Wednesday, May 12, 2021
-->
arnab goswami breaks silence growing amid congress opposition attacks whatsapp chat rkdsnt

अर्नब ने विपक्ष के बढ़ते हमलों के बीच तोड़ी चुप्पी, निशाने पर पाक और कांग्रेस

  • Updated on 1/18/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। टेलीविजन रेटिंग एजेंसी बीएआरसी के पूर्व सीईओ पार्थ दासगुप्ता से कथित व्हाट्सऐप चैट को लेकर ‘रिपब्लिक टीवी’ के प्रधान संपादक अर्णब गोस्वामी ने चुप्पी तोड़ दी है। अपनी सफाई में गोस्वामी ने जहां पाकिस्तान और मीडिया पर भड़ास निकाली है। वहीं, केंद्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह के इंटरव्यू को ढाल के रूप में इस्तेमाल किया है। वहीं कांग्रेस को भी आड़े हाथ लिया।

संयुक्त सचिव लव अग्रवाल के छोटे भाई की लाश यूपी के सहारनपुर में मिली

अपने प्रेस नोट में अर्नब लिखते हैं, रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के खिलाफ पाकिस्तान का षडयंत्र सामने आ चुका है। इमरान खान, आईएसआई की एक कठपुतली और एक आतंकी देश का प्रधानमंत्री, रिपब्लिक नेटवर्क  और मेरे खिलाफ बयान दे रहा है। साथ ही पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय से भी यही काम करवा रहा है। 

अर्नब गोस्वामी के खिलाफ कांग्रेस ने खोला मोर्चा, निशाने पर मोदी सरकार

ट्रैक्टर रैली निकालना किसानों का संवैधानिक अधिकार है: किसान संगठन

कुछ बातों को यहां साफ करने की जरुरती है। पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान के खिलाफ भारत की कार्रावाई आधिकारिक तौर पर संभावित थी। किसी भी राष्ट्रव्यापी भारतीय के मन में कोई संदेह नहीं थी कि भारत बदला लेगा, जो भारत ने लिया भी।

तांडव पर बढ़ते विवाद के बाद बढ़ाई गई अमेजन, सैफ अली के ऑफिस की सुरक्षा

इमरान खान ने बालाकोट स्ट्राइक को नकारने की कोशिश की थी, लेकिन बाद में स्वीकारना पड़ा। बालाकोट स्ट्राइक को लेकर कोई कॉल्स फ्लैग नहीं थी। ये पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद के खिलाफ सीधा और जरुरी कार्रवाई थी। 

अर्णब गोस्वामी, दासगुप्त के बीच हुई कथित व्हाट्सऐप चैट पर NCP ने की JPC की मांग

मैं इसे देखकर हैरान हूं कि किस तरह पाकिस्तानी एजेंडे को मजबूत करने के लिए वाड्रा कांग्रेस और रिपब्लिक विरोधी मीडिया एक साथ है। हर भारतीय पुलवामा हमले का बदला चाहता था, लेकिन फिर भी कुछ मीडिया चैनल बेशर्मी से सवाल उठा रहे हैं कि रिपब्लिक ने ये सब क्यों दिखाया। ये राष्ट्रीय हित के लिए आघात है जब रिपब्लिक का विरोध करने वाले चैनल आईएआई और इमरान खान की भाषा बोलते हैं।

नसीरूद्दीन शाह ने धर्म के आधार पर विभाजन पैदा करने वालों को लिया आड़े हाथ

 

 

 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.