Wednesday, Sep 18, 2019
all-the-candidates-of-delhi-who-contested-in-the-electoral-battle-know-here-whom-they-will-face

चुनावी रण में उतरे दिल्ली के सभी प्रत्याशी, जानें किससे होगा किसका मुकाबला

  • Updated on 4/23/2019

नई दिल्ली/श्वेता राणा। दिल्ली की सियासत में पिछले कई महीनों से चुनावी उथल-पुथल देखने को मिल रही थी, जिसके चलते सब उलझा हुआ था। लेकिन अब स्थिति पहले से काफी बेहतर है, क्योंकि इस चुनावी रण में राजधानी की सात संसदीय सीटों पर अब तीन टीमों के बीच मुकाबला होगा। 

दिल्ली की सातों सीटों को लेकर अब तक तस्वीर साफ नहीं थी और आप-कांग्रेस (AAP-Congress) के गठबंधन की उम्मीद ने सब उलझाकर रखा हुआ था। लेकिन, गठबंधन नहीं हुआ और दोनों ने अकेले ही चुनाव लडने का फैसला लिया।

12 मई के चुनावी रण के लिए तैयार कांग्रेस, शीला-माकन ने भरा नामांकन

हालांकि आज भी राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने गठबंधन को लेकर एक और संकेत दिया है। ऐसी स्थिति में अगर नामांकन वापसी तक की भी नौबत आती है तो तय है कि दिल्ली के मतदाताओं के बीच भाजपा (BJP), कांग्रेस और आप के प्रत्याशी के रूप में हर सीट पर तीन महत्वपूर्ण विकल्प होंगे।

फिलहाल गठबंधन की अटकलों पर विराम लग गया है, ऐसे में दिल्ली की इस सियासत का दंगल आप, कांग्रेस और भाजपा के बीच में है। आइए जानते हैं कि इस चुनावी मैदान में किस महाबली का मुकाबला किस से होगा और किसका पलड़ा रहेगा भारी।

किसी भी उम्मीदवार के नामांकन में नहीं पहुंचे केजरीवाल, कपिल मिश्रा ने बताई ये वजह!

पहले जानें सातों सीटों के उम्मीदवार

सांसदीय क्षेत्र BJP CONGRESS AAP
नई दिल्ली  मीनाक्षी लेखी   अजय माकन बृजेश गोयल
चांदनी चौक डॉ. हर्षवर्धन जेपी अग्रवाल पंकज गुप्ता
पश्चिमी दिल्ली प्रवेश वर्मा महाबल मिश्रा    बलराम जाखड़
उत्तर-पूर्वी मनोज तिवारी   शीला दीक्षित  दिलीप पांडेय
उत्तर-पश्चिमी  हंसराज हंस राजेश लिलोठिया गुग्गन सिंह
पूर्वी दिल्ली गौतम गंभीर अरविंदर सिंह लवली  आतिशी
दक्षिणी दिल्ली रमेश बिधूड़ी विजेंदर सिंह  राघव चड्ढा

कौन पड़ेगा किस पर भारी

नई दिल्ली
दिल्ली की वीआईपी सीट कहे जानी वाली नई दिल्ली संसदीय क्षेत्र से इस बार फिर से मीनाक्षी लेखी (Meenakshi Lekhi) को भाजपा द्वारा पुन: प्रत्याशी बनाया है। इससे पिछले काफी दिनों से चल रही अटकलों को विराम लग गया है। एक तरीके से मीनाक्षी अपने दम पर फिर से टिकट पाने में सफल रही हैं। 

इस सीट पर कांग्रेस ने अजय माकन (Ajay Maken) को टिकट दिया है, वहीं आम आदमी पार्टी ने ब्रजेश गोयल (Brijesh Goyal) को अपने प्रत्याशी के रुप में उतारा है। बता दें कि ये सीट भाजपा के लिए पिछले चुनाव में काफी फायदेमंद साबित हुई थी। मीनाक्षी लेखी ने 2014 लोकसभा चुनाव में आप के प्रत्याशी आशीष खेतान को लगभग डेढ़ लाख वोटों से मात दी थी।

चांदनी चौक
चांदनी चौक की सीट को लेकर भी अफवाहों का बाजार काफी गर्म रहा है। पहले खबर थी की इस सीट से शीला दीक्षित चुनाव लड़ सकती है, वहीं बाद में यह खबर आई की इस सीट से कपिल सिब्बल (Kapil Sibbal) चुनाव लड़ेंगे, लेकिन अंत तक आते-आते यह सीट कांग्रेस ने जेपी अग्रवाल के खेमे में डाल दी।

वहीं आप ने इस सीट पर अपना उम्मीदवार पंकज गुप्ता (Pankaj Gupta) को बनाया है, साथ ही यहां भाजपा को अपना टिकट रिपीट करना पड़ा। इस सीट से भाजपा की तरफ से एक बार फिर डॉ. हर्षवर्धन (Dr. Harshvardhan)चुनाव लड़ेंगे। बता दें कि पिछले चुनावों में  डॉ. हर्षवर्धन ने आप के उम्मीदवार आशुतोष को यहां 37 हजार वोटों से शिखस्त दी थी।

पश्चिमी दिल्ली
इस सीट पर भाजपा और कांग्रेस दोनों ने ही अपने पुराने उम्मीदवार को उतारा है, यानि टिकट रिपीट किया है। इस सीट पर भाजपा के वर्तमान सासंद प्रवेश वर्मा (Pravesh Verma) को एक बार फिर चुनावी रण में उतारा है, वहीं कांग्रेस ने वर्मा के खिलाफ महाबली मिश्रा (Mahabali Mishra) को टिकट दिया है।

इसी के साथ आप ने बदलाव करते हए इस सीट से बलबीर सिंह जाखड़ (Balbir Singh Jakhar) को अपने उम्मीदवार के रुप में टिकट दिया है। यहां भी बाकी दो सीटों की तरह भाजपा ने आप को 60 हजार से ज्यादा वोटों से हराया था।

उत्तर पूर्वी 
दिल्ली की सातों सीटों में सबसे दिलचस्प मुकाबला उत्तरी पूर्वी सीट पर होने जा रहा है। भाजपा ने जहां यहां से प्रदेश अध्यक्ष और इसी सीट से सांसद मनोज तिवारी (Manoj Tiwari) को उतारा है वहीं कांग्रेस ने भी अपने प्रदेश अध्यक्ष शीला दीक्षित (Sheila Dixit) को टक्कर देने के लिए सामने खड़ा कर दिया है।

यही नहीं इस सीट पर आम आदमी पार्टी  के दिलीप पांडेय (Dilip Pndey) भी ताल ठोक रहे हैं। ऐसे में राजनीति का युद्ध ब्राह्मणों के बीच होगा। 

बात अगर लोकप्रियता की जाए तो वर्तमान परिदृश्य में मनोज तिवारी का पड़ला भारी है और राजनीतिक अनुभव और कद की बात की जाए तो शीला दीक्षित कहीं आगे हैं। वह 1998 से 2013 तक लगातार 15 साल तक दिल्ली मुख्यमंत्री रह चुकी हैं।

उत्तर पश्चिमी
इस सीट से आप ने गुग्गन सिंह को उतारा है, वहीं कांग्रेस ने राजेश लिलोथिया (Rajesh Lilothia) को टिकट दिया है। इस सीट पर भाजपा ने अपने पुराने उम्मीदवार का उदित राज (Udit Raj) का टिकट काटकर सूफी गायक हंसराज हंस (Hans Raj Hans) को टिकट दिया है।

बता दे हंसराज हंस का भाजपा से पुराना नाता है। उन्होंने साल 2016 में पार्टी ज्वाइन की थी। 2017 में हुए एमसीडी चुनाव में उनका प्रदर्शन काबिक-ए-तारीफ रहा है, जिसके चलते उन्हें इस सीट से टिकट दिया गया है।

पूर्वी दिल्ली
पूर्वी दिल्ली की लोकसभा सीट से आम आदमी पार्टी ने आतिशी  (Atishi)को उतारा है। जबकि कांग्रेस ने अरविंदर सिंह लवली (Arvinder SinghLovely) को यहां से टिकट दिया है। इस सीट पर भाजपा की ओर से गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) को प्रत्याशी चुना गया है।

गंभीर को पार्टी ने महेश गिरी की जगह टिकट दिया है। यहां ये देखना दिलचस्प होगा कि गंभीर पार्टी में अपनी ओपनिंग से धमाल मचाते है या फिर परिणाम कुछ और होगा।

दक्षिणी दिल्ली
दक्षिणी दिल्ली की लोकसभा सीट से आम आदमी पार्टी ने चर्चित नेता राघव चड्ढा (Raghav Chadha) को उतारा है। वहीं, भाजपा की ओर से यहां के वर्तमान सांसद रमेश बिधूड़ी (Ramesh Bidhudi) को मैदान में उतारा गया है। कांग्रेस ने आज अपने सांतवे उम्मीदवार की घोषणा करते हुए इस अपने सारे उम्मीदवार रण में उतार दिए है। 

इस सीट से कांग्रेस ने बॉक्सर विजेंद्र सिंह (Vijender Singh) को उतारा है। बता दें कि पिछले चुनाव में रमेश बिधूड़ी ने आम आदमी पार्टी के प्रत्याशी देविंदर सहरावत को एक लाख सात हजार वोटों से हराया था। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.