Thursday, Aug 11, 2022
-->
another-big-scam-in-pnb-after-nirav-modi-the-company-has-now-filed-a-fir-worth-rs-539-crore

सामने आया एक और PNB घोटाला, 539 करोड़ रुपये के फ्रॉड को लेकर जांच शुरू

  • Updated on 9/28/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल।  नीरव मोदी और मेहुल चोकसी की तरफ से 13500 करोड़ रुपए से ज्यादा का झटका खाने के बाद पंजाब नेशनल बैंक में एक और फ्रॉड का मामला सामने आया है। सीबीआई ने पीएनबी की शिकायत पर वीएमएस प्राइवेट लिमिटेड के डायरेक्टर्स व प्रोमोटर्स के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

वीएमएस प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के डायरेक्टर्स और प्रोमोटर्स के खिलाफ यह मामला 539 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी का है। इस संबंध में जांच एजैंसी ने वुप्पलटई हिमा़ बिंदु, वुप्पलटई वेंकट रामाराव और वटुला वेंकटरमन के खिलाफ  मामला दर्ज किया है। 

शेयर बाजार में बढ़त के साथ हुई शुरुआत, सेंसेक्स और निफ्टी में जारी उतार चढ़ाव

ये लोग कंपनी के डायरैक्टर व प्रोमोटर हैं। जांच एजैंसी ने इस मामले में एक्शन लेना भी शुरू कर दिया है। एजैंसी ने हैदराबाद में तीन जगहों पर छापे मारे हैं। नीरव मोदी मामले की तरह ही इस मामले में बैंक कर्मचारियों की मिलीभगत सामने आ रही है। बताया जा रहा है कि इन लोगों ने पीएनबी अधिकारियों की मदद से फंड डायवर्ट किया है।

बताया जा रहा है कि कुल 539 करोड़ रुपये के इस घोटाले में 296 करोड़ रुपये पीएनबी के हैं। पीएनबी ने इस धोखाधड़ी की शिकायत रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया से 18 जुलाई 2017 में की थी। फिलहाल इस मामले की जांच की जा रही है।

तेल के दाम में फिर हुई बढ़ोत्तरी, दिल्ली में इस रेट मिल रहा है पेट्रोल डीजल

देवघर में 48 करोड़ का काला धन किया सफेद, 3 गिरफ्तार
मुखौटा कंपनियों की आड़ में काले धन को सफेद करने के बड़े खेल का खुलासा हुआ है। इस सिलसिले में देवघर पुलिस ने 3 लोगों को कोलकाता से पकड़ा है। गिरफ्तार लोगों मोती साव, राजेश साव व विष्णु साव को ट्रांजिट रिमांड पर देवघर लाने की तैयारी है। देवघर की साहा इंटरप्राइजेज व ओम ट्रेडिंग नामक 2 कंपनियों के नाम पर सारा खेल हुआ है। इनके नाम पर 214 करोड़ के कारोबार का दावा किया गया लेकिन कारोबार के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति की गई। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.