Wednesday, Sep 18, 2019
amethi--s-atmosphere-changed-by-the-beginning-of-couting-vote

कांग्रेस की हार से दुखी राहुल गांधी ने सोनिया के सामने की इस्तीफे की पेशकश!

  • Updated on 5/23/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। उत्तर लोकसभा चुनाव में पार्टी की भारी पराजय से दुखी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस्तीफे की पेशकश की है। अपुष्ट सूत्रों के अनुसार प्रेस को संबोधित करने के बाद राहुल गांधी सीधे यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी को अपने इस्तीफे की पेशकश की है। 

इसके पहले उत्तर प्रदेश की प्रतिष्ठित अमेठी सीट पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने हार मान ली है। दिल्ली में एक संवाददाता सम्मेलन में राहुल ने हार की जिम्मेदारी लेते हुए भाजपा के विजयी उम्मीदवार स्मृति ईरानी को बधाई देते हुए कहा कि उनसे अपेक्षा है कि वह अमेठी की ठीक से देखभाल करेंगी। 

इससे पहले, मतगणना के शुरुआती दौर में भाजपा प्रत्याशी स्मृति ईरानी अब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) से अब तक 10000 वोटों से आगे निकल चुकी हैं। जिस प्रकार से स्मृति लगातार राहुल से आगे बढ़ रही हैै। उसे देखकर लग रहा है कि राहुल गांधी को इस सीट से हार का सामना करना पड़ सकता है।  

सुबह लोग हालांकि कांटे की टक्कर’ मानकर चल रहे थे  लेकिन शुरूआती रूझान स्मृति (smriti Irani) के पक्ष में आते ही गौरीगंज के प्रमुख बाजार, रेलवे स्टेशन, बस अड्डे तथा दुकानों पर जमा लोग कहने लगे कि इस बार स्मृति ने अमेठी पर बहुत मेहनत की और इसीलिए उनके कदम जीत की ओर बढ़ रहे हैं ।

उर्मिला मातोंडकर ने लागाया ईवीएम के सिग्नेचर में गड़बड़ी का आरोप

मनीषी महिला महाविद्यालय और इंदिरा गांधी पीजी कॉलेज स्थित मतगणना स्थल पर जबरदस्त सुरक्षा इंतजाम हैं । वाहनों का प्रवेश र्विजत है । गौरीगंज बस अड्डे पर मिले छात्र राहुल सिंह ने कहा कि कांग्रेस के परिवारवाद का अंत हो गया है और स्मृति ईरानी की जीत पक्की है ।

स्मृति की बढ़त से उत्साहित अमेठी लोकसभा क्षेत्र के भाजपा मीडिया प्रभारी गोविन्द सिंह चौहान ने‘भाषा’से कहा,‘‘यह राष्ट्रवाद के नाम जनता का वोट है । राहुल गांधी ने इस क्षेत्र में कोई काम नहीं किया इसलिए जनता उनसे नाराज चल रही थी ।‘‘ उन्होंने कहा,‘‘स्मृति ईरानी की सक्रियता भी उनकी जीत में अहम भूमिका निभाएगी ।

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू आज दे सकते हैं इस्तीफा

वह 2014 का लोकसभा चुनाव हारने के बाद से लगातार पांच वर्षों तक अमेठी में सक्रिय रहीं और यहां विकास के काम करती रहीं । इस बार जनता ने परिवारवाद को पीछे ढकेल दिया है ।‘‘ भाजपा के जिला कार्यालय पर उत्साहित कार्यकर्ताओं का जमावड़ा है ।

उधर रूझानों को देखते हुए कांग्रेस जिला कार्यालय पर सन्नाटा पसरा था । कुछ कार्यकर्ता नजर आये लेकिन कोई कुछ बोलने के लिए तैयार नहीं हुआ । कांग्रेस के एक कार्यकर्ता ने हालांकि विश्वास जताया कि शुरूआती रूझान भले ही राहुल को पीछे दिखा रहे हों लेकिन अंतत: जीत उन्हीं की होनी है ।

गौरीगंज अमेठी का मुख्यालय है । शहर में चुप्पी है । मतगणना स्थल के दो सौ मीटर के दायरे में बैरियर लगे हैं। दुकानें बंद हैं। पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार ने बताया कि जुलूस पर पूरी तरह प्रतिबंध है । निषेधाज्ञा पूरे जिले में लागू है । सुरक्षा के लिये केंद्रीय अद्र्धसैनिक बल और पुलिस एवं पीएसी के जवान तैनात हैं ।

शुरुआती रुझानों में BJP की बढ़त के बाद सुषमा स्वराज सहित इन नेताओं ने दी PM मोदी को बधाई

गौरीगंज के मुख्य बाजार में चाय की दुकान पर चर्चा कर रहे छोटे कारोबारियों के एक समूह ने कहा कि इस बार अमेठी की जनता बदलाव चाहती थी । राहुल के पिता पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी यहां की जनता से जिस आत्मीयता से मिलते थे, राहुल में उसकी कमी थी । कारोबारी गिरीश पाण्डेय ने कहा,‘‘राहुल अपने पिता और कांग्रेस की विरासत की वजह से चुनाव जीत रहे थे लेकिन इस बार जनता का यह विश्वास टूटा है ।‘‘  

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.