Monday, Jan 21, 2019

क्या आप तैयार हैं आने वाले नए साल के लिए?

  • Updated on 12/28/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। नया साल आने वाला है और इसी के साथ पुराने साल की सभी पुरानी खट्टी-मीठी यादें साथ रह जाएंगे। कुछ के लिए ये बीता साल खुशियों भरा रहा तो कुछ लोगों के लिए बीता साल बहुत कुछ सिखाने वाली। इन सबके बीच जो भी हो आने वाले साल को बेहतर बनाने के लिए सभी की कोशिश रहेगी। अगर आप भी नए साल की शुरुआत पॉजिटिविटी के साथ करना चाहते हैं तो कुछ जरुरी बातों का ध्यान रखकर नए साल का आगाज नए ताजगी और पॉजिटिविटी के साथ आगे बढ़ें। 

  • नए साल की शुरुआत के लिए जरुरी है कि पहले पिछले साल की सभी अच्छे और बुरे मोमेंट्स का याद करें और समझे कि आपने इस दौरान खुद के और जिदंगी के बारे में क्या सीखा। 
  • इस साल क्या ताकतें आपकी रही और साथ ही अपनी कमियों के बारे में सोचें और आने वाले साल में उन पर काम करने के बेहतर तकनीक बनाएं। ताकि आने वाले साल में पिछले साल की बीती बातों पर पछतावा ना रहे।
  • बीते साल में अगर किसी से कोई उलने रहीं हों या किसी ने आपके साथ गलत किया हो तो उन्हें माफ करते चलें। नए साल में पिछले साल की निगेटिविटी ना लेकर आगे बढ़ें। बीती बुरी बातों को भूलकर आगे बढ़ें। अपने फैसलों को स्वीकरें और पिछले बातों को निपटाने के साथ शांति बनाएं। 
  • नए साल की शुरुआत तरक्की की तरफ बढ़ने के साथ ही करें। छोटे-छोटे गोल बनाएं और नके सफल होने की साथ ही आपके स्वाभिमान को बढ़ाएगी। लेकिन ये भी मान कर चलें की इस रास्ते में कई बार हार भी मिलेगी लेकिन ये आपको कुछ ना कुछ सिखाएगा। सीखें और फिर से कोशिश करें।
  • अपने साथ अच्छे लोगों को जोड़कर रखें। ऐसे लोग जिंदगी में बहुत जरुरी हैं जिनके साथ आपने खुशी के पलों को बांट सकें। साथ ही कुछ गलत होने पर सही मार्गदर्शन कर सकें। बुरे दौर में भी साथ खड़े रहें ऐसे लोग कम ही मिलते हैं लेकिन अगर मिलें तो उन्हें साथ जोड़कर चलें।
  • वक्त के साथ चीजें सही होती जाती हैं ये सच है। तो संयम बनाएं रखें और गलतियां करने से ना डरें क्योंकि ये आपको सिखाती हैं। जो भी आप अपने लिए चुनतें हैं उसपर भरोसा रखें। सही समय आने पर आप सबकुछ पा सकेंगे। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.