Wednesday, Dec 02, 2020

Live Updates: Unlock 7- Day 2

Last Updated: Wed Dec 02 2020 09:31 AM

corona virus

Total Cases

9,499,710

Recovered

8,931,798

Deaths

138,159

  • INDIA9,499,710
  • MAHARASTRA1,823,896
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA884,897
  • TAMIL NADU781,915
  • KERALA602,983
  • NEW DELHI570,374
  • UTTAR PRADESH543,888
  • WEST BENGAL526,780
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • ODISHA318,725
  • TELANGANA269,816
  • RAJASTHAN268,063
  • CHHATTISGARH237,322
  • BIHAR235,616
  • HARYANA234,126
  • ASSAM212,776
  • GUJARAT209,780
  • MADHYA PRADESH206,128
  • CHANDIGARH183,588
  • PUNJAB152,091
  • JAMMU & KASHMIR110,224
  • JHARKHAND109,151
  • UTTARAKHAND74,340
  • GOA45,389
  • HIMACHAL PRADESH40,518
  • PUDUCHERRY36,000
  • TRIPURA32,723
  • MANIPUR23,018
  • MEGHALAYA11,810
  • NAGALAND11,186
  • LADAKH8,415
  • SIKKIM4,990
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,710
  • MIZORAM3,825
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,327
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
amarinder singh and sidhu soon the issue of resentment can be resolved pragnt

अमरिंदर और सिद्धू के बीच कड़वाहट हुई कम, जल्द सुलझ सकता है नाराजगी का मुद्दा

  • Updated on 10/11/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) और पूर्व मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) के बीच कड़वाहट होने की लंबे समय से चली आ रही खबरों की पृष्ठभूमि में कांग्रेस महासचिव एवं प्रदेश प्रभारी हरीश रावत (Harish Rawat)  ने रविवार को कहा कि दोनों नेताओं के बीच दूरियां कम हुईं हैं और साथ काम करने को लेकर दोनों तरफ से सकारात्मक संकेत भी मिले हैं।

दिल्ली की चैतन्या बनी 1 दिन के लिए ब्रिटेन की उच्चायुक्त, महिला सशक्तीकरण के पहल के तहत मिला अवसर

प्रदेश प्रभारी हरीश रावत ने कहा ये
प्रदेश प्रभारी हरीश रावत ने बताया कि सिद्धू को पंजाब में कांग्रेस के वर्तमान नेतृत्व के साथ खड़ा करना चुनौतीपूर्ण काम है, लेकिन बतौर प्रभारी वह इसका प्रयास करेंगे तथा उनकी कोशिश है कि जल्द ही पूर्व क्रिकेटर की राहुल गांधी से मुलाकात हो जाए। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सिद्धू यह समझते हैं कि कांग्रेस से बेहतर मंच उन्हें नहीं मिल सकता। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुनील जाखड़ के कामकाज से असंतुष्ट होने और दूसरा अध्यक्ष चुनने की जाखड़ की चुनौती संबंधी खबरों पर रावत ने कहा कि उन्होंने कभी भी प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के काम से असंतुष्टि नहीं जताई और यह गैर-जरूरी विवाद खड़ा किया गया है। उन्होंने यह भी कहा कि पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष को बदलने को लेकर कोई चर्चा नहीं हुई है।

पराली समस्या पर केजरीवाल बोले- दिल्ली के खेतों में होगा ‘जैव विघटन’ घोल का छिड़काव 

जल्द सुलझ सकता है नाराजगी का मुद्दा
उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री ने यह उम्मीद भी जताई कि कांग्रेस के राज्यसभा सदस्यों प्रताप सिंह बाजवा और शमशेर सिंह दूलों की नाराजगी का मुद्दा जल्द सुलझा लिया जाएगा क्योंकि राहुल गांधी के हालिया पंजाब दौरे के समय बाजवा ने उनसे मुलाकात कर अपनी बात उनके समक्ष रखी।

स्‍वामित्‍व योजना: प्रॉपर्टी कार्ड दिखाकर बैंकों से बहुत आसानी से कर्ज मिलना सुनिश्चित हुआ: PM मोदी

इससे मिला संकेत
बाजवा कृषि कानूनों के खिलाफ निकाली गई कांग्रेस की ‘खेती बचाओ यात्रा’ के दौरान राहुल गांधी के साथ मंच पर नजर आए थे और सभा को संबोधित किया था। पिछले साल मंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद सिद्धू पहली बार कांग्रेस के किसी बड़े कार्यक्रम में शामिल हुए थे। रावत ने कहा कि सिद्धू को केंद्रीय नेतृत्व से कोई नाराजगी नहीं है। राहुल जी और प्रियंका जी के प्रति उनकी पूरी प्रतिबद्धता है। मगर उनको पंजाब में वर्तमान कांग्रेस नेतृत्व के साथ खड़ा करना चुनौतीपूर्ण काम है। मेरा प्रयास है कि वह खड़े हों।

हाथरस गैंगरेप : आज लखनऊ उच्च न्यायालय में पेश होंगे पीड़ित परिवार और अधिकारी

दोनों से मिले सकारात्म संकेत
रावत ने आगे कहा कि मुख्यमंत्री से मेरी बात हुई है। उन्होंने सकरात्मक संकेत दिए हैं कि सिद्धू आएं और साथ काम करें। सिद्धू की तरफ से भी सकारात्मक संकेत मिले हैं। सिद्धू ने भी मुख्यमंत्री के बारे में कोई कड़वाहाट नहीं जताई है। इस सवाल पर कि क्या भविष्य में सिद्धू पंजाब में कांग्रेस के चेहरा हो सकते हैं, पार्टी के प्रभारी ने कहा कि सिद्धू इस बात को समझते हैं कि उन्हें कांग्रेस से बेहतर कोई मंच नहीं मिल सकता। उन्होंने कहा कि सिद्धू के साथ जिस तरह की जनभावना है और उनका अपना हुनर है, उनके चलते कांग्रेस से बेहतर मंच उनके लिए कोई और नहीं हो सकता। वह भी इस बात को समझते हैं। वह जानते हैं कि उनके और पंजाब के हित में यही है कि वह कांग्रेस और राहुल जी एवं प्रियंका जी के साथ खड़े हों। उन्होंने मुझसे कहा कि वह राहुल जी के लिए पूरी तरह समर्पित हैं।

उत्तर प्रदेश के साथ राजस्थान सरकार पर बरसीं मायावती, कहा राज्यों में अपराध चरम पर

जल्द पारित होगा एक विधेयक
गौरतलब है कि कृषि से जुड़े केंद्रीय कानूनों के संदर्भ में पंजाब विधानसभा में जल्द ही एक विधेयक पारित किया जाएगा और फिलहाल इसके कानूनी पहलुओं पर विचार चल रहा है। उन्होंने कृषि कानूनों के विरोध में अकाली दल के मोदी सरकार से अलग होने को भाजपा और अकाली दल के बीच की नूरा-कुश्ती करार दिया और दावा किया कि पंजाब विधानसभा चुनाव के बाद अकाली दल फिर से सरकार का हिस्सा बन जाएगा।

comments

.
.
.
.
.