Sunday, Aug 01, 2021
-->
America said eager to work together with powerful India SOHSNT

अमेरिका ने माना भारत का लोहा, कहा- ताकतवर भारत के साथ मिलकर काम करने के लिए उत्सुक

  • Updated on 10/26/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पूर्वी लद्दाख में भारत-चीन सीमा विवाद (India China border Dispute) को लेकर जारी गतिरोध के बीच अमेरिका (America) के विदेश मंत्रालय ने नई दिल्ली में टू प्लस टू मंत्रीस्तरीय बैठक से पहले वैश्विक परिदृश्य में उभरते भारत को लेकर एक बड़ी बात कही है। मंत्रालय ने कहा, 'अमेरिका क्षेत्रीय और वैश्विक शक्ति के रूप में उभरते भारत का स्वागत करता है।' इसके साथ ही कहा कि  भारत के एक जनवरी 2021 से शुरू हो रहे यूएनएससी (UNSC) के कार्यकाल के दौरान अमेरिका उसके साथ काम करने को लेकर बेहद उत्सुक है।

कनाडा में भारतवंशी बने विधायक, ब्रिटिश कोलंबिया चुनाव में पंजाब के 8 नागरिकों को मिली जीत

अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने एक फैक्ट शीट में कहा
दरअसल, दोनों देशों की बीच नई दिल्ली में होने जा रही तीसरी 2+2 मंत्रीस्तरीय बैठक से पहले विदेश मंत्रालय ने एक फैक्ट शीट में कहा, 'भारत के एक क्षेत्रीय और वैश्विक शक्ति बनकर उभरने का अमेरिका स्वागत करता है। अमेरिका संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत के आगामी कार्यकाल के दौरान उसके साथ निकटता से काम करने को भी उत्सुक है।'

पाकिस्तान में फिर तोड़ा गया हिंदू मंदिर, कट्टरपंथियों ने दुर्गा मां की मूर्ति तोड़ी

नई दिल्ली में होगी बैठक
बता दें कि अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ भारत के लिए रवाना हो गए। दोनों देशों के बीच होने वाली ये बैठक मंगलवार को नई दिल्ली में होगी इस दौरान दोनों पक्षों के हिंद-प्रशांत क्षेत्र में द्विपक्षीय रक्षा संबंधों और सुरक्षा सहयोग को आगे बढ़ाने के तरीकों पर चर्चा करने की उम्मीद है। चीन के क्षेत्र में अपनी पकड़ मजबूत करने की कोशिश के दौरान इसके मायने काफी बढ़ गए हैं।

राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार बाइडेन ने दिखाया भारत प्रेम, बोले- अमेरिका-भारत साझेदारी का है सम्मान

भारत के अलावा इन देशों की भी करेंगे यात्रा
मालूम हो कि अमेरिका में तीन नवम्बर राष्ट्रपति चुनाव होने जा रहे हैं। ऐसे में ये बैठक अपने-आप में काफी महत्वपूर्ण हो जाती है। पोम्पिओ ने बीते रविवार को ट्वीट कर लिखा, 'भारत, श्रीलंका, मालदीव और इंडोनेशिया की अपनी यात्रा के लिए रवाना हो गया हूं। हिंद-प्रशांत को स्वतंत्र एवं मुक्त, मजबूत तथा समृद्ध बनाने के साझा दृष्टिकोण को बढ़ावा देने के लिए हमारे भागीदारों के साथ जुड़ने का अवसर पाकर आभारी हूं।' इस बैठक में न सिर्फ पोम्पिओ उपस्थित होने जा रहें हैं बल्कि उनके साथ रक्षा मंत्री मार्क एस्पर भी भारत आ रहे हैं। अमेरिका के रक्षा मंत्री मार्क एस्पर और विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ अपने भारतीय समकक्षों क्रमश: राजनाथ सिंह तथा एस. जयशंकर के साथ 2+2 मंत्रीस्तरीय बैठक करेंगे।

लद्दाखः चीनी गीदड़भभकी की खुली पोल- युद्धाभ्‍यास के नाम पर सिर्फ फोटो खिंचवाते हैं ड्रैगन के सैनिक

चीन सीमा विवाद होगी चर्चा
पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर चीन के साथ जारी विवाद और हिंद-प्रशांत क्षेत्र में बढ़ते चीनी सैन्य दबदबे के बीच यह उच्च स्तरीय वार्ता हो रही है। दोनों ही मुद्दों पर चर्चा होने की उम्मीद है। चीन के बढ़ते सैन्य युद्धाभ्यास की पृष्ठभूमि में भारत, अमेरिका और कई अन्य विश्व शक्तियां स्वतंत्र, मुक्त तथा सम्पन्न हिंद-प्रशांत क्षेत्र सुनिश्चित करने की आवश्यकता पर जोर दे रहे हैं। 

comments

.
.
.
.
.