Friday, Sep 30, 2022
-->
anand-giri-shifted-to-chitrakoot-jail-due-to-administrative-reasons

आनंद गिरि को नैनी केंद्रीय कारागार से चित्रकूट जेल किया गया स्थानांतरित

  • Updated on 8/19/2022

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि को आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में पिछले 11 महीने से नैनी केंद्रीय कारागार में निरुद्ध आनंद गिरि को शुक्रवार की सुबह चित्रकूट जेल स्थानांतरित कर दिया गया।     नैनी सेंट्रल जेल के वरिष्ठ जेल अधीक्षक पीएन पांडेय ने बताया कि प्रशासनिक और सुरक्षा कारणों से आनंद गिरि को आज सुबह चित्रकूट जेल स्थानांतरित कर दिया गया।

मोदी सरकार ने केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला को दिया सेवा विस्तार

  •  

     महंत नरेंद्र गिरि पिछले वर्ष 20 सितंबर को अपने श्रीमठ बाघंबरी गद्दी में एक कमरे में मृत पाए गए थे। नरेंद्र गिरि के कमरे से एक सुसाइड नोट भी मिला था जिसमें आनंद गिरि पर आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप लगाया गया था। इधर, आनंद गिरि के अधिवक्ता विजय कुमार द्विवेदी ने नैनी जेल प्रशासन पर आनंद गिरि का उत्पीडऩ करने का आरोप लगाते हुए मानवाधिकार आयोग, महानिदेशक जेल और प्रमुख सचिव (गृह) को पत्र लिखा है।     

‘ऊपर से मिले’ आदेश पर ‘सर्वश्रेष्ठ शिक्षा मंत्री’ के खिलाफ छापेमारी की गई: केजरीवाल

द्विवेदी का आरोप है कि वह 16 अगस्त 2022 को अपने साथी अधिवक्ता बृज बिहारी के साथ अपने मुवक्किल आनंद गिरि से विधिक वार्ता के लिए नैनी जेल गए थे तो उनके सामने ही जेलर आरके सिंह ने आनंद गिरि के साथ गाली गलौज किया और जेल में ही उनकी हत्या कराने की धमकी दी। उनका आरोप है कि जब उन्होंने बीच बचाव कराने की कोशिश की तो सिंह ने उन्हें गालियां भी दीं।   

सुप्रीम कोर्ट ने भाजपा नेता शाहनवाज के खिलाफ हाई कोर्ट के फैसले पर रोक लगाने से किया इनकार 

 द्विवेदी का आरोप है कि उनके मुवक्किल आनंद गिरि को स्नान और पूजा पाठ के लिए केवल एक घंटे का समय दिया जाता है और बाकी समय उन्हें जेल में बंद रखा जाता है।  इन आरोपों के बारे में पूछे जाने पर वरिष्ठ जेल अधीक्षक पी एन पांडेय ने कहा, च्च्अधिवक्ता के आरोपों पर हम क्या प्रतिक्रिया दें, अधिवक्ता अदालत में पक्ष रखने के लिए है। आनंद गिरि को प्रशासनिक कारणों से चित्रकूट जेल भेजा गया है।’’  

दोषियों की रिहाई से न्याय पर मेरा भरोसा डिग गया है : बिल्कीस बानो

  उल्लेखनीय है कि महंत नरेंद्र गिरि की मृत्यु मामले की जांच शासन ने सीबीआई को सौंप दी थी और प्रयागराज की जिला अदालत में उन पर मुकदमा चल रहा है। इलाहाबाद उच्च न्यायालय में गिरि की जमानत याचिका लंबित है।  

comments

.
.
.
.
.