Tuesday, Dec 06, 2022
-->
appeal to election commission to ban proposed ''''dharma sansad'''' in aligarh rkdsnt

अलीगढ़ में प्रस्तावित ‘धर्म संसद’ पर रोक लगाने के लिए चुनाव आयोग से अपील

  • Updated on 1/13/2022

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। देश के प्रमुख मुस्लिम संगठन जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने बृहस्पतिवार को निर्वाचन आयोग से आग्रह किया कि उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में अगले सप्ताह प्रस्तावित ‘धर्म संसद’ पर रोक लगाई जाए क्योंकि ‘इस आयोजन का मकसद चुनावों के सांप्रदायिक आरोप-प्रत्यारोप को सार्वजनिक विमर्श में लाना है।’ 

कोर्ट के कड़े रुख के बाद धर्म संसद मामले में जितेंद्र त्यागी उर्फ वसीम रिजवी गिरफ्तार

संगठन की ओर से जारी बयान के मुताबिक, जमीयत के प्रमुख मौलाना अरशद मदनी की ओर से आयोग के समक्ष ऑनलाइन प्रतिवेदन देकर इस आयोजन पर रोक लगाने की मांग की गई है। जमीयत का कहना है कि उसने अलीगढ़ के जिला अधिकारी से भी यह आग्रह किया है। इस मुस्लिम संगठन ने अपने प्रतिवेदन में इस बात का उल्लेख भी किया कि पिछले दिनों हरिद्वार में हुई ‘धर्म संसद’ में कथित तौर पर भड़काऊ भाषण दिए जाने के मामले में उच्चतम न्यायालय ने उत्तराखंड सरकार से जवाब मांगा है। 

भगवंत मान की अपील पर केजरीवाल बोले- जनता चुने CM पद के लिए AAP का चेहरा

उसने कहा कि विधानसभा चुनावों के समय ऐसे आयोजनों पर रोक लगाई जानी चाहिए। गौरतलब है कि ‘सनातन हिंदू सेवा संस्थान’ ने आगामी 22-23 जनवरी को अलीगढ़ के नौरंगाबाद स्थित सनातन भवन में ‘सनातन धर्म संसद’ के आयोजन का ऐलान किया है। हालांकि, जिला प्रशासन ने ऐसे किसी भी कार्यक्रम की जानकारी होने से इंकार किया है।   

  हरिद्वार में पिछले वर्ष 17 से 19 दिसंबर के बीच आयोजित धर्म संसद में वक्ताओं ने खुले मंच से कथित तौर पर नफरत भरा भाषण दिया था जिसको लेकर बड़ा विवाद खड़ा हुआ था। 

मौर्य, चौहान के बाद मंत्री सैनी ने भी दिया योगी कैबिनेट से इस्तीफा, सपा में जाने की अटकलें


 

comments

.
.
.
.
.