Saturday, Jul 31, 2021
-->
ambani security case nia raids mumbai club rkdsnt

अंबानी सुरक्षा मामला: NIA ने मुंबई के क्लब पर मारा छापा

  • Updated on 4/1/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। एनआईए ने कारोबारी मनसुख हिरन की कथित हत्या के मामले में बृहस्पतिवार को यहां एक क्लब में तलाशी ली और निलंबित पुलिस अधिकारी सचिन वाजे द्वारा इस्तेमाल सिम कार्डों से संबंधित अहम दस्तावेज बरामद किये। अधिकारियों ने यहां यह जानकारी दी। गौरतलब है कि हिरन की कार का इस्तेमाल उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर के बाहर विस्फोटक सामग्री रखने में हुआ था। उन्होंने कहा कि देवजीत नामक व्यक्ति द्वारा संचालित ‘आशीष क्लब’ में छापेमारी की गई। उन्होंने बताया कि देवजीत ने मामले के आरोपियों में से एक नरेश गौर को कथित तौर पर वाजे के निर्देश पर नौकरी दी थी। 

यूपी पंचायत चुनाव: गाजियाबाद में 161 ग्राम प्रधानों के निर्वाचन के लिए 15 अप्रैल को वोटिंग

अधिकारियों ने कहा कि वाजे ने नरेश को निर्देश दिया था कि वह उनके व्यक्तिगत इस्तेमाल के लिये सिम कार्ड खरीदे। अधिकारियों ने कहा कि नरेश ने कथित तौर पर पड़ोसी राज्य गुजरात से सिम कार्ड खरीदे और सह-आरोपी विनायक शिंदे के माध्यम से उन्हें वाजे को दिया गया। इनमें से एक सिम कार्ड का इस्तेमाल वाजे द्वारा हिरन को फोन करने के लिये किया गया, जो व्यापारी की हत्या से पहले आखिरी कॉल था। हिरन का शव निकटवर्ती ठाणे जिले के मुंब्रा कस्बे में पांच मार्च को एक नाले में मिला था। 

जबरन धर्मांतरण रोकने को लेकर भाजपा नेता ने दाखिल की सुप्रीम कोर्ट में याचिका

अधिकारियों ने कहा कि बृहस्पतिवार को तलाशी के दौरान क्लब से सिम कार्ड से जुड़े दस्तावेज जब्त किये गए और इसके अलावा अन्य सामग्री भी जब्त की गईं जिनसे संकेत मिलता है कि सरकारी सेवकों को कथित तौर पर रिश्वत दी गई। उन्होंने कहा कि वाजे ने उन खबरों के सामने आने के बाद कथित तौर पर हिरन की हत्या की थी कि मामले की जांच केंद्रीय एजेंसी को सौंपी जा सकती है। शुरुआती जांच से संकेत मिलते हैं कि हिरन को एक ऐसी जगह बुलाया गया जहां किसी दवा के जरिये उन्हें बेहोश किया गया और फिर गला दबाकर उनकी हत्या कर दी गई। मुंबई में अंबानी के घर के बाहर 25 फरवरी को उनका वाहन मिला था जिसमें जिलेटिन की 25 छड़ों के साथ एक धमकी भरा खत भी था। 

केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ विपक्ष को एकजुट करने में जुटी ममता बनर्जी 

एनआईए ने अदालत में कहा है कि वाजे ने 25 फरवरी को अंबानी के घर के बाहर जिलेटिन की छड़ों के साथ वाहन खड़ा करने से पहले वह वाहन कथित तौर पर हिरन से लिया था। एनआईए ने 15 मार्च को वाजे को हिरासत में लिया था और फिलहाल वह तीन अप्रैल तक केंद्रीय एजेंसी की हिरासत में है। हिरन हत्या मामले की शुरुआती जांच कर रही महाराष्ट्र एटीएस ने गौर और शिंदे को गिरफ्तार किया था। एनआईए ने इस मामले की जांच भी अपने हाथ में ले ली है और दोनों आरोपी 10 अप्रैल तक एजेंसी की हिरासत में हैं। 

आंदोलनकारी किसानों ने अब संसद तक पैदल मार्च का किया ऐलान

 

 

 

 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.