Wednesday, Oct 05, 2022
-->
appearance on the skin of corona patients affect the virus

कोरोना मरीजों की स्किन पर ऐसे दिखता है वायरस का असर, पढ़ें रिपोर्ट

  • Updated on 5/3/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कोरोना वायरस का असर मरीज की स्किन पर भी पड़ता है। इस बारे में हाल ही में किए गये एक शोध की रिपोर्ट सामने आई है जो यह बताती है कि कोरोना वायरस के मरीजों की बॉडी पर लाल रंग के धब्बे, उभार या निशान मिलते हैं।

क्या कहते हैं डॉक्टर
इस बारे में स्पेन के कुछ डर्मटालॉजिस्ट ने बताया कि कोरोना वायरस के मरीजों की त्वचा में कई असामान्य लक्षण देखे जा रहे हैं। जो किसी कोरोना के टेस्ट को और पुख्ता बना देते हैं। डॉक्टरों ने ये भी बताया कि भले ही ये लक्षण कोरोना की पहचान हैं और बुरे हैं लेकिन इनसे एक पॉजिटिव जांच हो सकेगी।

चमगादड़ की बॉडी से एंटीबॉडी मिलने का वैज्ञानिकों ने किया दावा, जल्द बन सकेगा टीका!

हो सकती है एसिम्प्टोमैटिक की पहचान
डॉक्टरों ने कहा कि इससे कोरोना वायरस के उन मरीजों का पता लगाया जा सकता है जो टेस्ट के बाद भी नहीं पकड़े जा सकते या जिनमें लक्षण दिखाई नहीं देते और जिन्हें हम एसिम्प्टोमैटिक मरीज कहते हैं। स्किन पर दिखाई दे रहे इन लक्षणों ने कोरोना वायरस के ऐसे मरीजों की पहचान हो सकती है।

भारत में इलाज न मिलने से हो जाती है 10 में से 7 कैंसर मरीजों की मौत,पढ़ें और भी फैक्ट

दो हफ्तों की रही ये रिसर्च
स्पेन में हुई ये दो हफ्तों की रिसर्च में कोरोना संक्रमित लोगों के अलावा डॉक्टरों ने उन लोगों पर भी रिसर्च की जो स्किन से जुड़ी समस्याएं झेल रहे थे।

इस शोध के एक जानकर ने यह दावा किया कि कोरोना वायरस के शिकार हुए 19% लोगों के हाथ और पैरों पर छाले देखे गये हैं। इसके अलावा स्किन पर कई दूसरे तरह के अलग-अलग दाग-धब्बे दिखाई दिए हैं।

लॉकडाउन की दूसरी पारी भी होने वाली है समाप्त लेकिन भारत को इससे क्या मिला?

बॉडी में कहीं भी मिलते हैं ये लक्षण
इस शोध में यह दावा किया गया है कि कोरोना पॉजिटिव मरीज की बॉडी में सिर्फ हाथ और पैरों पर ही नहीं बल्कि इसे अलावा भी बॉडी के दूसरे हिस्सों में भी लाल रंग छाले हो सकते हैं। इस शोध के अनुसार 9% ऐसे मामले सामने आए हैं जहां शरीर के ऊपरी हिस्से में लाल रंग के छाले या दाने देखने को मिले हैं। इनकी खराब बात ये हैं कि ये खून से भरे होते हैं और ये छाले धीरे-धीरे बड़े हो सकते हैं।

भारत सरकार ने कोरोना के इलाज के लिए बनाई टास्क फोर्स, बताएगी कौनसी दवा होगी कारगार

यह भी हो सकता है इनका रूप
शोध के मुताबिक 19% मामलों में बॉडी पर लाल, गुलाबी या सफेद रंग के धब्बे देखें गये हैं। ये धब्बे या पित्त के जैसे दिखते हैं। इसके अलावा कोरोना के मरीजों में 47% मामलों में
मैक्युलोपैपुल्स जैसी प्रॉब्लम देखी गई है। इसमें बॉडी स्किन पर गहरे लाल रंग के निशान आने लगते हैं। ये कुछ कुछ वैसी है जैसे 'पाइरियासिस रोसी' जैसे गंभीर रोग में स्किन पर निशान आने लगते हैं।

कोरोना वायरस से लड़ने के लिए दुनिया को दक्षिण कोरिया से सीखना होगा

धब्बे आने का ये हो सकता है कारण
इस शोध में यह भी दावा किया गया है कि बॉडी पर आने वाले ये दाग/धब्बे या छाले स्किन पर वहां दिखाई देते हैं जहां रक्त वाहिकाओं का संचरण खराब होता है। यही वो वजह है जिसके कारण मरीज की स्किन का कलर गहरे लाल रंग का हो जाता है।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.