Friday, Sep 17, 2021
-->
aqi of delhi reached severe category, conditions worsened by rain pragnt

'गंभीर' श्रेणी में पहुंची राजधानी की AQI, बारिश से बिगड़े हालात

  • Updated on 12/28/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। देश की राजधानी दिल्ली (Delhi) की वायु गुणवत्ता एक बार फिर 'गंभीर' श्रेणी में चली गई। मौसम विभाग के अधिकारियों के मुताबिक यह स्थिति आसपास के इलाकों में हल्की बारिश की वजह से अधिक नमी होने से हुई है क्योंकि प्रदूषक भारी होकर सतह के ऊपर जमा हो गए।

दिल्ली मेट्रो में शुरू होगी NCMC कार्ड, जानें इसकी खासियत

'गंभीर' श्रेणी में पहुंची एयर क्वॉलिटी
दिल्ली का 24 घंटे का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) 396 था जो 'बेहद खराब' श्रेणी में आता है। हालांकि रात 10 बजे के बाद स्थिति में बदलाव आया और एक्यूआई बढ़कर 406 हो गया। गौरतलब है कि दिल्ली का 24 घंटे का औसत एक्यूआई शनिवार, शुक्रवार, बृहस्पतिवार, बुधवार और मंगलवार को क्रमश: 337, 357, 423, 433, और 418 दर्ज किया गया था।

किसान नेताओं ने किया साफ- आंदोलन में किसान छुट्टी मनाने के लिए नहीं बैठे हैं, बल्कि....

301 और 400 के बीच 'बेहद खराब' होता है AQI
बता दें कि शून्य से 50 के बीच एक्यूआई 'अच्छा', 51 और 100 के बीच एक्यूआई 'संतोषजनक', 101 और 200 के बीच एक्यूआई 'सामान्य' 201 और 300 के बीच एक्यूआई 'खराब', 301 और 400 के बीच एक्यूआई 'बेहद खराब' और 401 से 500 के बीच एक्यूआई 'गंभीर' की श्रेणी में आता है। क्षेत्रीय मौसम विभाग के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया कि पश्चिमी विक्षोभ की वजह से पड़ोसी इलाकों में हल्की बारिश हुई है जिसकी वजह से हवा में नमी बढ़ी है।

उन्होंने कहा, 'हवा में मौजूद पानी की बूंदे प्रदूषकों को और भारी बना देती है जिससे मध्यम गति से हवा बहने के बावजूद वे आसानी से नहीं बिखरते हैं।' श्रीवास्तव ने कहा कि दिन में इस स्थिति में आंशिक सुधार देखने को मिलेगा।

केजरीवाल ने कृषि कानूनों पर मनोज तिवारी का न्योता किया नजरअंदाज

आज से होगा ठंड से बुरा हाल
बता दें कि दो दिनों तक मिली ठंड से कुछ राहत के बाद अब पहाडों की बर्फबारी मैदानी इलाकों पर आफत बनकर आने वाली है। दरअसल मौसम विभाग का कहना है कि 28 दिसंबर से दिल्ली व अन्य मैदानी इलाकों में ठंड से बुरा हाल होने वाला है, लोगों की मुसीबत शीतलहरी भी बढाएगी। जिसकी वजह पहाडी इलाकों पर हुई बर्फबारी है। यही नहीं नए साल पर भी ठंड से राहत मिलने की कोई संभावना नजर नहीं आ रही है। 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें

comments

.
.
.
.
.