Sunday, Feb 28, 2021
-->
allergic reaction after receiving covid19 vaccination aiims kmbsnt

कोरोना वैक्सीन लगने के बाद सिक्योरिटी गार्ड की हालत गंभीर, AIIMS में भर्ती

  • Updated on 1/17/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कोरोना वैक्सीनेशन (Corona vaccination) के पहले दिन दिल्ली में 52 लोगों पर आंशिक दुष्प्रभाव की सूचना है, जबकि एक व्यक्ति की हालत गंभीर बताई जा रही है। मरीज का उपचार एम्स (AIIMS) में किया जा रहा है। मरीज की हालत फिलहाल स्थिर है। डॉक्टरों के मुताबिक टीका लगने के बाद बुखार और दर्द होने पर मरीज को उपचार की जरूरत पड़ी।

डॉक्टर कुछ दवाइयों के जरिए दुष्प्रभाव को कम करने का प्रयास कर रहे हैं। एम्स के कर्मचारी ने इस बात की जानकारी दी है। एम के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक 22 वर्षीय स्वास्थ्य कर्मचारी को टीका लगने के बाद दिक्कत हुई है। बताया गया है कि मरीज एम्स में बतौर सुरक्षाकर्मी नियुक्त है। 

Covaxin लगवाने से RML के डॉक्टरों ने किया इंकार, Covishield की डिमांड की

एम्स में शनिवार को कैसा था माहौल
बता दें कि शनिवार को एम्स में विश्व के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान को लेकर पूरी तैयारियां हो चुकी थी। नई ओपीडी ब्लॉक की आठवीं मंजिल पर टीकाकरण की व्यवस्था की गई थी। उसकी सजावट और प्रबंध देखने लायक ही था। स्वास्थ्य कर्मी बेसब्री से प्रधानमंत्री के संबोधन और उनके द्वारा अभियान की शुरुआत करने की प्रतीक्षा कर रहे थे।

प्रधानमंत्री के संबोधन के लिए आठवीं मंजिल पर एक स्क्रीन लगाई गई थी। सभी की निगाहें उसी ओर टिकी हुई थी। इसी बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन और नीति आयोग के सदस्य डॉ वीके पॉल एम्स पहुंच चुके थे। दोनों अतिथियों को एम्स निदेशक प्रोफेसर रणदीप गुलेरिया और कुछ वरिष्ठ डॉक्टर ने स्वागत किया।

शनिवार सुबह करीब 10:30 बजे जैसे ही प्रधानमंत्री मुखातिब हुए कार्यक्रम स्थल तालियों से गूंज उठा। करीब 40 मिनट तक कर्मियों ने उनके संबोधन को पूरे ध्यान से सुना। प्रधानमंत्री द्वारा अभियान के आधिकारिक शुरुआत की घोषणा के बाद व्यवस्था के तहत डॉक्टर कर्मचारी अपनी ड्यूटी पर तैनात हो गए।

दिल्ली: LNJP अस्पताल में CM केजरीवाल की मौजूदगी में शुरू हुआ कोरोना वैक्सीनेशन

सफाई कर्मचारी को लगा पहला टीका
विश्व के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान के तहत में पहला स्वदेशी टीका सुबह 11:13 पर सफाई कर्मचारी मनीष कुमार को लगाया गया था। नीति आयोग के सदस्य डॉ वीके पॉल ने 11:17 पर टीका लगवाया, जबकि 11:21 पर गुलेरिया ने भी स्वदेशी टीका लगाकर इससे संबंधित तमाम अफवाहों पर विराम लगा दिया।

सभी लोगों के शारीरिक तापमान की जांच की गई। उसके बाद सबने जरूरी कागजात पर हस्ताक्षर कर लिए। टीका लगवाने वाले व्यक्ति के बकायदा रिकॉर्ड का मिलान किया गया। उसके बाद उन्हें टीका लगाया गया। टीका लगवाने के बाद डॉ वीके पॉल और प्रोफेसर रणदीप गुलेरिया सहित सभी लोगों को 30 मिनट तक निगरानी में रखा गया। 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.