Thursday, Apr 02, 2020
american president  donald trump is ready for india tour

ट्रंप के भारत दौरे के लिए केंद्र की विशेष तैयारी, एयरफोर्स-1 और द बीस्ट में करेंगे सफर

  • Updated on 2/19/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। अमरीकी राष्ट्रपति (American President) ट्रम्प 24 फरवरी को भारत यात्रा पर आ रहे हैं। उनकी यात्रा से छह दिन पहले सोमवार को अमरीकी सेना का सबसे बड़ा सैन्य ट्रांसपोर्ट विमान बोइंग सी-17 ग्लोबमास्टर राष्ट्रपति के सुरक्षा उपकरणों और काफिले के वाहनों को लेकर आ पहुंचा है। इनमें राष्ट्रपति (President) की खास कार द बीस्ट और दो हैलिकॉप्टर्स व रडार और सेंसर से सुसज्जित एसयूवी भी मौजूद हैं। ट्रम्प 24 फरवरी को विशेष विमान एयरफोर्स-वन से भारत पहुंचेंगे। एयरफोर्स-वन (Air Force one) और द बीस्ट दोनों अपनी विशेष सुविधाओं और सुरक्षा उपकरणों से सुसज्जित होने से अमरीकी राष्ट्रपति की ताकत के प्रतीक के रूप में जाने जाते हैं। इनके बारे में प्रस्तुत है यह विशेष ग्राफिक रिपोर्ट...

ट्रम्प की एयरफोर्स वन
राष्ट्रपति स्टाफ का कक्ष: इस कक्ष में राष्ट्रपति का सीनियर स्टाफ बैठता है। इसे जरूरत पडऩे पर ऑपरेशन टेबल युक्त अस्पताल में भी बदला जा सकता है।  

खुफिया कक्ष : इसमें सीक्रेट सर्विस के एजेंट रहते हैं।

मिसाइल से सुरक्षा: डेनों में लगा यह सिस्टम खास किस्म का बुरादा और लपटें छोड़कर हीट सीकिंग मिसाइल को भ्रमित करता है। 

ट्रम्प का भारत दौरा, अमेरिका से दोस्ती के नए युग की शुरुआत

मिरर वाल : विमान के दोनों डेनों में लगा यह डिफेंस सिस्टम इन्फ्रारेड गाइडेंस सिस्टम से सुरक्षा देता है। 

कॉन्फ्रेंस एवं डायनिंग कक्ष
यह साउंडप्रूफ कक्ष है, जिसमें 50 इंच का प्लाज्मा टीवी और वीडियो कान्फ्रेंसिंग की सुविधा मौजूद है। राष्ट्रपति चाहें तो यहां से राष्ट्र को संबोधित कर सकते हैं। 

सूचना कक्ष
19 टीवी स्क्रीन वाला यह एक हाईटेक कैबिन है, जहां हवा से हवा, हवा से जमीन और सेटलाइट की सूचनाओं पर नजर रखी जाती है। 

कॉकपिट
यहां पायलट विमान को नियंत्रित करते हैं।

रिफ्यूलिंग नोजिल
इसके जरिए हवा में ही विमान में ईंधन भरा जा सकता है।

राष्ट्रपति का कक्ष : यहां मौजूद दो सौफे, एक बटन से बैड में बदल जाते हैं। ओबाम बच्चों के साथ यात्रा करते थे, तब इसमें एक टीवी और वाईफाई वीडियोगेम भी लगाई गई थी। 

रसोई: एयरफोर्स में रे जैसी रसोई है, जिसमें एक समय में 100 से ज्यादा लोगों का खाना तैयार हो सकता है। पांच शैफ यहां तैनात हैं।

भारत दौरे से पहले डोनाल्ड ट्रम्प बोले- फेसबुक पर मैं नंबर वन, मोदी 2

सुरक्षा कक्ष :
 इस तरफ विमान की पूरी लंबाई में विशेष रक्षा उपकरण जैसे राडार, जैमर, रेडियो एंटीना और साइबर हमले और हीट सीकिंग मिसाइल को रोकने वाले यंत्र लगे रहते हैं।

लैम्प : ये टाइटेनियम से बने और अंदर की ओर कसे होते हैं।

मेहमान कक्ष : इस कक्ष में राष्ट्रपति के साथ यात्रा में आने वाले मेहमान जैसे सांसद, गवर्नर और सेलेब्रिटी रहते हैं।   

मीडिया कक्ष :
यह पत्रकारों के लिए होता है। इसमें बिजनस क्लास सीट होती हैं। हर सीट पर फ्लेट टीवी स्क्रीन होती है, जिस पर पसंद की कोई 20 फिल्में देख सकते हैं। हर सीट पर म्यूजिक सिस्टम और हेडफोन होता है।   

द बीस्ट : अमरीकी राष्ट्रपति की कार
यह कार 24 सितम्बर 2018 से राष्ट्रपति ट्रम्प की सेवा में है। यह एक हथियारों से युक्त लिमोजिन है, जिसे कैडिलक ने बनाया है। कैडिलक जनरल मोटर्स की एक इकाई है। रासायनिक हमले की स्थिति में ऑक्सीजन आपूर्ति के लिए इसमें विशेष टैंक होता है। 

राष्ट्रपति का कक्ष: अंदर का हिस्सा चालक कैबिन से एक कांच की दीवार के जरिए अलग होता है, जिसे सिर्फ राष्ट्रपति ही चाहने पर या कोई निर्देश देने के लिए नीचे कर सकते हैं। किसी भी आपात स्थिति के लिए यहां पैनिक बटन और ऑक्सीजन आपूर्ति की व्यवस्था रहती है।

दरवाजे: इसके दरवाजे 8 इंच मोटे होते हैं। यह वजन और मजबूती में बोइंग 757 के कैबिन डोर के बराबर होते हैं। दरवाजे बंद होते ही कार 100 फीसदी सील हो जाती है। तब इस पर कोई रासायिनक हमला भी असर नहीं दिखा सकता। 

चालक: चालक को अमरीकी सीक्रेट सर्विस द्वारा विशेष ट्रेनिंग दी जाती है। कैसी भी चुनौतीपूर्ण स्थिति में वह ड्राइविंग करने में सक्षम होता है। किसी आपातकालीन स्थिति से निकलने के लिए वह एक बार में कार को 180 डिग्री तक घुमा सकता है।

भारत यात्रा पर अमरीकी विशेषज्ञों की नजरें, व्यापारिक हित साधने की कोशिश होगी

विंडो: विंडो पर पांच परत वाला पोलिकार्बोनेट कांच लगा है। यह बुलेटप्रूफ है। सिर्फ ड्राइवर साइड की विंडो के ग्लास को तीन इंच तक नीचे किया जा सकता है।

चालक कैबिन :  चालक का संपर्क सीधे ट्रेकिंग सेंटर से जुड़ा रहता है। 

टीयरगैस ग्रनेड लांचर
टायर:
सभी केवलरी रेनफोर्स टायर स्वचालित और पंक्चररोधी होते हैं। इसके रिम स्टील के और विशेष तरह से डिजाइन किए होते हैं, जो टायर ब्रस्ट हो जाने की स्थति में भी वाहन को उतनी ही गति और क्षमता से किसी भी कठिन परिस्थिति से निकाल कर ले जा सकते हैं। 

चैसिस
रेनफोर्स स्टील प्लेट से बनी है जो किसी भी धमाके से कार की रक्षा करती है। 

सुरक्षा उपकरण : यह कार कई हथियारों से लैस है। इनमें पम्प-एक्शन शॉटगन, राष्ट्रपति के ग्रुप का ब्लड आदि होते हैं। 

बॉडी : कार की बॉडी टाइटेनियम, स्टील, एल्युमीनियम और सेरेमिक्स की मिश्रित धातु की पांच इंच मोटी चादर से बनी होती है। कार बख्तरबंद सैन्य वाहन की तरह सुरक्षित है।  

ईंधन टैंक : इसमें विशेष फोम भरा रहता है और सीधी टक्कर के बाद भी आग नहीं लग सकती। 

सेटेलाइट फोन : ट्रम्प की सीट पर सेटेलाइट फोन सीधे उपराष्ट्रपति और पेंटागन कें संपर्क में रहता है। 

बूट : यहां अग्निरोधि सिस्टम, आंसू गैस और स्मोक स्क्रीन डिस्पेंसर होते हैं। 

३ घंटे की यात्रा के लिए भारी भरकम तैयारी
अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प 24 फरवरी को दो दिवसीय भारत यात्रा पर आ रहे हैं। पहले वह अहमदाबाद जाएंगे। तय कार्यक्रम के अनुसार उनकी यह यात्रा सिर्फ तीन घंटे है मगर इसके लिए भारी-भरकम तैयारी जारी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कह चुके हैं कि अमरीकी राष्ट्रपति का स्वागत यादगार तरीके से किया जाएगा।  
अहमदाबाद एयरपोर्ट से साबरमती आश्रम के बीच पडऩे वाली गरीब बस्ती को ढकने के लिए 400 मीटर की दीवार बना दी गई है। कलाकार अब इस दीवार पर दोनों देशों की दोस्ती और भारत की भव्यता की तस्वीर रंग रहे हैं। 

भारत में अपने स्वागत को लेकर उत्साहित दिखे राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप

सज रहा है अहमदाबाद
अहमदाबाद नगर निगम कमिश्नर विजय नेहरा के अनुसार इन तैयारियों पर काफी खर्च किया जा रहा है। मोटेरा क्रिकेट स्टेडियम तक की सड़क 30 करोड़ रुपये खर्च कर चौड़ी की गई है। 6 करोड़ रुपये शहर को सजाने पर खर्च किए जा रहे हैं।  अकेले निगम का ही इस यात्रा पर कुल खर्च 80 से 85 करोड़ रुपये रहने का अनुमान। 

एक लाख लोग करेंगे स्वागत
मोटेरा स्टेडियम में ट्रम्प के स्वागत के लिए एक लाख लोग अब तक अपना नाम दर्ज करा चुके हैं। ट्रम्प भी पिछले सप्ताह ट्वीट कर चुके हैं कि पीएम मोदी ने उन्हें बताया है कि लाखों लाख लोग अहमदाबाद में स्वागत के लिए तैयार हैं। 

मैरीन-वन
यह अमरीकी राष्ट्रपति का खास हैलिकॉप्टर है। जब राष्ट्रपति इसमें सफर कर रहे होते हैं, केवल तभी यह मैरीन-वन का इलेक्ट्रानिक सिग्नेचर इस्तेमाल करता है, अन्यथा यह नाइटहॉक के सिग्नेचर पर उड़ान भरता है। मिसाइल हमले से बचाने के लिए इसमें विशेष इंतजाम हैं। फायरिंग क्षमता से लेस कम से कम एक सैनिक भी साथ चलता है। इसकी अधिकतम गति 241 किलोमीटर प्रति घंटा है।  इसमें राष्ट्रपति के लिए सभी जरूरी सुविधाओं को जुटाया गया है। यह ऐसा हैलिकॉप्टर है, जिसमें बाथरूम भी होता है। 

comments

.
.
.
.
.