all-manglik-and-auspicious-work-will-be-stopped-from-july-21

21 जुलाई से रुक जाएंगे सभी मांगलिक कार्य, 19 नवंबर से शुरू होंगे सभी शुभ कार्य

  • Updated on 7/20/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। 21 जुलाई 2018 के सबसे शुभ महुर्तो में से एक है। शनिवार 21 जुलाई को भड़ली नवमी है। इस महूर्त को अबूझ और स्वंय सिद्ध महूर्त कहा जाता है। इस महूर्त में सभी तरफ के मंगलकारी काम किए जाते हैं। कहते हैं कि इस महूर्त में किसी भी तिथि, वार, नक्षत्र, योगा आदि किसी पर भी विचार नहीं किया जाता है। 

वहीं 23 जुलाई को देवशयनी एकादशी लग रही है जिसके बाद से सभी शुभ कार्य बंद हो जाएंगे। ऐसा कहा जाता है कि देवशयनी एकादशी के बाद से भगवान 4 महीनों के लिए आराम करने चले जाते हैं। अब इसके बाद 19 नवंबर के सभी मागंलिक कार्य शुरु होंगे। 

OMG! इस मंदिर में चोरी करने पर होती है सभी मनोकामना पूरी, जानिए क्या है राज

कहा जाता है कि देवशयनी एकादशी के बाद भगवान विष्णु 4 महीनों के लिए क्षीर सागर चले जाते हैं। इस वजह से इन चार महीनों में विवाह, उपनयन संस्कार, गृह प्रवेश जैसे शुभ कार्य नहीं किए जाते हैं। इसके बाद देवउठनी एकादशी पर भगवान विष्णु अपनी नींद पूरी करते हैं और सृष्टि के कार्यभार वापस अपने ऊपर ले लेते हैं। 

वहीं इसके अलावा शुभ-अशुभ दिनों की बात करें तो 19 अक्टूबर से लेकर 19 नवंबर तक शुक्र अस्त रहेगा। वहीं गुरु तारा भी 14 नवंबर से लेकर 8 दिसंबर 2018 तक अस्त रहेगा। इसलिए इस समय पर भी कोई शुभ काम नहीं किया जाएगा। 
ज्योतिष में गुरु और शुक्र तारों के उदय रहने पर ही सभी तरह के शुभ कार्य किए जा सकते है। इनके अस्त होने पर कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाता है। 

बता दें कि हिंदू रिति रिवाजो के हिसाब से किसी भी शुभ काम जैसे शादी, नामकरण, मुंडन, उपनयन संस्कार, गृह प्रवेश जैसे कार्यो के लिए सही और शुभ मुहूर्त देखकर काम किया जाता है। ये सभी काम गुरु और शुक्र तारों के उदय के होने पर ही किए जाते हैं। इनके अस्त होने पर कोई भी काम नहीं किया जाता है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.