Sunday, Dec 15, 2019
all accused got clean chit in the famous aspect of khan case

चर्चित पहलू खान केस में सभी आरोपी को मिली क्लीन चिट, फैसले को उपरी अदालत में दी जाएगी चुनौती

  • Updated on 8/14/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल।  न्याय में देरी भी अन्याय ही माना जाता है, जिसका एक ओर जीता जागता उदाहरण है चर्चित पहलू खान (pahlu khan) का मामला, जिसमें आज अलवर डिस्ट्रिक्ट कोर्ट (alvar district court) ने अपना फैसला सुना दिया है। सभी 6 आरोपियों को सबूतों में कमी के आधार पर बरी कर दिया है। हालांकि पीडि़त के वकील ने कहा है कि वे ऊपरी अदालत में इस मामले को चुनौती देंगे। लेकिन फिलहाल जिस पहलू खान की मौत की गूंज देश भर में सुनी गई उसमें देरी होने से लोगों ने निराशा जताई है।   
 

फरीदाबाद : DCP ने ब्लैकमेलिंग के चलते रिवॉल्वर को मुंह में लगाकर मारी गोली

संदेह का लाभ मिला आरोपियों को

राजस्थान के पहलू खान मॉब लिंचिंग के इस मामले पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने आरोपियों को संदेह का लाभ देते हुए बरी किया है। कुल 9 आरोपी में 3 नाबालिग थे। कोर्ट ने अपने आदेश में कहा है कि पुलिस ने जो वीडियो फुटेज दिखाया है, उसकी एफएसएल जांच नहीं होने से कुछ स्पष्ट नहीं हो पाया है। साथ ही पहलू खान के बेटा ने भी आरोपियों की पहचान करने में असमर्थ रहा। लिहाजा आरोपियों को निर्दोष करार दिया जाता है। 

जयपुर में भड़के सांप्रदायिक दंगे, 9 पुलिसकर्मियों सहित 24 हुए चोटील, धारा 144 लागु

वीडियो की तस्वीर थी धुंधली
उधर आरोपियों के वकील ने कहा कि वे कोर्ट के आदेश का सम्मान करते है। असल में पुलिस ने गलत केस बनाकर इन सबको गिरफ्तार कर लिया था। जो वीडियो पेश किया गया उसके तस्वीर धुंधली होने से भी कुछ साफ नहीं हो पाया है। इस आदेश के बाद कोर्ट के बाहर भारत माता की जय के नारे भी गूंजे। इस बीच पहलू खान केस में एक ओर मोड़ तब आया जब वीडियो बनाने वाले व्यक्ति ने कोर्ट में गवाही देने से भी मुकर गया है। वह अब यह भी स्वीकार नहीं कर रहा है कि उसने ही यह वीडियो बनाया था। मोबाइल लोकेशन से भी कुछ साबित नहीं हो पाया है।  

3 नकाबपोश बदमाशों ने ऑफिस में घुसकर मारा चाकू, लूटे 2.70 लाख 

सरकारी वकील ने पुलिस की भूमिका पर उठाया सवाल
हालांकि सरकारी वकील ने इस सारे मुद्दे पर पुलिस की भूमिका पर भी सवाल उठाया है। सरकारी वकील ने कहा कि पुलिस के सबूत के आधार पर हमने कोर्ट से जिरह की थी।  इससे पहले पहलू खान के बयान पर जिन लोगों को आरोपी बनाया गया था सबको पुलिस महकमा ने क्लीन चिट दे दी थी।

भीड़ का शिकार हुआ था पहलू खान

यह मामला 2017 का है जब हरियाणा का रहने वाला पहलू खान अपने दो बेटा उमर और ताहिर के साथ राजस्थान के जयपुर से एक गाय खरीदकर वापस अपने घर लौट रहा था, तो रास्ते में ही एक भीड़ ने उस पर हमला कर दिया। यह घटना अलवर के बहरोड़ पुलिया के पास हुआ जहां पहलू खान को गाड़ी से उतारकर मारपीट की। यह उग्र भीड़ ने उस पर गौ तस्करी का आरोप लगाया। इस कहासुनी में मारपीट से पहलू खान की हालत बिगड़ गई। फिर पुलिस ने बीच बचाव करके पहलू खान को अस्पताल में भर्ती कराया। जहां 4 अप्रेल 2017 को उसका मौत हो गया।  


 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.