Sunday, Dec 15, 2019
army chief general bipin rawat ignore pakistan deploying military forces loc jammu and kashmir

#LOC पर पाकिस्तान ने बढ़ाई सुरक्षा, सेना प्रमुख रावत ने नहीं दी तवज्जो

  • Updated on 8/13/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने जम्मू कश्मीर में नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पास पाकिस्तान द्वारा अतिरिक्त सैन्य बल तैनात किये जाने की खबरों को तवज्जो नहीं दी और कहा कि सेना क्षेत्र में किसी भी सुरक्षा चुनौती से निपटने के लिये तैयार है। सेना प्रमुख ने मंगलवार को कहा कि हर देश एहतियाती कदम उठाता है और एलओसी के पास पाकिस्तान द्वारा अतिरिक्त बल की तैनाती को लेकर ङ्क्षचता वाली कोई बात नहीं है।

15 अगस्त विशेष: नारे, जिन्होंने आजादी में दिया अहम योगदान

एक कार्यक्रम से इतर जनरल रावत ने कहा, ‘‘यह सामान्य बात है। हर कोई एहतियातन तैनाती करता है और सैन्य गतिविधि बढ़ाता है। इस बारे में हमें अधिक ङ्क्षचतित नहीं होना चाहिए।’’ जम्मू कश्मीर से विशेष दर्जा वापस लिये जाने और राज्य को दो केंद्र शासित क्षेत्रों में विभाजित किये जाने के भारत के फैसले के बाद एलओसी के पास पाकिस्तान द्वारा सुरक्षा बढ़ाये जाने को लेकर जनरल रावत से सवाल पूछा गया था। 

फारूक, उमर अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती के लिए खामोशी में गुजरा ईद का त्योहार

सेना प्रमुख ने कहा कि एलओसी के पास किसी भी सुरक्षा चुनौतियों से निपटने के लिये सेना तैयार है। उन्होंने कहा, ‘‘जहां तक सेना और कर्तव्य का संबंध है तो कुछ भी गलत होने की स्थिति में हम लोग हमेशा ही तैयार रहते हैं।’’ क्या आगामी दिनों में एलओसी के पास युद्ध की स्थिति बनने वाली है, इस बारे में पूछे जाने पर जनरल रावत ने कहा कि इसका चयन पाकिस्तान के हाथ में हैं।

 कश्मीर के लिए CRPF की ‘मददगार’ हेल्पलाइन फिर से शुरू

सेना प्रमुख ने कहा, ‘‘अगर पाकिस्तान एलओसी पर गतिविधि तेज करता है तो यह उसका चयन है।’’ ऐसी खबरें हैं कि पाकिस्तान सेना एलओसी पर बड़ी तोपों की तैनाती कर रहा है। जम्मू कश्मीर पर भारत के फैसले के मद्देनजर पाकिस्तान के किसी भी संभावित खतरे की आशंका को देखते हुए एलओसी के पास सेना को हाई अलर्ट पर रखा गया है।

सीताराम येचुरी ने कश्मीर और केरल बाढ़ पर अमित शाह पर साधा निशाना

केंद्र के फैसले के बाद जम्मू कश्मीर में किसी भी असैन्य अशांति को नाकाम करने के लिये सेना के शीर्ष कमांडर क्षेत्र में संपूर्ण सुरक्षा हालात पर नजर रखे हुए हैं।      सूत्रों ने बताया कि सरकार के फैसले के बाद पाकिस्तान कश्मीर घाटी में हिंसा में इजाफा, आईडी विस्फोट और फिदायीन हमले समेत वहां अशांति बढ़ाने का प्रयास कर सकता है।

इसरो ने किया खुलासा - कब चंद्रमा की कक्षा में पहुंचेगा चंद्रयान-2

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.