Friday, Sep 30, 2022
-->
army-s-operational-capability-will-not-be-affected-by-agneepath-plan-army-chief-gen-pandey

अग्निपथ योजना से सेना की परिचालन क्षमता प्रभावित नहीं होगी : थल सेना प्रमुख जनरल पांडे 

  • Updated on 6/14/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। थल सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे ने मंगलवार को कहा कि ‘अग्निपथ’ योजना के क्रियान्वयन के चलते चीन और पाकिस्तान की सीमाओं के पास सेना की परिचालन क्षमताओं और तैयारियों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।       केंद्र सरकार ने मंगलवार को थल सेना, नौसेना और वायुसेना में सैनिकों की भर्ती के लिए एक नयी ‘अग्निपथ योजना’ का ऐलान किया। इसके तहत बढ़ते वेतन और पेंशन खर्च को कम करने के लिए संविदा के आधार पर अल्पकाल के लिए सैनिकों की भर्ती की जएगी, जिन्हें ‘अग्निवीर’ कहा जाएगा।   

दिल्ली की अदालत ने लॉरेंस बिश्नोई की ट्रांजिट रिमांड पंजाब पुलिस को प्रदान की

    जनरल पांडे ने प्रेसवार्ता के दौरान कहा, ‘‘मैं आपको आश्वस्त करना चाहता हूं कि अग्निपथ योजना के कार्यान्वयन के दौरान सीमाओं पर सेना की परिचालन क्षमता और तैयारियां तथा आंतरिक सुरक्षा चुनौतियों से निपटने की उसकी क्षमता पूरी तरह से बरकरार रहेगी।’’   

10 लाख भर्ती के ऐलान पर आशांकित मायावती बोलीं- कहीं नया चुनावी छलावा तो नहीं है?

  यह पूछे जाने पर कि क्या नयी योजना के लागू होने से चीन और पाकिस्तान से लगी सीमाओं पर सेना की तैयारियां प्रभावित होंगी, उन्होंने जोर दिया कि समग्र सैन्य तैयारियों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।   

 नुपुर शर्मा के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी में टीवी पत्रकार भी नामजद: महाराष्ट्र पुलिस

  सेना प्रमुख ने कहा कि उन्हें पूरा भरोसा है कि भर्ती प्रक्रिया में बदलाव से बल में ‘‘नया जोश और आत्मविश्वास’’ आएगा।      सशस्त्र बलों में इस साल 46,000 अग्निवीरों की भर्ती की जाएगी। योजना के तहत भर्ती के लिए प्रक्रिया 90 दिनों के भीतर शुरू की जाएगी।   

राहुल गांधी ने 10 लाख नौकरियों पर कहा- यह ‘महा जुमलों’ की सरकार है

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.