Monday, Nov 28, 2022
-->
Amnesty said on Zubair''s arrest - Harassment of human rights defenders is common in India

एमनेस्टी ने जुबैर की गिरफ्तारी पर कहा - भारत में मानवाधिकार रक्षकों का उत्पीड़न आम बात

  • Updated on 6/28/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। एमनेस्टी इंडिया ने ऑल्ट न्यूज के सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर की तत्काल और बिना शर्त रिहाई की मांग करते हुए मंगलवार को कहा कि अथक रूप से सच और न्याय की पैरोकारी कर रहे मानवाधिकार रक्षकों का उत्पीड़न और मनमाने तरीके से गिरफ्तारी भारत में चिंताजनक रूप से आम बात हो गयी है। 

ममता बोलीं- नफरत फैलाने वालों को छू तक नहीं रही BJP, सच बोलने वालों की हो रही गिरफ्तारी

  •  

जुबैर को दिल्ली पुलिस ने टविटर पर कथित रूप से धार्मिक भावनाएं आहत करने और दुश्मनी को बढ़ावा देने के मामले में सोमवार रात को गिरफ्तार किया था। एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया के लिए बोर्ड के अध्यक्ष आकार पटेल ने कहा कि भारतीय अधिकारी जुबैर पर इसलिए निशाना साध रहे हैं क्योंकि वह फर्जी खबरों और भ्रामक सूचनाओं के खिलाफ काम कर रहे हैं। 

गोवा विधानसभा के 1963 से 2000 तक के रिकॉर्ड नष्ट हो चुके हैं: CM प्रमोद सावंत

पटेल ने एक बयान में कहा, ‘‘मोहम्मद जुबैर की गिरफ्तारी दिखाती है कि भारत में मानवाधिकार रक्षकों के सामने मौजूद खतरा संकट की स्थिति में पहुंच गया है।’’

SEBI ने सहारा समूह की दो कंपनियों, सुब्रत रॉय, अन्य पर 12 करोड़ रुपये का लगाया जुर्माना 

उन्होंने कहा कि जुबैर को ‘‘प्राथमिकी की प्रति नहीं दिया जाना और गिरफ्तारी के बाद शुरुआत के कुछ घंटों तक किसी से बात नहीं करने देना, यह तथ्य दिखाता है कि भारतीय प्राधिकार कितने निर्लज्ज हो गये हैं।’’ पटेल ने कहा कि जुबैर की गिरफ्तारी अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अधिकार का स्पष्ट उल्लंघन है और दिल्ली पुलिस को उन्हें तत्काल और बिना शर्त रिहा कर देना चाहिए।  

पत्रकार मोहम्मद जुबैर को दिल्ली पुलिस ने किया गिरफ्तार, विपक्ष ने उठाए सवाल

comments

.
.
.
.
.