Tuesday, Oct 04, 2022
-->
angry with modi bjp govt agneepath plan, amarinder singh suggests reconsideration

मोदी सरकार की ‘अग्निपथ’ योजना से नाखुश अमरिंदर सिंह ने पुनर्विचार का दिया सुझाव

  • Updated on 6/16/2022


नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के सहयोगी कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बृहस्पतिवार को सशस्त्र बलों में भर्ती के लिए केंद्र की नयी ‘अग्निपथ’ योजना पर पुनर्विचार करने का सुझाव दिया। साथ ही आश्चर्य जताया कि सरकार को इस तरह के ‘‘मौलिक’’ बदलाव करने की जरूरत क्यों पड़ी। सेना में कप्तान रहे अमरिंदर सिंह ने कहा, ‘‘यह लंबे समय से मौजूद रेजिमेंट के विशिष्ट लोकाचार को कमजोर करेगा।’’ 

यूपी में ‘अग्निपथ’ योजना के खिलाफ प्रदर्शन, हरियाणा के पलवल में उग्र हुए युवा

एक बयान के अनुसार, सिंह ने आश्चर्य जताया कि सरकार को भर्ती नीति में इस तरह के ‘‘मौलिक बदलाव’’ करने की आवश्यकता क्यों पड़ी, जोकि ‘‘इतने सालों से देश के लिए बेहतर तरीके से काम कर रही है।’’ अमरिंदर सिंह की पार्टी पंजाब लोक कांग्रेस राज्य में भाजपा की सहयोगी है। अमरिंदर सिंह ने कहा, ‘‘तीन साल की प्रभावी सेवा के साथ चार साल के लिए सैनिकों को भर्ती करना, सैन्य रूप से एक अच्छा विचार नहीं है।’’ 

अग्निपथ योजना के विरोध में प्रदर्शन, बिहार में आगजनी, रेलवे ने रद्द की 34 से ज्यादा ट्रेन

सरकार ने दशकों पुरानी रक्षा भर्ती प्रक्रिया में आमूलचूल परिवर्तन करते हुए थलसेना, नौसेना और वायुसेना में सैनिकों की भर्ती संबंधी ‘अग्निपथ’ योजना की मंगलवार को घोषणा की थी, जिसके तहत सैनिकों की भर्ती चार साल की संक्षिप्त अवधि के लिए संविदा के आधार पर की जाएगी। योजना के तहत तीनों सेनाओं में इस साल करीब 46,000 सैनिक भर्ती किए जाएंगे। चयन के लिए पात्रता आयु साढ़े 17 वर्ष से 21 वर्ष के बीच होगी और इन्हें ‘अग्निवीर’ नाम दिया जाएगा। 

राहुल गांधी की पीएम मोदी से अपील- बेरोजगार युवाओं के संयम की ‘अग्निपरीक्षा’ मत लीजिए

 

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.