Wednesday, Apr 01, 2020
army doesnt want police paramilitary forces copying its uniform delhi violence bjp kejriwal

सेना के अलावा फौजी वर्दी पहनने पर लगेगी रोक, जानिए क्या कहता है भारतीय कानून…

  • Updated on 2/27/2020

नई दिल्ली/प्रियंका। भारतीय सेना ने केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (Central Armed Police Forces) और राज्य पुलिस कर्मियों के फौजी वर्दी पहनने पर चिंता जताई है। सेना ने इस संबंध में रक्षा और गृह मंत्रालय को दिशानिर्देश जारी करने के लिए कहा है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि राज्य पुलिस बल और केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (CAPF) युद्द के दौरान पहने जाने वाली खास पैटर्न वाली वर्दी को नहीं पहने।

दिल्ली हिंसाः अरविंद केजरीवाल ने बुलाई हाई लेवल मीटिंग, हो सकता है बड़ा ऐलान

दिशा-निर्देश देने की जरूरत क्यों? 
दिल्ली हिंसा के दौरान 23 फरवरी को सशस्त्र बल के जवानों ने सेना से मिलती-जुलती वर्दी पहनी थी। सेना का मानना है कि ऐसा करने से जनता इस वर्दी और सेना की वर्दी में अंतर नहीं कर पाती और इससे ये भ्रम फैलता है कि इलाकों में ड्यूटी कर रहे लोग आर्मी के जवान हैं और इलाके के हालात गंभीर हैं, इसलिए सुरक्षा के लिए सेना की सहायता लेनी पड़ रही है। 

दरअसल, वर्दी में मामूली अंतर को आम नागरिक पहचान नहीं पाते हैं और उन्हें ऐसा भ्रम होता है कि सेना को आंतरिक सुरक्षा, वीवीआईपी की सुरक्षा या चुनाव ड्यूटी में लगा दिया गया है। इससे सेना की छवि पर असर पड़ता है।

#DelhiRiots2020: गृह मंत्री शाह को हटाने के लिए सोनिया- मनमोहन ने राष्ट्रपति से लगाई गुहार

सेना ने लिखा रक्षा मंत्रालय को पत्र
इस बारे में पहले भी सेना ने रक्षा मंत्रालय को पत्र लिखकर ये मांग की है कि देश में कानून व्यवस्था संभालने के लिए तैनात किये गये केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (CAPF) को फौजी वर्दी पहनने से परहेज करना चाहिए। 2016 में मंत्रालय ने सेना से मिलती-जुलती वर्दी बेचने के लिए माना किया था लेकिन इसका कोई औपचारिक निर्देश जारी नहीं हुआ। 

सूत्रों के अनुसार, इस बारे में सोमवार को भी एक पत्र लिखा गया जिसमें कहा गया है कि इन बलों को सेना जैसी वर्दी का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। साथ ही बाजारों में सेना जैसी वर्दी की बिक्री पर नियम बनाने पर भी जोर दिया जाये। इसकी तैनाती लॉ एंड ऑर्डर की स्थिति को संभालने के लिए की जाए। 

मायावती ने दिल्ली हिंसा को लेकर केजरीवाल-शाह पर साधा निशाना

जारी हो चुकी है एडवाइजरी 
बता दें इससे पहले 2004 में जब ये मुद्दा सामने आया था, तब रूटीन के कामों के लिए और चुनाव की ड्यूटी के दौरान राज्यों की पुलिस और CAPF ने सेना से मिलती-जुलती पोशाक पहनी थी। तब रक्षा मंत्रालय ने गृह मंत्रालय के सामने इस मुद्दे को उठाया था, जिसके बाद गृह मंत्रालय ने एडवाइजरी जारी करते हुए कहा कि CAPF को ऐसे ड्रेस नहीं पहनने चाहिए।

दिल्ली का हिंसक प्रदर्शन दुखद, हालात पर पाया जाए काबू: UN सेक्रटरी

क्या कहता है कानून 
सेना की युद्द के दौरान पहने जाने वाली वर्दी को यदि कोई और पहने तो उसके खिलाफ भारतीय कानून में प्रावधान मौजूद हैं। भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा-171 के अनुसार, अगर कोई अनाधिकृत तरीके से आर्मी, नेवी, एयरफोर्स की वर्दी या उसके जैसी दिखने वाली वर्दी पहनते हैं तो उनके खिलाफ धारा-171 के तहत मामला दर्ज किया जा सकता है। 

इसके अलावा धारा 21, प्राइवेट सिक्योरिटी एजेंसी एक्ट 2005 के तहत अगर कोई सुपरवाईजर, सिक्योरिटी गार्ड आर्मी, नेवी, एयरफोर्स की वर्दी या उसके जैसी दिखने वाली को पहनता है तो उसे जेल और जुर्माना दोनों हो सकते हैं।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.