
alert-issued-for-yas-storm-coast-guard-warns-fishermen-and-sailors-to-return-prshnt

यास तूफान को लेकर जारी अलर्ट, तटरक्षक बल ने मछुआरों और नाविकों को लौटने की दी चेतावनी

  • Updated on 5/21/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पश्चिमी तट पर चक्रवात तौकते के बाद अब एक अन्य चक्रवात यास के आने की संभावना है। चक्रवात यास के 26-27 मई को पूर्वी तट पर पहुंचने का अनुमान है। इसे लेकर भारतीय तटरक्षक बल ने मछुआरों और नाविकों के चेतावनी जारी की है। ताउते तूफान द्वारा व्यापक तबाही मचाने के बाद यास तो लेकर खासी सतर्कता बरती जा रही है। भारतीय तटरक्षक बल के पोत, विमान और दूरस्थ अड्डों ने बंगाल की खाड़ी में गए मछुआरों और नाविकों को तट पर लौटने और सुरक्षा आश्रय लेने संबंधी चेतावनी प्रसारित करनी शुरू कर दी है।

आधिकारिक बयान के मुताबिक यास तूफान के अगले 72 घंटे में तूफान के और मजबूत होने की संभावना है। भारतीय तटरक्षक बल ने बताय है कि कि भारतीय मौसम विभाग के पूर्वानुमान से पत चलता है कि 22 मई के करीब उत्तरी अंडमान सागर और निकटवर्ती पूर्व मध्य बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है। 

Toolkit पर संबित पात्रा के ट्वीट को ट्विटर ने मार्क किया 'Manipulated Media'

अरब सागर में डूबा बार्ज P-305
बता दें तौकते तूफान ने जमीन से ज्यादा पानी में अपना कहर बरपाया है। जिसका सूबत अरब सागर में डूबा बार्ज P-305 है। बार्ज का अर्थ होता है एक ऐसा जहाज जिसका इस्तेमाल माल लादने या फिर लोगों को ले जाने ले आने में किया जाता है। वहीं चक्रवात तौकते ने मुंबई, गोवा समेत कई राज्यों में काफी ज्यादा तबाही मचाई हैं लेकिन जब ये तूफान गुजरात पहुंचा तो ये काफी विकराल रूप में था। जिसके कारण गुजरात भी इस तूफान की चपेट में आने के बाद सबसे बुरी तरह प्रभावित हुआ है। इस चक्रवात की तरफ से मची तबाही का सर्वे करने के लिए खुद लेने के लिए पीएम मोदी आज गुजरात के प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वे करेंगे।

महाराष्ट्र में पुलिस और नक्सली में भिड़ंत, 13 शव बरामद

24 घंटों में रिकॉर्ड 119.3 मिलीमीटर बारिश
इसके अलावा दिल्ली में चक्रवाती तूफान ‘ताउते’ और पश्चिमी विक्षोभ के कारण गुरुवार को सुबह साढ़े आठ बजे तक बीते 24 घंटों में रिकॉर्ड 119.3 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई, जिसने मई में बारिश के पिछले सभी रिकॉर्ड तोड़ दिए। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने बताया कि 1976 में 24 मई को 60 मिमी. बारिश दर्ज की गई थी और इस बार उससे दोगुनी बारिश दर्ज की गईं। 

आईएमडी ने बृहस्पतिवार को कहा कि शहर में बुधवार को अधिकतम तापमान सामान्य से 16 डिग्री गिर कर 23.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो 1951 के बाद से मई में सबसे कम अधिकतम तापमान है। आईएमडी के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने कहा, ‘दिल्ली में बुधवार सुबह साढ़े आठ बजे से बृहस्पतिवार सुबह साढ़े आठ बजे तक रिकॉर्ड 119.3 मिमी. बारिश हुई।

Black Fungus महामारी के खिलाफ जंग तेज, पांच कंपनियों को मिली दवा बनाने की मंजूरी

अत्यधिक भारी बारिश
लोधी रोड मौसम केंद्र ने इस अवधि के दौरान 124.4 मिमी. बारिश दर्ज की। पालम, आयानगर, नजफगढ़ और एसपीएस मयूर विहार में क्रमश: 64 मिमी., 98 मिमी., 92.5 मिमी. और 95.5 मिमी. बारिश दर्ज की गई। 15 मिमी. से कम की बारिश को हल्की, 15 से 64.5 मिमी. के बीच की बारिश को मध्यम, 64.5 मिमी. से 115.5 मिमी. के बीच की बारिश को भारी, 115.6 से 204.4 के बीच को बहुत भारी बारिश माना जाता है। 204.4 मिमी़ से अधिक की बारिश को अत्यधिक भारी बारिश माना जाता है।

comments

.
.
.
.
.