Tuesday, Jan 19, 2021

Live Updates: Unlock 8- Day 19

Last Updated: Tue Jan 19 2021 10:42 PM

corona virus

Total Cases

10,596,107

Recovered

10,244,677

Deaths

152,743

  • INDIA10,596,107
  • MAHARASTRA1,994,977
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA931,997
  • KERALA911,382
  • TAMIL NADU831,866
  • NEW DELHI632,821
  • UTTAR PRADESH597,238
  • WEST BENGAL565,661
  • ODISHA333,444
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • RAJASTHAN314,920
  • JHARKHAND310,675
  • CHHATTISGARH293,501
  • TELANGANA290,008
  • HARYANA266,309
  • BIHAR258,739
  • GUJARAT252,559
  • MADHYA PRADESH247,436
  • ASSAM216,831
  • CHANDIGARH183,588
  • PUNJAB170,605
  • JAMMU & KASHMIR122,651
  • UTTARAKHAND94,803
  • HIMACHAL PRADESH56,943
  • GOA49,362
  • PUDUCHERRY38,646
  • TRIPURA33,035
  • MANIPUR27,155
  • MEGHALAYA12,866
  • NAGALAND11,709
  • LADAKH9,155
  • SIKKIM5,338
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,983
  • MIZORAM4,322
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,374
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
amarinder singh launches signature campaign in punjab against agricultural laws rkdsnt

अमरिन्दर सिंह ने कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब में शुरू किया हस्ताक्षर अभियान

  • Updated on 10/2/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिन्दर सिंह (Amarinder Singh) ने नये कृषि कानूनों के खिलाफ शुक्रवार को कांग्रेस का हस्ताक्षर अभियान शुरू किया और केन्द्रीय मंत्रिमंडल से हरसिमरत कौर बादल के इस्तीफे के संदर्भ में ‘‘राजनीतिक नाटकबाजी’’ के लिए शिरोमणि अकाली दल की आलोचना की। सिंह ने कहा कि कृषि कानूनों के विरोध में नरेंद्र मोदी मंत्रीमंडल से बादल के इस्तीफे को शिअद ‘‘पंजाब के प्रति कर्तव्य के स्थान पर बहुत बड़े बलिदान के रूप में पेश कर रही है।’’ 

यह याद करते हुए कि राज्य और उसके लोगों के हितों के लिए उन्होंने भी दो बार संसद की सदस्यता से त्यागपत्र दिया है, मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने यह कर्तव्य समझकर किया और इसे कभी बलिदान नहीं माना ‘‘जैसा बादल मान रहे हैं।’’ उन्होंने नये कृषि कानूनों के खिलाफ शिअद के प्रदर्शन को ‘पूरी तरह असफल’ बताया और उसे पंजाब का माहौल खराब करने का प्रयास बताया। उन्होंने कहा, ‘‘विधानसभा में 28 अगस्त को जब किसान विरोधी अध्यादेशों को वापस लिए जाने और केन्द्र सरकार से न्यूनतम समर्थन मूल्य को वैधानिक अधिकार घोषित करने की मांग करने वाला प्रस्ताव पारित किया जा रहा था, उस वक्त वे लोग कहां थे।’’ 

राहुल गांधी बोले - हाथरस कांड का सच छिपाने के लिए दरिंदगी पर उतरी योगी सरकार

यह दोहराते हुए कि उनकी सरकार नये कृषि कानूनों को संवैधानिक तरीके से चुनौती देगी, मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘उनके नाटक अब अकालियों को किसानों का दिल जीतने में मदद नहीं करेंगे क्योंकि किसानों का जीवन बर्बाद करने में वह भी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के साथ गठबंधन में शामिल हैं।’’ बयान के अनुसार, उन्होंने कहा, ‘‘यह भाजपा या कांग्रेस के बारे में कोई राजनीतिक लड़ाई नहीं है, यह हमारी किसानी, पंजाब और वजूद की लड़ाई है।’’ 

हाथरस घटना को लेकर गुस्सा बरकरार, लखनऊ, अलीगढ़ के बाद दिल्ली में प्रदर्शन, केजरीवाल भी शामिल

महात्मा गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की जन्मतिथि पर मुख्यमंत्री पंजाब सिविल सचिवालय से तीन परियोजनाओं का ऑनलाइन उद्घाटन करने के बाद राज्य के सरपंचों को संबोधित कर रहे थे। कृषि कानूनों के खिलाफ कांग्रेस के हस्ताक्षर अभियान की शुरुआत के वक्त पंजाब प्रदेश कांग्रेस समिति के अध्यक्ष सुनील जाखड़ और पंजाब युवा कांग्रेस के अध्यक्ष ङ्क्षब्रदर सिंह ढिल्लों भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने यह भी रेखांकित किया कि पंजाब की आबादी देश की आबादी की महज दो प्रतिशत होने के बावजूद ‘‘राज्य छह दशक से पूरे देश को भोजन दे रहा है।’’ 

नये कृषि कानून से महात्मा गांधी बेहद खुश होते :जितेंद्र सिंह 
केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने शुक्रवार को कहा कि कृषि और ग्रामीण समृद्धि महात्मा गांधी के दिल के बहुत करीब थी और अगर वह आज होते तो सरकार द्वारा पारित नये कृषि कानूनों से सबसे ज्यादा खुश होते। सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आजादी के 70 साल बाद कृषि क्षेत्र में नये सुधारों के साथ बापू के गांवों और खेती के दृष्टिकोण पर वास्तव में ध्यान दिया है। 

हाथरस कांड में पुलिस अधिकारियों के खिलाफ योगी सरकार ने की कार्रवाई

‘‘स्वच्छता के साथ महात्मा गांधी के प्रयोग-समृद्धि की कुंजी’’ विषयक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि नये कृषि कानून न केवल भारतीय कृषि क्षेत्र को वैश्विक प्रतिस्पर्धा के लिहाज से गति प्रदान करेंगे, बल्कि किसानों की आय दूनी करने में भी मदद करेंगे। एक आधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार कार्यक्रम का आयोजन केंद्रीय भंडार और सेंटर फॉर स्ट्रेटजी एंड लीडरशिप ने यहां विज्ञान भवन में किया था। 

असम में प्रश्न पत्र लीक होने के चलते रद्द पुलिस भर्ती परीक्षा की नई तारीख का ऐलान

पिछले छह वर्ष में नीम कोटेड यूरिया, मृदा स्वास्थ्य कार्ड, किसान क्रेडिट कार्ड, प्रधानमंत्री-किसान सम्मान निधि, फसल बीमा योजना जैसे केंद्र सरकार के किसान हितैषी कदमों का जिक्र करते हुए सिंह ने कहा कि ये फैसले भारतीय कृषि के लोकतंत्रीकरण का प्रतिनिधित्व करते हैं और पहली बार किसानों को उनकी पसंद चुनने की आजादी देते हैं। 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

comments

.
.
.
.
.