Saturday, Dec 03, 2022
-->
amit shah said that propaganda cannot reduce the unity of the country sohsnt

विदेशी हस्तियों के ट्वीट पर अमित शाह का पलटवार, कहा- दुष्प्रचार देश की एकता को कम नहीं कर सकता

  • Updated on 2/4/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। केंद्र सरकार के कृषि कानूनों (Farm Laws) के विरोध में जारी किसान आंदोलन के समर्थन में विदेशी हस्तियों की टिप्पणी आने के बाद से देश में एक नया घमासान शुरू हो गया है। ऐसे में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने ट्वीट कर देश विरोधी ताकतों को सख्त हिदायत दी है। उन्होंने कहा, कोई भी प्रोपेगेंडा भारत की एकता को डिगा नहीं सकता है! कोई भी दुष्प्रचार भारत को नई ऊंचाइयों तक जाने से रोक नहीं सकता है! दुष्प्रचार सिर्फ तेजी से फैल सकता है भारत के भाग्य का फैसला नहीं कर सकता है। भारत प्रगति के लिए एकजुट है।

किसानों पर कंगना के ट्वीट के खिलाफ अकाली दल ने खोला मोर्चा, ट्विटर को भेजा नोटिस


इन हस्तियों के ट्वीट के बाद मचा बवाल
मालूम हो कि किसान आंदोलन के समर्थन में अब दुनियाभर की मशहूर हस्तियों एवं अन्य द्वारा सोशल मीडिया पर हैशटैग और भारत सरकार के खिलाफ अलग-अलग टिप्पणियां की जा रही हैं। इस क्रम में हॉलीवुड की पॉप सिंगर रिहाना (Rihanna) स्‍वीडन की पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग (Greta Thunberg) और पॉर्न स्टार मिया खलीफा (Mia Khalifa) अपने ट्वीट को लेकर काफी चर्चा में हैं। इन सभी हस्तियों ने बिना किसान आंदोलन के बारे में जाने अपने-अपने विचार रखे हैं, जिसको लेकर अब भारत ने हिदायत दी है।

टिप्पणी करने से पहले तथ्यों की जांच परख करें- सरकार
पॉप गायिका रिहाना सहित विदेशों की मशहूर हस्तियों एवं अन्य लोगों की टिप्पणियों पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए बुधवार को सरकार ने कहा कि कृषि सुधारों के बारे में देश के किसानों के एक बहुत ही छोटे वर्ग को कुछ आपत्तियां हैं और विरोध प्रदर्शन के बारे में टिप्पणी करने की जल्दबाजी से पहले तथ्यों की जांच परख की जानी चाहिए।

मशहूर हस्तियों को सख्त हिदायत
विदेश मंत्रालय ने अपने बयान में कहा, 'खास तौर पर मशहूर हस्तियों एवं अन्य द्वारा सोशल मीडिया पर हैशटैग और टिप्पणियों को सनसनीखेज बनाने की ललक न तो सही और न ही जिम्मेदाराना होती है।' विदेश मंत्रालय की यह प्रतिक्रिया ऐसे समय में आई है जब अमेरिकी पॉप गायिका रिहाना और स्वीडन की जलवायु कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग सहित कई मशहूर हस्तियों ने भारत में किसानों के विरोध प्रदर्शन के बारे में ट्वीट किया है।

भारत के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय समर्थन जुटाने का प्रयास
मंत्रालय ने यह भी कहा कि भारत के संसद ने कृषि क्षेत्र से जुड़ा सुधारवादी विधेयक पारित किया है। इसमें कहा गया है कि कुछ निहित स्वार्थी समूहों ने भारत के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय समर्थन जुटाने का प्रयास किया। बयान में कहा गया है कि, 'हम इस बात पर जोर देना चाहते हैं कि इन प्रदर्शनों को भारत के लोकतांत्रिक आचार और राजनीति के संदर्भ और सरकार के संबंधित किसान समूहों से गतिरोध दूर करने के प्रयासों के संदर्भ में देखा जाना चाहिए।' मंत्रालय ने इस बात पर जोर दिया कि हम अपील करते हैं कि ऐसे मामलों में कोई भी टिप्पणी करने की जल्दबाजी से पहले तथ्यों को परखना चाहिए और मुद्दों के बरे में उपयुक्त समझ बनानी चाहिए।


यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.