Thursday, Aug 16, 2018

अमर सिंह बोले- सपा में जया बच्चन को तरजीह देकर अखिलेश यादव ने कतरे राम गोपाल के पर

  • Updated on 3/13/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। समाजवादी पार्टी के सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव के खासमखास रहे पार्टी के पूर्व नेता अमर सिंह अब नरेश अग्रवाल प्रकरण में कूद पड़े हैं। अमर सिंह इस बात से खुश हैं कि सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने नरेश अग्रवाल को राज्यसभा का टिकट नहीं दिया। 

जया के समर्थन में अखिलेश ने नरेश अग्रवाल को लिया आड़े हाथ, मुलायम सिंह भी सख्त

अमर सिंह का कहना है कि यह वहीं नरेश अग्रवाल हैं, जो उनके सपा से बाहर निकालने के लिए जिम्मेदार थे। इसके साथ ही अमर सिंह ने कहा कि जया बच्चन को राज्यसभा का टिकट देकर अखिलेश यादव ने एक तीर से दो निशाने लगाने की कोशिश की है। इससे जहां नरेश अग्रवाल का पत्ता कटा, वहीं राम गोपाल यादव के पर भी काटे जा रहे हैं। 

PNB Scam पर RBI ने किया था राहुल- चिदंबरम को अलर्ट, रघुराम राजन ने दी सफाई

एबीपी न्यूज चैनल को दिए इंटरव्यू में अमर सिंह ने कहा कि अखिलेश की आंखों का तारा रहे राम गोपाल यादव और नरेश अग्रवाल ने उन्हें पार्टी से बाहर करने की साजिश रची थी। अखिलेश और उनकी पत्नी डिंपल यादव ने जिस तरह से पार्टी में नरेश अग्रवाल का सियासी करियर खत्म किया, उससे राम गोपाल के पर भी कट गए हैं। 

राफेल डील पर प्रशांत भूषण का सवाल, क्या पीएम मोदी को फ्रांस ब्लैकमेल कर रहा है?

अमर सिंह ने कहा कि यही वजह है कि जया से राज्यसभा की रेस हारने के बाल नरेश अग्रवाल ने मजबूरी में भाजपा का दामन थाम लिया। सिंह ने कहा कि उन्हें उत्तर प्रदेश से जया बच्चन के चुने जाने पर खुशी है। लेकिन, इसके साथ ही उन्होंने जया पर कटाक्ष भी किया। 

भूख हड़ताल से पहले दिल्ली में सीलिंग मुद्दे का हल तलाशने में जुटे सीएम केजरीवाल

मुलायम सिंह के खासमखास रहे अमर सिंह ने आगे कहा, 'जया जी इस सच्चाई को झुठला नहीं सकती हैं कि उन्हें राज्यसभा की टिकट सपा में मेरे कहने पर ही मिली थी। जब मेरे साथ अन्याय हुआ तो वह मुलायम सिंह की छत्रछाया में चली गईं। जब मुलायम पर गाज गिरी तो वह डिंपल का समर्थन करने लगीं। इसमें कोई शक नहीं कि वह चतुर नेत्री भी बन गई हैं।'
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.