Sunday, Jan 23, 2022
-->
Amit Shah Home Ministry regret over incident in Nagaland formed SIT to investigate matter rkdsnt

अमित शाह ने नगालैंड की घटना पर जताया खेद, मामले की जांच के लिए गठित की SIT

  • Updated on 12/6/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने नगालैंड में सुरक्षा बलों की कथित गोलीबारी 14 लोगों की मौत की घटना पर खेद प्रकट करते हुए सोमवार को कहा कि इसकी विस्तृत जांच के लिए एक विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया गया है तथा सभी एजेंसियों से यह सुनिश्चित करने को कहा गया है कि भविष्य में ऐसे किसी घटना की पुनरावृत्ति ना हो।   

टाटा के खाते में गई एयर इंडिया पर भारतीय हवाईअड्डा प्राधिकरण के 2,350 करोड़ रुपये बकाया

 नगालैंड की घटना पर पहले लोकसभा में और फिर राज्यसभा में अपने बयान में शाह ने कहा, ‘‘भारत सरकार नगालैंड की घटना पर अत्यंत खेद प्रकट करती है और मृतकों के परिवारों के प्रति गहरी संवेदना जताती है।’’ उन्होंने कहा कि नगालैंड की घटना की विस्तृत जांच के लिए एक विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया गया है जिसे एक महीने के अंदर जांच पूरी करनी है। 

मोदी सरकार की नीतियों के खिलाफ श्रमिक संगठन करेंगे देशव्यापी हड़ताल

गृह मंत्री ने कहा, ‘‘सभी एजेंसियों से यह सुनिश्चित करने को कहा गया है कि भविष्य में विद्रोहियों के खिलाफ अभियान चलाते समय इस तरह की किसी घटना की दुर्भाग्यपूर्ण पुनरावृत्ति नहीं हो।’’ उन्होंने कहा, ‘‘सरकार स्थिति पर सूक्ष्मता से नजर रख रही है।’’ शाह ने कहा कि सेना द्वारा इन ‘दुर्भाग्यपूर्ण’ मृत्यु के कारणों की जांच उच्चतम स्तर पर की जा रही है और कानून के अनुसार समुचित कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि एहतियात के तौर पर राज्य के अधिकारियों ने इलाकों में निषेधाज्ञा लागू की है। शाह ने घटना का ब्यौरा देते हुए कहा कि 4 दिसंबर को नगालैंड के मौन जिले में भारतीय सेना को उग्रवादियों की आवाजाही की सूचना मिली और उसके 21वें पैरा कमांडो ने इनका इंतजार किया।  

नगालैंड में सुरक्षाबलों की गोलीबारी में 14 नागरिकों की मौत, विपक्ष ने साधा गृह मंत्रालय पर निशाना

उन्होंने कहा कि शाम को एक वाहन उस स्थान पर पहुंचा और सशस्त्र बलों ने उसे रोकने का संकेत दिया लेकिन वह नहीं रूका और आगे निकलने लगा। शाह ने कहा कि इस वाहन में ‘विद्रोहियों’ के होने के संदेह में इस पर गोलियां चलायी गयीं जिसमें वाहन पर सवार आठ में से छह लोग मारे गए। शाह ने कहा कि बाद में इसे गलत पहचान का मामला पाया गया। सेना इस घटना में घायल दो लोगों को पास के चिकित्सा केंद्र ले गई। गृह मंत्री ने बताया कि स्थानीय ग्रामीणों ने सेना की बटालियन को घेर लिया, दो वाहनों में आग लगा दी गयी और उन पर हमला किया जिसमें एक सैनिक की जान चली गई और कुछ अन्य घायल हो गए। 

पंजाब चुनाव के ऐलान से पहले अमरिंदर सिंह हुए सक्रिय, चंडीगढ़ में खोला अपनी पार्टी का दफ्तर

उन्होंने कहा, ‘‘अपनी सुरक्षा में एवं भीड़ को तितर-बितर करने के लिये सुरक्षा बल को गोली चलानी पड़ी और इसमें सात अन्य लोग मारे गए। शाह ने कहा कि स्थिति तनावपूर्ण लेकिन नियंत्रण में है। उन्होंने कहा कि 5 दिसंबर को 250 लोगों की भीड़ ने असम राइफल्स के भवन पर हमला किया और इस दौरान संघर्ष में एक व्यक्ति की मौत हो गई।     गृह मंत्री ने कहा कि सेना ने भी एक विज्ञप्ति जारी करके कहा है कि उन्हें इस घटना पर काफी दुख है और ऐसी दुर्भाग्यपूर्ण घटना की सेना द्वारा उच्च स्तरीय जांच की जा रही है। शाह ने कहा कि उन्होंने राज्य के राज्यपाल और मुख्यमंत्री से बात की है और सामान्य स्थिति बहाल करने के प्रयास जारी हैं। 

दिल्ली में धरने पर बैठी महबूबा मुफ्ती ने गांधी-आंबेडकर को याद कर लोगों को चेताया

शाह के बयान से असंतोष जताते हुए कांग्रेस, द्रमुक और कुछ अन्य विपक्षी दलों ने जहां लोकसभा से बहिर्गमन किया वहीं राज्यसभा में उनके बयान के दौरान विपक्षी सदस्य 12 निलंबित सदस्यों का निलंबन रद्द करने की मांग को लेकर हंगामा करते रहे। बाद में उपसभापति हरिवंश ने सदस्यों से स्पष्टीकरण पूछने के लिए कहा और इसके लिए उन्होंने राष्ट्रीय जनता दल के मनोज कुमार झा का नाम पुकारा। उन्होंने कहा ‘‘आपने स्वयं स्पष्टीकरण पूछने के लिए नाम दिया था। आप स्पष्टीकरण पूछिए।’’ बहरहाल, हंगामा थमते न देख उप सभापति ने चार बज कर करीब दस मिनट पर बैठक दिन भर के लिए स्थगित कर दी। इससे पहले विपक्षी दलों ने दोनों सदनों में नगालैंड में सुरक्षा बलों की गोलीबारी का मुद्दा उठाया तथा इस घटना की उच्च स्तरीय जांच कराने, मृतकों के परिजनों को पर्याप्त मुआवजा देने तथा गृह मंत्री से स्थिति स्पष्ट करने की मांग की थी।

 

comments

.
.
.
.
.