Tuesday, Jun 22, 2021
-->
amid corona outbreak in india pm modi organize mann ki baat kmbsnt

'मन की बात' में बोले पीएम मोदी: वैक्सीन को लेकर अफवाह में न आएं, मुफ्त टीकाकरण जारी रहेगा

  • Updated on 4/25/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। देश में कोरोना की सुनामी के बीच आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देशवासियों से 'मन की बात' करेंगे। इससे पहले भी मन की बात कार्यक्रम में पीएम मोदी ने कोरोना को लेकर चर्चा की थी। लेकिन तब के हालात से आज के हालात कहीं ज्यादा खराब हैं। उस दौरान भी पीएम मोदी ने 'दवाई भी, कड़ाई भी' पर जोर दिया था। 

Live Updates:

  • वैक्सीन लगाने पर जोर देते हुए बोले पीएम मोदी 'दवाई भी कड़ाई भी'
  • पीएम ने देशवासियों को महावीर जयंती समेत आने वाले अन्य त्योहारों की दी शुभकामनाएं।
  • डाॅक्टर और नर्स स्टाफ के साथ इस समय लैब टेक्नीशियन और एंबुलेंस ड्राइवर जैसे फ्रंटलाइन वर्कर भी भगवान की तरह ही काम कर रहे हैं। जब कोई एंबुलेंस किसी मरीज़ तक पहुंचती है तो उन्हें एंबुलेंस ड्राइवर देवदूत जैसा ही लगता हैः प्रधानमंत्री
  • मेरा राज्यों से भी आग्रह है कि वो भारत सरकार के इस मुफ़्त वैक्सीन अभियान का लाभ अपने राज्य के ज़्यादा से ज़्यादा लोगों तक पहुंचाएंः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
  • कोरोना के इस संकट काल में वैक्सीन की अहमियत सभी को पता चल रही है इसलिए मेरा आग्रह है कि वैक्सीन को लेकर किसी भी अफवाह में न आएं। भारत सरकार की तरफ से अभी मुफ़्त वैक्सीन का जो कार्यक्रम चल रहा है वो आगे भी चलता रहेगा: प्रधानमंत्री
  • आपको अगर कोई भी जानकारी चाहिए हो, कोई आशंका हो तो सही सोर्स से ही जानकारी लें। अपने फैमिली डाॅक्टर, आसपास के डाॅक्टर को संपर्क करके उनसे सलाह लीजियेः प्रधानमंत्री
  • कोरोना से मजबूती के साथ लड़ने का समय- पीएम मोदी
  • इस समय हमें इस लड़ाई को जीतने के लिए विशेषज्ञों और वैज्ञानिक सलाह को प्राथमिकता देनी है। राज्य सरकार के प्रयत्नों को आगे बढ़ाने में भारत सरकार पूरी शक्ति से जुटी हुई है। राज्य सरकारें भी अपना दायित्व निभाने की पूरी कोशिश कर रही हैंः प्रधानमंत्री
  • कोरोना की पहली वेव का सफलतापूर्वक मुकाबला करने के बाद देश हौसले और आत्मविश्वास से भरा हुआ था लेकिन इस तूफान (दूसरी वेव) ने देश को झकझोर दिया है: पीएम मोदी

मन की बात 2.0 का आज 23वा एपिसोड हे। ये मन की बात का 76वां संस्करण है। 75वें संस्करण में पीएम ने बीते वर्ष की चर्चा करते हुए कहा था कि मार्च का महीना था, देश ने पहली बार जनता कर्फ्यू शब्द सुना था। जनता कज्ञफ्यू पूरे विश्व के लिए अचरज बन गया था। ये अनुशासन का अभूतपूर्व उदाहरण था। आने वाली पीढ़ियां इस बात को लेकर जरूर गर्व करेंगी। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.