Tuesday, May 17, 2022
-->
anil deshmukh writes a letter to uddhav thackeray investigated against me pragnt

गृहमंत्री अनिल देशमुख ने CM ठाकरे को लिखा पत्र, कहा- 'वसूली के आरोपों की हो जांच'

  • Updated on 3/25/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। महाराष्ट्र (Maharashtra) के गृह मंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) ने कहा कि अगर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) मुंबई पुलिस के पूर्व आयुक्त परमबीर सिंह द्वारा उनके खिलाफ लगाए भ्रष्टाचार के आरोपों पर किसी भी जांच का आदेश देते हैं तो वह इसका स्वागत करेंगे।

परमवीर के आरोपों पर शिवसेना ने फड़णवीस की रिपोर्ट को बेदम करार दिया

गृह मंत्री देशमुख ने उद्धव को लिखी चिट्ठी
अनिल देशमुख ने आधी रात को ट्वीट कर यह बात कही और ठाकरे को 21 मार्च को लिखे पत्र की प्रति भी साझा की जिसमें उन्होंने सिंह के आरोपों की तुरंत जांच कराने की मांग की थी। देशमुख ने ट्वीट किया, 'मैंने माननीय मुख्यमंत्री से मेरे खिलाफ परमबीर सिंह के आरोपों की जांच कराने का आदेश देने की मांग की है ताकि स्थिति साफ हो। अगर माननीय मुख्यमंत्री जांच का आदेश देते हैं तो मैं इसका स्वागत करूंगा। सत्यमेव जयते।'

देशमुख के खिलाफ परमबीर की याचिका में उठाए गए मुद्दे ‘अत्यंत गंभीर’ : सुप्रीम कोर्ट

'दूध का दूध, पानी का पानी' करने की मांग
देशमुख ने अपने पत्र में कहा कि उनके खिलाफ लगाए गए आरोपों में 'कोई सच्चाई' नहीं है और उन्होंने मामले में जांच कराने की मांग की। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, 'परमबीर सिंह द्वारा मुझपर लगाए गए आरापों की जांच करवाकर 'दूध का दूध, पानी का पानी' करने कि मांग मैंने माननीय मुख्यमंत्री महोदय से की थी। अगर वे जांच के आदेश देते हैं तो मैं उसका स्वागत करूंगा।'

100 करोड़ वसूली मामलाः परमबीर सिंह ने SC से वापस ली याचिका, जाएंगे बॉम्बे हाई कोर्ट

पत्र में किया गया ये दावा
सिंह ने 20 मार्च को ठाकरे को आठ पृष्ठों वाला पत्र लिखा जिससे महाराष्ट्र की राजनीति में भूचाल आ गया। पत्र में दावा किया गया है कि देशमुख ने पुलिस अधिकारियों को बार और होटलों से हर महीने 100 करोड़ रुपये इकट्ठा करने के लिए कहा था। मुंबई में उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर के बाहर मिली कार में विस्फोटक सामग्री होने के मामले में विवादों में घिरी राज्य सरकार ने 17 मार्च को परमबीर सिंह का तबादला कर दिया था। इसके एक दिन बाद देशमुख ने कहा था कि सिंह के कुछ सहर्किमयों ने 'गंभीर और अक्षम्य गलतियां' की जिसके बाद उनका तबादला किया गया।

बजरंग दल पर यूपी में ननों को परेशान का आरोप, केरल के सीएम ने शाह को लिखा खत

परमबीर सिंह ने लगाए थे ये आरोप
परमवीर सिंह ने पिछले दिनों मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखे एक पत्र में देशमुख पर फरवरी मध्य में पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक कर बार-रेस्टोरेंट्स से 100 करोड रुपए की वसूली करने का आरोप लगाया था। लेकिन देशमुख ने यह कहते हुए आरोपों को निराधार बताया था कि वह कोरोना पॉजिटिव होने के चलते 5 से 15 फरवरी तक नागपुर के अस्पताल में इलाज करा रहे थे। इसके बाद 16 से 27 फरवरी तक होम आइसोलेशन में रहे थे।

देशमुख का बचाव करते हुए यही तथ्य सोमवार को एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने भी मीडिया के सामने रखे थे। भाजपा नेता ने देशमुख पर झूठ बोलने, सही तथ्य से अवगत नहीं कराने का आरोप लगाते हुए अजय कुमार भल्ला को कई सबूत सौंपे।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.