Tuesday, Jun 28, 2022
-->
along-with-ncp-chief-minister-thackeray-ashok-chavan-also-supported-the-ruling-alliance

राकांपा मुख्यमंत्री ठाकरे के साथ, अशोक चव्हाण ने भी किया सत्तारूढ़ गठबंधन का समर्थन

  • Updated on 6/23/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ने बृहस्पतिवार को कहा कि वह महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ गठबंधन महा विकास आघाड़ी (एमवीए) को बचाने के लिए हरसंभव प्रयास करेगी और पार्टी ²ढ़ता से मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ खड़ी है। उल्लेखनीय है कि शिवसेना में बगावत के चलते महाराष्ट्र सरकार पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं। राज्य में मौजूदा राजनीतिक संकट की पृष्ठभूमि में राकांपा अध्यक्ष शरद पवार की अध्यक्षता में पार्टी की बैठक के बाद यहां संवाददाताओं से बातचीत में उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने कहा कि उनकी पार्टी उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाले एमवीए के साथ है। राकांपा के वरिष्ठ नेता अजित पवार ने कहा, 'हम गठबंधन सरकार को बचाने के लिए हरसंभव प्रयास करेंगे।" उन्होंने कहा, 'मैंने (राजनीतिक संकट के बारे में) फोन पर उद्धव ठाकरे से बात की।' 

शरद पवार ने किया साफ- ठाकरे सरकार के भाग्य का फैसला होगा विधानसभा में

अजित पवार, जिनके पास वित्त विभाग भी है, ने इस आलोचना को खारिज किया कि उन्होंने एमवीए सहयोगी कांग्रेस और शिवसेना को विकास निधि देने से इनकार कर दिया है। उन्होंने कहा, 'मैंने कभी किसी के साथ भेदभाव नहीं किया। बजटीय फंड में कभी कोई कटौती नहीं की गई।' शिवसेना सांसद संजय राउत ने टिप्पणी की थी कि अगर असंतुष्ट विधायक मुंबई लौटते हैं और मुख्यमंत्री के साथ बातचीत करते हैं, तो उनकी पार्टी सत्ताधारी गठबंधन छोडऩे पर विचार करने के लिए तैयार है। इस टिप्पणी के बारे में प्रश्न करने पर अजित पवार ने कहा, 'यह उनका विशेषाधिकार है। हम इसके बारे में उद्धव ठाकरे से पूछेंगे। हो सकता है कि यह विद्रोहियों को पार्टी में वापस लाने के लिए कहा गया हो।' यह पूछे जाने पर कि क्या मौजूदा राजनीतिक संकट में विपक्षी भाजपा की कोई भूमिका है, अजित पवार ने कहा, 'अभी तक, भाजपा के किसी शीर्ष नेता को सामने नहीं देखा गया है।’’      

महाराष्ट्र में सरकार गिराने की भाजपा की कोशिश अनैतिक, असंवैधानिक : ममता 

कांग्रेस महाराष्ट्र के सत्तारूढ़ गठबंधन का समर्थन करती रहेगी: अशोक चव्हाण 
शिवसेना के कद्दावर नेता एकनाथ शिंदे की बगावत के बीच महाराष्ट्र के लोक निर्माण मंत्री एवं वरिष्ठ कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण ने बृहस्पतिवार को कहा कि महा विकास आघाड़ी (एमवीए) को उनकी पार्टी का समर्थन जारी रहेगा तथा यह तय करने के लिए होटल नहीं, बल्कि विधानसभा उपयुक्त स्थान है कि सरकार बहुमत में है या अल्पमत में।  कैबिनेट मंत्री शिंदे की बगावत से करीब ढाई साल पुरानी एमवीए सरकार गंभीर संकट में आ गयी है। शिंदे ने शिवसेना के 37 विधायकों का समर्थन होने का दावा किया है। राज्य की राजनीतिक स्थिति पर बुलायी गयी कांग्रेस नेताओं की बैठक के बाद चव्हाण ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘ हमने भाजपा को (सत्ता में आने से) रोकने के लिए शिवसेना एवं राकांपा के साथ मिलकर एमवीए बनाया था। एमवीए के प्रति हमारा समर्थन जारी है। 

लोकसभा उपचुनाव में सत्ता का दुरुपयोग करने में BJP ने कोई कसर नहीं छोड़ी : अखिलेश यादव 

मंत्री ने कहा कि शिवसेना नीत सरकार अल्पमत में आ गयी है या नहीं, इसका फैसला होटल में नहीं किया जा सकता और इसके लिए सदन का पटल ही उचित मंच है। शिवसेना के बागी विधायक भाजपा शासित राज्य असम के गुवाहाटी में डेरा डाले हुए हैं। जब वरिष्ठ कांग्रेस नेता चव्हाण से पूछा गया कि क्या एमवीए विधानसभा में शक्ति परीक्षण के लिए तैयार है तो उन्होंने कहा कि इस संबंध में कोई भी फैसला सत्तारूढ़ गठबंधन के तीनों घटक दलों को मिलकर करना है। उससे पहले शिवसेना सांसद संजय राउत ने संकेत दिया था कि यदि बागी विधायक मुंबई लौट आते हैं एवं मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से बातचीत करते हैं तो उनकी पार्टी एमवीए से बाहर आने पर विचार कर सकती है।

महाराष्ट्र सरकार को अस्थिर करने का मकसद राष्ट्रपति चुनाव : कांग्रेस

     

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.