Friday, Dec 02, 2022
-->
appeal-to-nia-court-do-not-accept-the-application-of-navlakha-s-house-arrest-rkdsnt

NIA की कोर्ट से अपील- नवलखा को नजरबंद करने की अर्जी स्वीकार न करें

  • Updated on 4/5/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) ने मंगलवार को बंबई उच्च न्यायालय से एल्गार परिषद-माओवादी संबंध मामले जेल में बंद मानवाधिकार कार्यकर्ता गौतम नवलखा को कैद की जगह नजरबंद रखने संबंधी राहत न देने का आग्रह किया और कहा कि ऐसा किए जाने से मुश्किलें पैदा होंगी तथा उन्हें सोशल मीडिया का उपयोग करने से रोकने में दिक्कत होगी।  

सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की नीट-पीजी के लिए इंटर्नशिप की समयसीमा बढ़ाने से जुड़ी याचिका

 

    एनआईए के वकील अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल अनिल सिंह ने उस याचिका का विरोध किया जिसमें नवलखा ने खुद को नजरबंद रखे जाने का आग्रह किया है। सिंह ने कहा कि नवलखा द्वारा सोशल मीडिया या इंटरनेट का इस्तेमाल किया जाना घातक हो सकता है।     

ये बिल MCD के एकीकरण का बिल नहीं, 'केजरीवाल फोबिया बिल" है : संजय सिंह

उन्होंने कहा कि अगर अदालत ने मामले की सुनवाई पूरी होने तक नवलखा को जेल से बाहर स्थानांतरित करने और घर में नजरबंद रखने की अनुमति दी तो महाराष्ट्र और केंद्र सरकार के अधिकारियों को इस तरह के आदेश को लागू करने में कई कठिनाइयां होंगी।   

भागवत कथा वाचक मृदुल कृष्ण, उनकी पत्नी समेत 5 के खिलाफ मारपीट, लूटपाट का मामला दर्ज 

  अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि यदि नवलखा की यह अर्जी स्वीकार की गई तो अदालत में कैदियों की ओर से ऐसे अनुरोधों की बाढ़ आ जाएगी। इस पर नवलखा के वकील युग चौधरी ने कहा कि इस तरह की आशंका निराधार है।     

संसद समिति के समक्ष पेश हुईं SEBI अध्यक्ष माधवी पुरी

महाराष्ट्र सरकार ने भी नवलखा की याचिका का विरोध किया और न्यायमूॢत एसबी शुक्रे तथा न्यायमूर्ति जीए सनप की पीठ से कहा कि जेल अधिकारी कार्यकर्ता को आवश्यक चिकित्सा देखभाल प्रदान करेंगे।      उच्च न्यायालय ने नवलखा की याचिका पर फैसला सुरक्षित रख लिया।     

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.