Wednesday, Apr 01, 2020
ankit sharma murder aap tahir hussain

AAP पार्षद ताहिर हुसैन के घर की छत पर पत्थर से लेकर पेट्रोल बम का जखीरा, देखें Pics...

  • Updated on 2/27/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) को लेकर दिल्ली में भड़की हिंसा और इंटेलिजेंस ब्यूरो (IB) के कर्मचारी अंकित शर्मा (Ankit sharma) की हत्या का आरोप नेहरू विहार (Nehru Vihar) से आम आदमी पार्टी (AAP) के निगम पार्षद ताहिर हुसैन (Tahir Hussain) और उनके समर्थकों पर लग रहा है। ताहिर हुसैन के घर की छत पर पत्थर, गुलेल के साथ पेट्रोल बम की तस्वीरें वायरल हो रही हैं...

आम आदमी पार्टी के पार्षद ताहिरहुसैन के छत पर इस तस्वीर में आप गुलेल देख सकते है, ताहीर पर इंटेलीजेंस ब्यूरो के कर्मचारी अंकित शर्मा पर हत्या का आरोप है। 

 

 

हिंसा को लेकर सोशल मीडिया में एक विडियो वायरल हो रही है, जिसमें कुछ उपद्रवी एक छत पर पत्थर और पेट्रोल बम से हमला करते नजर आ रहे है। कुछ लोगों को कहना है ये छत आप पार्षद ताहिर हुसैन का बताया जा रहा है।

 

ताहिर हुसैन ने इस मामले पर सफाई देते हुए कहा कि घटना के समय पर में घर पर ही नही था। मुझे नहीं पता मेरे घर के छत से कौन पेट्रल बम फेंक रहा था। 

अंकित शर्मा के घर वालों ने पूरे मामले को लेकर सीधा-सीधा आम आदमी पार्टी के पार्षद मौत के लिए जिम्मेदार है। परिवार के मुताबिक अंकित को पड़ोस में रहने वाले एक परिवार की मदद के लिए गया था। लेकिन उस वक्त जो घर से निकला उसके बाद वापस नहीं लोटा था। बाद में पास के नाले से अंकित का शव बरामद हुआ।  

घटना को लेकर आस-पास के रहने वाले लोगों का कहना है कि ताहिर हुसैन ही हिंसा फैलाने में बड़ा हाथ है। ताहिर का कहना है कि अंकित की मौत से में दुखी हुं। 

 

पुलिस ने अंकित का शव चांदबाग से बरामद किया था। अंकित शर्मा उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर के बुदाना क्षेत्र के रहने वाले है।

 

 

ताहिर हुसैन पर आरोप है कि उन्होने एक वीडियो जारी कर अफवाह फैलाई थी कि उनके घर पर हमला हुआ है। जबकि वीडियो के मुताबिक हमला उनकी छत से ही हो रहा था। अब इस वीडियो को लेकर अंकित शर्मा के मौत से तार जुड़ रहे है।  

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.