Thursday, Jun 24, 2021
-->
amarinder singh to protest at rajghat today over power cuts sohsnt

पंजाब: मालगाड़ियां रोके जाने के विरोध में आज राजघाट पर धरना देंगे कैप्टन अमरिंदर सिंह

  • Updated on 11/4/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पंजाब (Punjab) में कृषि कानून (Farm bill) के विरोध में हो रहे 'रेल रोको आंदोलन' के चलते केंद्र ने यहां मालगाड़ियों की आवाजाही 7 नवंबर तक के लिए बंद कर दी, जिसके बाद से राज्य में तीन से चार घंटे बिजली की कटौती होने लगी है। इसके साथ ही खाद की किल्लत बढ़ने होने लगी है। उद्योंगो पर भी इसका असर दिखने लगा है। ऐसे में पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amrinder Singh) आज यानी 4 नवंबर को केंद्र के खिलाफ राजघाट पर धरना देंगे।

तेजस्वी, तेज प्रताप के चुनावी हलफनामे को लेकर चुनाव आयोग से मिला जदयू शिष्टमंडल

मालगाड़ियां रोके जाने के विरोध में धरना
कैप्टन अमरिंदर सिंह आज सरकार के अन्य मंत्री और विधायकों के साथ दिल्ली में बापू की समाधि राजघाट पर धरना देगें।उन्होंने ये फैसला तब लिया जब राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की ओर से पंजाब सरकार के शिष्टमंडल को मिलने के लिए समय नहीं दिया गया। इसके साथ ही उनका ये धरना केंद्र सरकार की ओर से राज्‍य में मालगाड़ियों का परिचालन बंद करने के विरोध में है।

कृषि कानून : सीएम अमरिंदर को राष्ट्रपति ने नहीं दिया समय, अब राजघाट पर देंगे धरना 

कोयले की कमी के कारण होगी बिजली कटौती
वहीं दूसरी ओर राज्य में हो रही बिजली कटौती को लेकर पंजाब के सरकारी विद्युत निगम का कहना है कि राज्य में तीन निजी बिजली संयंत्र बंद होने और दो विद्युत स्टेशनों में कोयले की कमी के चलते मंगलवार शाम से प्रत्येक श्रेणी में कम से कम दो-तीन घंटे बिजली आपूर्ति ठप रहेगी। केन्द्र सरकार के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब के किसान कुछ ट्रेन पटरियों पर प्रदर्शन कर रहे हैं। इसके चलते रेलवे ने मालगाड़ियों की आवाजाही रोक लगा रखी है।

370 को लेकर फिर एक्शन में महबूबा मुफ्ती कहा-कश्मीरी युवाओं के लिए हम किसी भी हद तक जायेंगे

4-5 घंटे रोजाना होगी बिजली कटौती 
पंजाब राज्य विद्युत निगम लिमिटेड (PSPCL) के अध्यक्ष ए वेणु प्रसाद ने बीते मंगलवार को कहा कि, 'हम आज शाम से दो-तीन घंटे बिजली कटौती करने जा रहे हैं।' उन्होंने कहा, 'बिजली कटौती को बढ़ाकर 4-5 घंटे किया जा सकता है। हालात काफी नाजुक हैं।' एक आधिकारिक प्रवक्ता ने कहा कि दिन के समय में बिजली उपलब्धता में भारी कमी के चलते विभाग के पास मंगलवार शाम से सभी रिहायशी, वाणिज्यिक और कृषि उपभोक्ताओं की श्रेणी में बिजली कटौती किए जाने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा है।

बिहार के कटिहार में राहुल का वार “कोरोना के वक्त PM ने नहीं की मजदूरों की मदद, अब मिलेगा जवाब”

बिजली वितरक कंपनी जीवीके पावर ने कही ये बात
इसके साथ ही निजी बिजली वितरक कंपनी जीवीके पावर ने कहा है कि कोयले का भंडार पूरी तरह खत्म होने के चलते वह मंगलवार शाम से संचालन बंद कर देगी। दो अन्य निजी बिजली संयंत्रों-राजपुरा स्थित नाभा पावर और मानसा स्थित तलवंडी साबो- ने कोयले की कमी के चलते पहले ही संचालन बंद कर दिया है। अधिकारी ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा संचालित दो विद्युत केन्द्रों लेहरा मोहब्बत और रोपड़ पावर प्लांट के पास भी एक या दो दिन का कोयला बचा है। पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिन्दर सिंह ने एक बयान में कहा कि राज्य में कोयले की कमी के चलते जमीनी हालत बहुत मुश्किल हैं।

comments

.
.
.
.
.